ताज़ा खबर
 

फेसबुक काउंसिल ने सुप्रीम कोर्ट में कहा- जिन्हें नई प्राइवेसी पॉलिसी से है दिक्कत, वो छोड़ सकते हैं WhatsApp

फेसबुक के काउंसिल के के वेनुगोपाल ने कहा यूजर्स व्हाट्सऐप और फेसबुक दोनों ही प्लेटफॉर्म छोड़ सकते हैं
व्हाट्सऐप सांकेतिक तस्वीर (Photo Souce: Jansatta/Vishal)

सबसे बड़ी मैसेजिंग ऐप व्हाट्सऐप के स्वामित्व वाले फेसबुक ने कहा है कि जिन यूजर्स व्हाट्सऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी से दिक्कत है वह इसे छोड़ सकते हैं। फेसबुक ने यह बयान सुप्रीम कोर्ट में दिया। व्हाट्सऐप काउंसिल कपिल सिब्बल ने कोर्ट को विश्वास दिलाया कि इस प्लेटफॉर्म पर की जाने वाली वॉयस कॉल और मैसेज end-to-end इनक्रिप्टेड होते हैं, जिन्हें कोई और नहीं पढ़ सकता। हालांकि, उन्होंने कहा कि चूंकि यूजर और व्हाट्सऐप के बीच प्राइवेट डोमेन में कॉन्ट्रैक्ट होता है, ऐसे में संवैधानिक रूप से सुप्रीम कोर्ट द्वारा पॉलिसी को टेस्ट नहीं किया जा सकता।

बता दें कि 2016 में व्हाट्सऐप नई प्राइवेसी पॉलिसी लेकर आया है, जिसमें यूजर्स का डेटा फेसबुक के साथ साझा किया जाएगा। याचिकाकर्ताओं का कहना है कि यह पॉलिसी यूजर की निजता पर सवाल खड़े करती है और इससे न सिर्फ यूजर का ब्यौरा, बल्कि उसकी बातचीत भी गलत हाथों में जा सकती है। जहां कपिल सिब्बल ने कोर्ट के आगे कानूनी तथ्य रखे, वही फेसबुक के काउंसिल के के वेनुगोपाल ने कह डाला कि जिन्हें भी व्हाट्सऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी मौलिक अधिकार का हनन लगती है वो ये ऐप छोड़ सकते हैं। वेनुगोपाल ने यहां तक कहा कि यूजर्स व्हाट्सऐप और फेसबुक दोनों ही प्लेटफॉर्म छोड़ सकते हैं।

मामले की सुनवाई जस्टिस दीपक मिस्रा, एके सिकरी, अमित्व रॉय, एएम खानविल्कर और एमएम शांतनागौदर की बेंच कर रही थी। सुप्रीम कोर्ट ने पांच अप्रैल को व्हाट्सएप प्राइवेसी मामले में सुनवाई के लिए पांच जजों की कंस्टीट्यूशनल बेंच बनाने का फैसला किया था। मामले की अगली सुनवाई 15 मई को की जाएगी।

खत्म हुआ बाहुबली 2 का इंतजार; थियेटर के बाहर दर्शकों की भारी भीड़

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.