ताज़ा खबर
 

आपके कंप्‍यूटर और मोबाइल को साइबर अटैक से बचाएगी मोदी सरकार, यहां से डाउनलोड करें फ्री ऐप

इस सरकारी वेबसाइट में सॉल्यूशन के तौर पर सिक्योरिटी टूल्स का विकल्प दिया गया है। जिसमें फ्री बोट रिमूवल टूल के रूप में क्विक हील का लिंक दिया गया। इस लिंक पर क्लिक करके ऐप को डाउनलोड किया जा सकता है।
Author नई दिल्ली | February 21, 2017 20:02 pm
सरकारी वेबसाइट ‘साइबर स्वच्छता केंद्र’ लॉन्च। (Representative Image)

अपने डेस्कटॉप, लैपटॉप, मोबाइल फोन सुरक्षित रखने के लिए अब गूगल प्ले स्टोर के साथ नई लॉन्च हुई सरकारी वेबसाइट ‘साइबर स्वच्छता केंद्र’ से भी डाउनलोड कर सकते हैं। भारत सरकार के ‘डिजिटल इंडिया’ अभियान के तहत मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स ऐंड इन्फर्मेशन टेक्नॉलजी ने ‘साइबर स्वच्छता केंद्र’ नाम की वेबसाइट लॉन्च की। सरकार ने अपने कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (सीईआरटी-इन) के माध्यम से अपने botnet सफाई केंद्र और मैलवेयर विश्लेषण केंद्र के रूप में नागरिकों के लिए नया डेस्कटॉप और मोबाइल सुरक्षा के समाधान के लिए वेबसाइट शुरू की है। इसे साइबर स्वच्छता केंद्र (https://www.cyberswachhtakendra.gov.in/) नाम दिया गया है।

इस सरकारी वेबसाइट में सॉल्यूशन के तौर पर सिक्योरिटी टूल्स का विकल्प दिया गया है। जिसमें फ्री बोट रिमूवल टूल के रूप में क्विक हील का लिंक दिया गया। इस लिंक पर क्लिक करके ऐप को डाउनलोड किया जा सकता है। इसके अलावा यूएसबी प्रतिरोध (USB Pratirodh), ऐप समविद (AppSamvid), मोबाइल सिक्योरिटी के लिए एम-कवच (M-Kavach) तथा एचटीएमएल और जावास्क्रिप्ट के अटैक से बचने के लिए वेब ब्राउजर Browser JSGuard का लिंक दिया गया है। M-Kavach ऐप वाई-फाई, ब्लू-टूथ और कैमरा से जुड़े हमले में कारगर साबित हो सकता है। सरकारी साइट पर मौजूद सारे सॉल्यूशन फ्री है।

यह वेबसाइट यूजर्स को इन्फर्मेशन और टूल्स मुहैया करवाती है ताकि वे अपने सिस्टम्स और डिवाइसेज को सुरक्षित रख सकें। इसके अलावा वेबसाइट पर सिक्योरिटी बेस्ट प्रेक्टिसेस का विकल्प दिया है। जिसमें फोन, डेस्कटॉप, ब्रॉडबैंड, यूएसबी, मोबइल सिक्योरिटी से जुड़ी जानकारी दी गई है। वेबसाइट को लॉन्च करते हुए सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा, मैं इंटरनेट सेवाप्रदाताओं से आग्रह करना चाहूंगा कि वह अपने ग्राहकों को इस सुविधा से जुड़ने के लिए प्रेरित करें। यह एक मुफ्त सेवा है। ग्राहक आएं और इस सेवा का उपयोग करें।

साइबर स्वच्छता केंद्र के नाम से शुरू की गई इस सेवा के तहत देश में साइबर सुरक्षा की निगरानी करने वाली संस्था कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम सर्टइन प्रभावित कंप्यूटर और मोबाइलों का डाटा एकत्रा करेगी और उन्हें इंटरनेट सेवाप्रदाताओं और बैंकों के पास भेजेगी। यह इंटरनेट सेवाप्रदाता और बैंक उपयोगकर्ता की पहचान करेंगे और उन्हें इस केंद्र का एक लिंक मुहैया कराएंगे जिसकी मदद से वह इस सेवा का लाभ उठा सकेंगे।

वीडियो: रिलायंस जियो प्राइम ऑफर: 99 रुपए में मिलेगी मेंबरशिप, जानिए ऑफर के बारे में

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.