Airtel, VIL पर डॉट ने लगाया 3,050 करोड़ रुपए का जुर्माना, कोर्ट में जाएगी एयरटेल

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने अक्टूबर 2016 में रिलायंस जियो को इंटर-कनेक्टिविटी से इनकार करने के लिए एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया पर कुल 3,050 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाने की सिफारिश की थी।

Telecom, Airtel, VIL
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Pixabay)

दूरसंचार विभाग (डॉट) ने नियामक ट्राई की पांच साल पुरानी सिफारिश के आधार पर वोडाफोन आइडिया पर 2,000 करोड़ रुपये और भारती एयरटेल पर 1,050 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। एक सूत्र ने बृहस्पतिवार को कंपनियों को दिए गए मांग नोटिस से जुड़ी सामग्री को साझा करते हुए कहा कि दूरसंचार विभाग ने जुर्माना देने के लिए दूरसंचार परिचालकों को तीन सप्ताह का समय दिया है।

इस बारे में संपर्क करने पर भारती एयरटेल के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हम एक नए परिचालक को पॉइंट ऑफ इंटरकनेक्ट के प्रावधानों से संबंधित 2016 की ट्राई की सिफारिशों के आधार पर मनमानी और अनुचित मांग से बहुत निराश हैं। ये आरोप बेबुनियाद हैं।’’ उन्होने कहा, ‘‘भारती एयरटेल अनुपालन के उच्च मानकों को बनाए रखने में गर्व महसूस करती है और हमेशा देश के कानून का पालन करती है। हम मांग को चुनौती देंगे और हमारे पास उपलब्ध कानूनी विकल्पों को आगे बढ़ाएंगे।’’

वोडाफोन आइडिया की ओर से तत्काल कोई टिप्पणी नहीं मिली। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने अक्टूबर 2016 में रिलायंस जियो को इंटर-कनेक्टिविटी से इनकार करने के लिए एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया पर कुल 3,050 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाने की सिफारिश की थी।
नियामक ने उस समय यह कहते हुए दूरसंचार लाइसेंस रद्द करने की सिफारिश नहीं की थी, क्योंकि इससे उपभोक्ता को काफी असुविधा हो सकती है।

ट्राई की सिफारिश रिलायंस जियो की शिकायत पर आई थी। जियो ने कहा था कि उसके नेटवर्क पर 75 प्रतिशत से अधिक कॉल नहीं लग रही थीं, क्योंकि पर्याप्त संख्या में इंटरफेस (पीओआई) जारी नहीं किए जा रहे थे। दूरसंचार विभाग की शीर्ष निर्णय लेने वाली संस्था डिजिटल संचार आयोग ने जुलाई 2019 में इस जुर्माने को मंजूरी दी थी।

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 500 अंक से अधिक टूटा, निफ्टी 17,500 से नीचे: विदेशी कोषों द्वारा लगातार बिकवाली और वैश्विक बाजारों में कमजोर रुख के बीच एचडीएफसी, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और इंफोसिस जैसे प्रमुख शेयरों में गिरावट के चलते प्रमुख शेयर सूचकांक सेंसेक्स शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में 500 अंक से अधिक गिर गया। इस दौरान 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 500.67 अंक या 0.85 प्रतिशत की गिरावट के साथ 58,625.69 पर था।

इसी तरह निफ्टी 150.40 अंक या 0.85 फीसदी टूटकर 17,467.75 पर आ गया। सेंसेक्स में सबसे अधिक दो प्रतिशत की गिरावट मारुति में हुई। इसके अलावा एचडीएफसी बैंक, बजाज फिनसर्व, आईसीआईसीआई बैंक, भारती एयरटेल और एचडीएफसी भी गिरने वाले शेयरों में शामिल थे। दूसरी ओर पावरग्रिड, एनटीपीसी, बजाज ऑटो, एमएंडएम और डॉ रेड्डीज बढ़त के साथ कारोबार कर रहे थे।

पढें टेक्नोलॉजी समाचार (Technology News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट