ताज़ा खबर
 

फॉक्सवैगन की मुश्किलें बढ़ीं, इलेक्ट्रिक कारों में कैंसर पैदा करने वाला मटेरियल, टेस्ट में खुलासा

जर्मन में फॉक्सवैगन गोल्फ जीटीई काफी पॉपुलर है। कैडमियम लगे होने के कारण इसे भी काफी प्रभाव पड़ सकता है। इलेक्ट्रिक कारों का निर्माण ड्रेसडेन में ग्लास फैक्ट्री और ट्रांसपोर्ट फैक्ट्री द्वारा किया जाता है, इसी फैक्ट्री में फैंटम का निर्माण किया गया था।

फॉक्‍सवैगन गोल्फ जीटीई (फोटो सोर्स- वीडियो स्क्रीनशॉट)

डीजल गेट उत्सर्जन घोटाले के बाद अब फॉक्सवैगन के सामने नई मुश्किल खड़ी होती नजर आ रही है। जर्मन कार मेकर फॉक्सवैगन नए विवाद में घिरता नजर आ रहा है और इस बार मामला इलेक्ट्रिक कारों से संबंधित है। रिपोर्ट्स के मुताबिक फॉक्सवैगन की इलेक्ट्रिक कारों में कैंसर पैदा करने वाला मटेरियल पाया गया है। एक टेस्ट में खुलासा हुआ है कि फॉक्‍सवैगन की इलेक्ट्रिक कारों के चार्जिंग सिस्टम में 0.008 ग्राम कैडमियम पाया गया है, जो कि इंसान की सेहत के लिए हानिकारक है। इस मटेरियल से व्यक्ति को कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है। इस टेस्ट के बाद अब फॉक्‍सवैगन को 1.24 लाख इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड कारों को रिकॉल करना पड़ सकता है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक 2013 से 2018 के बीच बनी फॉक्सवैगन की ऑडी और पोर्शे की कुछ इलेक्ट्रिक कारों के चार्जिंग सिस्टम में कैडमियम मटेरियल का इस्तेमाल हुआ है। इस बात का पता Wolfsburg ग्रुप ने लगाया और जुलाई में अथॉरिटी को इसकी जानकारी दी गई। खैर कंपनी का कहना है कि इस मटेरियल से कारों के ड्राइवर्स को कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा, क्योंकि इसे अच्छी तरह के इंसुलेट किया गया है, लेकिन यह मटेरियल पर्यावरण को खासा नुकसान पहुंचा सकता है।

जर्मन में फॉक्सवैगन गोल्फ जीटीई काफी पॉपुलर है। कैडमियम लगे होने के कारण इसे भी काफी प्रभाव पड़ सकता है। इलेक्ट्रिक कारों का निर्माण ड्रेसडेन में ग्लास फैक्ट्री और ट्रांसपोर्ट फैक्ट्री द्वारा किया जाता है, इसी फैक्ट्री में फैंटम का निर्माण किया गया था। रिपोर्ट सामने आने के बाद इन इलेक्ट्रिक कारों के प्रोडक्शन को रोका नहीं गया, बल्कि कैडमियम की जगह ऐसे मटेरियल का इस्तेमाल किया जा रहा है जो कैंसर का कारक नहीं है। बता दें कि कुछ दिन पहले मारुति सुजुकी ने भारत में नई जनरेशन स्विफ्ट और डिजायर मॉडल को अपनी मर्जी से रिकॉल किया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक कंपनी ने एयरबैग कंट्रोल यूनिट में संभावित फॉल्ट के चलते ऐसा किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App