ताज़ा खबर
 

क्रैश टेस्ट में Renault Kwid को जीरो नंबर, तीन-तीन सुरक्षा मानकों में फेल हुई कार

भारत में सर्वाधिक बिकने वाली कारों की सूची में शामिल रेनो क्विड कार क्रैश टेस्ट में फेल साबित हुई है। व्हीकल सेफ्टी ग्रुप ASEAN NCAP ने अपने टेस्ट में इस कार को जीरो रेटिंग कार का दर्जा दिया है।

Author नई दिल्ली | July 12, 2018 11:12 AM
क्रैश टेस्ट में Renault Kwid हुई फेल।

भारत में सर्वाधिक बिकने वाली कारों की सूची में शामिल रेनो क्विड कार क्रैश टेस्ट में फेल साबित हुई है। व्हीकल सेफ्टी ग्रुप ASEAN NCAP ने अपने टेस्ट में इस कार को जीरो रेटिंग कार का दर्जा दिया है। छोटी गाड़ियों में सबसे लोकप्रिय मानी जाने वाली इस कार की जीरो रेटिंग इसके शौकीनों को निराश करने वाली है। आठ सौ से एक हजार सीसी में उपलब्ध इस कार की कीमत देश में 2.65 लाख से लेकर 4.31 लाख रुपये है।

भारत में बिकने वाली इस प्रमुख कार की तीन कटेगरी में टेस्टिंग हुई। चौंकाने वाली बात रही कि तीनों कटेगरी में यह कार फेल हुई। आसियान एनकैप ने बताया कि कार को सेफ्टी असिस्ट टेक्नोलॉजिज(एसएटी) कैटेगरी में शून्य अंक मिले। वहीं एडल्ट ऑक्यूपैंट प्रोटेक्शन(एओपी) और चाइल्ड ऑक्यूपैंट प्रोटेक्शन(सीओपी) में भी बहुत कम अंक हासिल हुए। तीनों वर्ग में प्रदर्शन को देखने के बाद आसियान एनकैप ने सिर्फ 24.68 रन ही दिए। वहीं एसएटी कैटेगरी में एक भी अंक न मिलने पर कार को जीरो रेटिंग का दर्जा मिला। संस्था ने कार की कमियों के बारे में बताते हुए कहा कि इसमें सिर्फ एक ही एयरबैग है, जो केवल चालक के लिए है। वहीं अंदर कोई आइसोफिक्स नहीं है, जिससे बच्चों की सुरक्षा के लिए एकमात्र उपाय के तौर पर सिर्फ सीटबेल्ट ही बचता है।

आसियान एनकैप ग्रुप ने इस बात पर बेहद निराशा जाहिर की है कि रेनो क्विड कार उस आसियान क्षेत्र में सबसे ज्यादा बिक रही हैं, जहां सड़क हादसों में सबसे ज्यादा मौतें होती हैं। ऐसे में सेफ्टी के लिहाज से खराब कारों को आसियान क्षेत्र में नहीं उतारा जाना चाहिए। सेक्रेटरी जनरल डेविड वार्ड ने कहा कि रेनो ने लैटिन अमेरिका में काफी सुरक्षित कारें उतारी हैं, फिर दक्षिण एशिया में कंपनी घटिया कारें क्यों उतार रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App