ताज़ा खबर
 

सावधानी से पहनें कांटेक्ट लेंस

अस्पताल में मरीज को कॉन्टैक्ट लेंस से जुड़ी सावधानियों और सफाई के साथ उसके प्रयोग को भी सिखाया जाता है।

कॉन्टैक्ट लेंस पर खरोंच न पड़े, इसके लिए बाहर निकलते समय धूप के चश्मे का प्रयोग जरूर करें।

पिछले कई सालों से चश्मे की जगह कॉन्टैक्ट लेंस का चलन बढ़ा है। यह चश्मे की अपेक्षा ज्यादा बेहतर ढंग से देखने में मदद करता है। यह झुकने, नाचने और खेलते समय चश्मे की तरह गिरता भी नहीं और आपको स्टाइलिश लुक भी देता है। यही कारण है कि आज इसे युवा, खिलाड़ी, मॉडल और फिल्मी सितारें पसंद करते हैं।

चश्मे से ज्यादा आरामदायक

शुरू-शुरू में इसे पहनना कोई जंग जीतने जैसा है, लेकिन जितना आप इसे पहनने और उतारने का अभ्यास करते हैं यह चश्मे से कहीं ज्यादा आरामदायक और सुविधाजनक होता है। कॉन्टैक्ट लेंस पर खरोंच न पड़े, इसके लिए बाहर निकलते समय धूप के चश्मे का प्रयोग जरूर करें।

कई तरह के लेंस

आज बाजार में कई तरह के कॉन्टैक्ट लेंस मौजूद है। जहां पहले कॉन्टैक्ट लेंस बहुत कड़े होते थे, वहीं आज का जमाना लचीले यानी सॉफ्ट लेंस का है। सॉफ्ट लेंस में भी विविधता और कई ब्रांड हैं।

अधिकतर लेंस तीन में से किसी एक श्रेणी में आते हैं- रोज पहनने और उतार फेंकने वाले यानी डिस्पोस डेली, हफ्ते भर उपयोग के यानी डिस्पोस सेमी- वीकली, या फिर महीने भर तक चलने वाले यानी डिस्पोस मंथली। कॉन्टैक्ट लेंस का इस्तेमाल निर्धारित अवधि तक ही करना चाहिए। अवधि समाप्त हो जाने के बाद इसका उपयोग बंद कर देना चाहिए, अन्यथा आंखों में संक्रमण हो सकता है। बाजार में रंग-बिरंगे कॉन्टैक्ट लेंस भी मौजूद है, जिसे लोग फैशन के हिसाब से इस्तेमाल करते हैं।

पहनने से पहले करें तैयारी

कॉन्टैक्ट लेंस को पहनने से पहले थोड़ी तैयारी करनी होती है। सबसे पहले लेंस होल्डर और सलूशन बोतल को बाहर निकाल कर रखें। फिर हाथों को साबुन से अच्छी तरह धोकर साफ तौलिए से पोछ लें। अब लेंस होल्डर खोलकर पहले एक लेंस को निकालें, उसे हथेली के बीच में रख कर सलूशन डालें फिर तर्जनी अंगुली की मदद से पांच बार क्लॉकवाइज और पांच बार एंटीक्लॉकवाइज घुमा कर साफ कर लें। फिर लेंस को तर्जनी अंगुली से उठा कर आईने के सामने खड़े होकर पहनें। पहनने के बाद आंखों को ऊपर-नीचे और चारों तरफ घुमाना न भूलें। इससे लेंस पुतली पर फिट हो जाते हैं। दूसरे कॉन्टैक्ट लेंस के साथ यह प्रक्रिया दोहराएं।

आसान नहीं है इसे पहनना

कॉन्टैक्ट लेंस पहनना भी एक कला है। कला इसलिए कि किसी को इसे पहनने-निकालने में मिनट लगते हैं, तो किसी के लिए यह घंटों का काम है। अस्पताल में मरीज को कॉन्टैक्ट लेंस से जुड़ी सावधानियों और सफाई के साथ उसके प्रयोग को भी सिखाया जाता है। एम्स जैसे बड़े अस्पताल में डॉक्टर मरीज को कॉन्टैक्ट लेंस पहनना और निकालने का प्रशिक्षण भी देते हैं। कॉन्टैक्ट लेंस को तर्जनी अंगुली के शीर्ष पर रखकर आईने की मदद से आंखों में पहना जाता है।

बहुत है उपयोगी

कॉन्टैक्ट लेंस को केवल फैशन से जोड़ कर देखा जाना सही नहीं है। यह शादी-ब्याह, पार्टी या किसी मौके पर टशन मारने के लिए ही नहीं होता, बल्कि कई मौकों पर यह बहुत उपयोगी होता है। दुर्गम ऊबड़-खाबड़ पहाड़ी, घाटी में ट्रैकिंग या फिर समुद्र की लहरों पर सर्फिंग या बर्फ पर स्केटिंग के दौरान चश्मे के टूटने-फूटने, गिरने का डर होता है, वहीं चश्मे पर गंदगी जम जाने के कारण कुछ भी नजर नहीं आता है और उसे बार-बार साफ करना पड़ता है, जबकि ये परेशानियां कॉन्टैक्ट लेंस के साथ नहीं होती हैं। कॉन्टैक्ट लेंस पहन कर ट्रैकिंग, सर्फिंग, स्केटिंग का मजा बड़े आराम से लिया जा सकता है।

सावधानियां

’आंखों में किसी भी तरह का संक्रमण होने पर कॉन्टैक्ट लेंस का प्रयोग न करें।
’नल के पानी से इसे कभी भी साफ न करें।
’घिसे या पुराने लेंस का प्रयोग न करें।
’लेंस को आठ घंटे से ज्यादा न पहनें।
’सोने से पहले कॉन्टैक्ट लेंस निकाल दें, अन्यथा यह संक्रमण, दर्द या लालिमा का कारण हो सकता है।
’आंखों में ज्यादा थकान न हो, इसके लिए बार-बार पलकों को झपकाते रहें।
’बाजार में आज ऐसे भी कॉन्टैक्ट लेंस मौजूद हैं, जिन्हें पहनने के बाद भी आई ड्रॉप का इस्तेमाल किया जा सकता है। लेंस के जलन, चुभन और सूखापन से बचने के लिए फ्रेश टीयर या डॉक्टर द्वारा सुझाए गए आई ड्रॉप का इस्तेमाल करें।
’आई मेकअप करने से पहले कॉन्टैक्ट लेंस लगाएं और मेकअप हटाने से पहले लेंस को निकाल कर सलूशन में रखें।
’लेंस के सलूशन को बदलना न भूलें। जब भी लेंस को लेंस होल्डर से निकाले उसके सलूशन को जरूर बदलें।
’महीने में एक बार लेंस होल्डर को साफ करना न भूलें। इसके लिए लेंस होल्डर को गर्म पानी में डालें और थोड़ी देर बाद उसे पानी से निकाल कर टेबल या फर्श पर पलट कर रख दें। होल्डर को हाथ या तौलियां लगाकर साफ न करें। लेंस होल्डर के सूख जाने के बाद ही उसमें सलूशन डालें और लेंस को रखें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 शख्सियत: नाना फडणवीस
2 दाना-पानी: देसी पकवान
3 समाज: प्यार से कैसा इनकार
ये पढ़ा क्या?
X