ताज़ा खबर
 

दाना-पानी: स्वादिष्ट-सुपाच्य नाश्ता

सुबह-सुबह खाने के लिए सूजी और दलिया बेहतर विकल्प हैं। इन दो चीजों से झटपट कई तरह के स्वादिष्ट और सुपाच्य नाश्ते बनाए जा सकते हैं। इस बार कुछ ऐसे ही नाश्ते।

Breakfastसुबह-सुबह नाश्ते में रवा उत्तपम और मटर दलिया लेना सबसे अच्छा विकल्प है।

मानस मनोहर

कई बार कुछ हल्का भोजन करने का मन होता है। खासकर सुबह नाश्ते में कई बार हड़बड़ी की वजह से, तो कई बार कुछ नया और हल्का-फुल्का खाने का मन होने की वजह से सोचना पड़ता है कि क्या बनाएं और खाएं। ऐसे में सूजी और दलिया बेहतर विकल्प हैं। इन दो चीजों से झटपट कई तरह के स्वादिष्ट और सुपाच्य नाश्ते बनाए जा सकते हैं। इस बार कुछ ऐसे ही नाश्ते।

रवा उत्पम
रवा उत्पम खाने में कुरकुरा और स्वादिष्ट भी होता है। इसे बनाने के लिए एक कटोरी या कप के बराबर रवा लें। तीन चौथाई मात्रा दही लें। एक से दो व्यक्तियों के लिए इतनी मात्रा पर्याप्त होती है। इसी अनुपात में आप सामग्री ले सकते हैं। दही और सूजी को आपस में अच्छी तरह मिलाएं। आधा चम्मच नमक डालें और थोड़ा-थोड़ा पानी डालते हुए मिलाते रहें और गाढ़ा घोल तैयार करें। अब इस घोल को ढंक कर कम से कम पंद्रह मिनट के लिए रख दें ताकि सूजी के दाने पानी सोख कर अच्छी तरह फूल जाएं। तब तक इसमें डालने के लिए सब्जियां काट कर तैयार कर लें।

उत्पम में हरी सब्जियां ही अच्छी लगती हैं। इसके लिए हरा प्याज, मटर, गाजर, पत्ता गोभी, हरा धनिया, हरी मिर्च और जो भी हरी सब्जियां आपको पसंद हों, जैसे ब्रोकली, पालक आदि वह सब डाल सकते हैं। इन सारी सब्जियों को अच्छी तरह धोकर बारीक-बारीक काट लें। पंद्रह से बीस मिनट बाद सूजी के घोल को देखें। सूजी ने कुछ पानी सोख लिया होगा, जिससे घोल और गाढ़ा हो गया होगा।

इस घोल को हमें मोटी परत के रूप में फैला कर पकाना होता है, इसलिए ध्यान रखना पड़ता है कि यह न तो अधिक गाढ़ा हो और न अधिक पतला कि पैन में फैल जाए। इसलिए अगर घोल अधिक गाढ़ा है, तो थोड़ा पानी और डाल कर फेंटते हुए थोड़ा पतला कर लें। अब इसमें कटी हुई सब्जियां और कुटी लाल मिर्च डाल कर अच्छी तरह फेंट लें।

पैन गरम करें। उस पर एक छोटा चम्मच तेल फैला लें। उत्पम के घोल में से दो-तीन कलछी भर कर पैन पर डालें और उसे सावधानी से फैला लें। घोल को फैलाते समय ध्यान रखें कि वह बहुत मोटा न रहे, नहीं तो पकने में देर लगेगी और बीच के हिस्से में इसके कच्चा रहने की आशंका बनी रहेगी। परत बराबर मोटाई की बननी चाहिए। आंच को मध्यम रखें।

पैन के ऊपर कोई प्लेट या ढक्कन रख दें, इससे उत्पम अच्छी तरह पकता है। उत्पम को देखते रहें, जब वह किनारे छोड़ने लगे और ऊपर का हिस्सा सख्त हो जाए तो ऊपर की तरफ थोड़ा तेल लगाएं और उत्पम को पलट दें। इस तरह एक बार फिर पलट कर पहले वाले हिस्से को दुबारा सेंकें। जब उसकी रंगत गुलाबी हो जाए, तो समझें कि उत्पम पक कर तैयार है।

इस तरह उत्पम का ऊपरी हिस्सा कुरकुरा और भीतर का हिस्सा मुलायम बना रहता है। खाने में इसका स्वाद बढ़ जाता है। यों उत्पम को दक्षिण में सांभर, नारियल और प्याज टमाटर की चटनी, गन पाउडर के साथ परोसा जाता है। मगर इसे हरी या लाल चटनी या टमाटर की सॉस के साथ भी खाया जा सकता है। कई लोग, जो अंडा खाते हैं, वे इसके साथ आमलेट लेना भी पसंद करते हैं। नहीं तो बाजार में पैकेट में गन पाउडर आसानी से मिल जाता है, उसमें तेल डाल कर आसानी से चटनी तैयार हो जाती है, उसके साथ भी इसे खाया जा सकता है।

मटर दलिया
दलिया बहुत सुपाच्य आहार है। आमतौर पर इसे दूध में डाल कर लोग मीठा बनाते हैं। कई लोग इसे दाल के साथ खिचड़ी की तरह भी बनाते हैं। मगर इसे गाजर, मटर के साथ पोहे की तरह सूखा बना कर खाएं, तो इसका आनंद ही अलग होता है। दलिया खाने का एक फायदा यह होता है कि यह इसमें भरपूर मात्रा में फाइवर होता है। इस तरह पेट के लिए यह गुणकारी है। नाश्ते में जो लोग रोटी या परांठा खाना पसंद करते हैं, उनके लिए यह गेहूं के तत्त्वों की कमी को भी पूरा करता है।

इसे बनाना बहुत आसान है। अगर बच्चों को सिखा दें, तो वे भी इसे आसानी से बना सकते हैं। अगर कभी हल्की भूख हो, तो वे मैगी नूडल्स वगैरह खाने के बजाय इसे खाने की आदत डालेंगे। इसे बनाने के लिए पहले एक गाजर को छील कर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें। आधा कटोरी हरी मटर के दाने भी धोकर रख लें। एक हरी मिर्च को बारीक काट कर अलग रख लें।

ऊपर से सजाने के लिए हरी धनिया के पत्ते भी बारीक काट कर रख लें। अगर आप प्याज पसंद करते हैं, तो बारीक कटा प्याज भी इसमें उपयोग कर सकते हैं। अगर चाहें तो दो-तीन बीन्स भी छोटे-छोटे काट कर डाल सकते हैं। सब्जियों का चुनाव आप अपनी पसंद से कर सकते हैं।

कड़ाही गरम करें और आंच मध्यम रखते हुए उसमें दो कटोरी दलिया डाल कर चलाते हुए बादामी रंग आने तक सेंकें। जब दलिया में से महक उठने और उसका रंग बदलने लगे तो उसमें जो-तीन छोटे चम्मच घी डालें और दो मिनट के लिए दलिया को सेंकें। फिर उसी में कटी हुई सब्जियां डालें और चलाते हुए उन्हें करीब पांच मिनट तक सेंकें। जब सब्जियां नरम होने लगें, तो उसमें दो कटोरी पानी डालें और जरूरत भर का नमक डाल कर कड़ाही पर ढक्कन लगा दें।

आंच के धीमी कर दें और करीब पांच मिनट तक पकने दें। जब दलिया सारा पानी सोख ले, तो आंच बंद कर दें और कड़ाही पर ढक्कन लगा रहने दें। इस तरह दलिया के दाने फूल कर नरम हो जाएंगे।

अब हरा धनिया और हरी मिर्च डाल कर गरमागरम परोसें। इसके साथ टमाटर की सॉस या चटनी का इस्तेमाल कर सकते हैं। साथ में अगर एक गिलास छाछ हो तो नाश्ते का आनंद बढ़ जाता है। यह अपने आप में संपूर्ण आहार है।

Next Stories
1 सेहत: बदलते मौसम में त्वचा की देखभाल- खुराक बेहतर निखार बेहतर
2 शख्सियत: परम वीरता का स्वाधीन सर्ग मेजर सोमनाथ शर्मा
3 दाना-पानी: तरी में डूबा जायका
यह पढ़ा क्या?
X