ताज़ा खबर
 

नन्ही दुनिया: कविता और शब्द भेद

कुछ शब्द एक जैसे लगते हैं। इस तरह उन्हें लिखने में अक्सर गड़बड़ी हो जाती है। इससे बचने के लिए आइए उनके अर्थ जानते हुए उनका अंतर समझते हैं।

छठ पूजा पर यमुना के किनारे घाट सजाए जाते हैं।

कविता: मियां मटक्कू

डॉ घमंडीलाल अग्रवाल

मियां मटक्कू
लेकर लट्टू
खेले बारह मास,
पढ़ने को तो
खा किए वो
कोरी-सी बकवास।

ता-ता थैया
करता भैया
इम्तिहान फिर आया,
एक महीने
बाद सभी ने
अंक-पत्र भी पाया।

देख नतीजा
हृदय पसीजा
नंबर आए जीरो,
निकली सारी
दुनियादारी
बड़े बने थे हीरो।

शब्द-भेद

कुछ शब्द एक जैसे लगते हैं। इस तरह उन्हें लिखने में अक्सर गड़बड़ी हो जाती है। इससे बचने के लिए आइए उनके अर्थ जानते हुए उनका अंतर समझते हैं।

घाट/घात: छठ पूजा पर यमुना के किनारे घाट सजाए जाते हैं। जबकि जब किसी शिकारी को किसी का शिकार करना होता है तब वह घात लगाकर उसे मारता है।

कल/काल: कल से अभिप्राय आने वाला दिन है। जैसे कल सोमवार है या मंगलवार है। और काल का एक अर्थ तो भाषा व्याकरण में भूत, भविष्य और वर्तमान काल से है तो दूसरा किसी के आने वाले अंत समय को भी काल कहते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कहानी: नन्हा सांता क्लॉज
2 सेहत: धूप से तंदुरुस्ती
3 दाना-पानी: आंवला कैंडी और आंवले का मुरब्बा
यह पढ़ा क्या?
X