ताज़ा खबर
 

नन्ही दुनिया : गीत – गरमी

गरमी में कपड़ों की हालत छी-छी-छी। मौसम ने तो खोल रखी है उमस भरी संदूकें।

Author नई दिल्ली | Published on: May 15, 2016 4:22 AM
बजे शाम के पांच मगर यह, धूप मुई न जाए, बाहर जाकर खेलूं कैसे।

गरमी में कपड़ों की हालत
छी-छी-छी।
मौसम ने तो खोल रखी है
उमस भरी संदूकें।
धक-धक-धक-धक चलती बाहर
लू वाली बंदूकें।
नहीं सुनाई दे चिड़ियों की
चीं-चीं-चीं।

बजे शाम के पांच मगर यह
धूप मुई न जाए
बाहर जाकर खेलूं कैसे
सिर अपना चकराए।
हंसे निगोड़ा सूरज हम पर

खीं-खीं-खीं।
बिट्टू भैया ने दो बोतल

पिया बरफ का पानी
छुटकी से पूछा पापा ने
क्या कुल्फी है खानी
उछल, खुशी से छुटकी बोली
जी-जी-जी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories