ताज़ा खबर
 

नन्ही दुनिया : गीत – गरमी

गरमी में कपड़ों की हालत छी-छी-छी। मौसम ने तो खोल रखी है उमस भरी संदूकें।

Author नई दिल्ली | Published on: May 15, 2016 4:22 AM
nanhi dunia, hindi geet, garmiबजे शाम के पांच मगर यह, धूप मुई न जाए, बाहर जाकर खेलूं कैसे।

गरमी में कपड़ों की हालत
छी-छी-छी।
मौसम ने तो खोल रखी है
उमस भरी संदूकें।
धक-धक-धक-धक चलती बाहर
लू वाली बंदूकें।
नहीं सुनाई दे चिड़ियों की
चीं-चीं-चीं।

बजे शाम के पांच मगर यह
धूप मुई न जाए
बाहर जाकर खेलूं कैसे
सिर अपना चकराए।
हंसे निगोड़ा सूरज हम पर

खीं-खीं-खीं।
बिट्टू भैया ने दो बोतल

पिया बरफ का पानी
छुटकी से पूछा पापा ने
क्या कुल्फी है खानी
उछल, खुशी से छुटकी बोली
जी-जी-जी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 नन्ही दुनिया : कहानी – मुर्गा बोला
2 नन्ही दुनिया : जानकारी – जीव-जंतुओं के अनोखे स्मारक
3 व्यंग्य : महापुरुषाई के खतरे
ये पढ़ा क्या?
X