ताज़ा खबर
 

मोहब्बत करने वाले कम न होंगे

मेहदी हसन ध्रुपद, खयाल, ठुमरी और दादरा बड़ी खूबी के साथ गाते थे। इसी कारण लता मंगेशकर कहा करती हैं कि मेहदी हसन के गले में तो स्वयं भगवान बसते हैं।

मेहदी हसन कहते थे कि ‘बुलबुल ने गुल से, गुल ने बहारों से कह दिया, एक चौदहवीं के चांद ने तारों से कह दिया, दुनिया किसी के प्यार में जन्नत से कम नहीं, एक दिलरूबा है दिल में, तो हूरों से कम नहीं।’

मोहब्बत करने वाले कम न होंगे, तेरी महफिल में लेकिन हम न होंगे। 13 जून, 2012 को मेहदी हसन इस दुनिया को छोड़ गए। अब हमें याद हैं तो बस उनकी गाई अमर गजलें। उनकी गजलें और हमारे जज्बात आपस में बातें करते हैं। इतनी नजदीकियां शायद हम किसी से ख्वाबों में सोचा करते हैं। उनकी मखमली आवाज के दरमियां जब अल्फाज मौसिकी का दामन पकड़ती है, तब हम लंबी सैर करते हैं।

मेहदी हसन कहते थे कि ‘बुलबुल ने गुल से, गुल ने बहारों से कह दिया, एक चौदहवीं के चांद ने तारों से कह दिया, दुनिया किसी के प्यार में जन्नत से कम नहीं, एक दिलरूबा है दिल में, तो हूरों से कम नहीं।’ उनके गले से निकले ये शब्द हर प्यार करने वाले की आवाज बन जाते हैं। उनकी गजलों ने जैसे लोगों के अंदर का खालीपन पहचान कर बड़ी खूबी से उसे भर दिया। ‘न किसी की आंख का नूर हूं, न किसी की दिल का करार हूं/ जो किसी के काम न आ सके, मैं वो एक मुश्ते-गुबार हूं।’ कहते-कहते मेहदी हसन साहब एक बड़ी बात कह जाते हैं- ‘तन्हा-तन्हा मत सोचा कर, मर जावेगा, मर जावेगा, मत सोचा कर…।’ उनके जाने के बाद हम कह देते हैं कि लो, अब हम नहीं सोचेंगे। पर आपने तो हमें जिंदगी भर सोचने का सामान दे दिया।

पाकिस्तानी गजल गायक मेहदी हसन का भारत से विशेष लगाव था। उन्हें जब भी भारत आने का मौका मिलता, वे दौड़े चले आते थे। राजस्थान में शेखावाटी की धरती उन्हें अपनी ओर खींचती थी। यहां की मिट्टी से उन्हें सदा विशेष लगाव रहा। इसी कारण पाकिस्तान में आज भी मेहदी हसन के परिवार में सब लोग शेखावाटी की मारवाड़ी भाषा में बातचीत करते हैं। मेहदी हसन ने सदा भारत-पाकिस्तान के मध्य एक सांस्कृतिक दूत की भूमिका निभाई और जब-जब उन्होंने भारत की यात्रा की तब-तब भारत-पाकिस्तान के मध्य तनाव कम हुआ और सौहार्द का वातावरण बना।

भारत से पाकिस्तान जाने के बाद मेहदी हसन पूरी दुनिया में अपनी पहचान बना चुके थे। 1978 में मेहदी हसन जब अपनी भारत यात्रा पर आए तो उस समय गजलों के एक कार्यक्रम के लिए वे सरकारी मेहमान बन कर जयपुर आए थे और उनकी इच्छा पर प्रशासन द्वारा उन्हें उनके पैतृक गांव राजस्थान में झुंझुनू जिले के लूणा ले जाया गया था। कारों का काफिला जब गांव की ओर बढ़ रहा था, तो रास्ते में उन्होंने अपनी गाड़ी रुकवा दी। गांव में सड़क के किनारे एक टीले पर छोटा-सा मंदिर बना था, जहां वे रेत में लोटपोट होने लगे।

उस समय जन्मभूमि से ऐसे मिलन का नजारा देखने वाले भी भाव विभोर हो उठे थे। ऐसा लग रहा था जैसे वे मां की गोद में लिपट कर रो रहे हों। उन्होंने लोगों को बताया कि बचपपन में यहां बैठ कर वे भजन गाया करते थे। जिन लोगों ने मेहदी हसन को नहीं देखा, वे भी उन्हें प्यार और सम्मान करते हैं। शायद ऐसे ही वक्त के लिए मेहदी हसन ने यह गजल गाई है- ‘मोहब्बत करने वाले कम न होंगे, तेरी महफिल में लेकिन हम न होंगे।’

1993 में मेहदी हसन एक बार फिर अपने गांव लूणा आए, मगर इस बार अकेले नहीं बल्कि पूरे परिवार सहित। इसी दौरान उन्होंने गांव के स्कूल में बनी अपने दादा इमाम खां और मां अकमजान की मजार की मरम्मत करवाई और पूरे गांव में लड्डूू बंटवाए थे। आज मजार बदहाली की स्थिति में वीरान और सन्नाटे से भरी है। यह मजार ही जैसे मेहदी हसन को लूणा बुलाती रही थी। मानो रेत के धोरों में हवा गुनगुनाने लगती है- ‘भूली बिसरी चंद उम्मीदें, चंद फसाने याद आए, तुम याद आए और तुम्हारे साथ जमाने याद आए।’ उस वक्त उनके प्रयासों से ही गांव में सड़क बन पाई थी।

मेहदी हसन का जन्म 18, जुलाई, 1927 को राजस्थान में झुंझुनू जिले के लूणा गांव में अजीम खां मिरासी के घर हुआ था। भारत-पाकिस्तान बंटवारे के वक्त पाकिस्तान जाने से पहले उनके बचपन के बीस वर्ष गांव में ही बीते थे। मेहदी हसन को गायन विरासत में मिला था। उनके दादा इमाम खां बड़े कलाकार थे, जो उस वक्त मांडवा और लखनऊ के राजदरबार में गंधार, ध्रुपद गाते थे। मेहदी हसन के पिता अजीम खां भी अच्छे कलाकार थे। इस कारण उस वक्त भी उनके परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी थी। पाकिस्तान जाने के बाद भी मेहदी हसन ने गायन जारी रखा और वे ध्रुपद के बजाय गजल गाने लगे। वे अपने परिवार के पहले गायक थे, जिसने गजल गाना शुरू किया था। 1952 में वे कराची रेडियो स्टेशन से जुड़ कर अपने गायन का सिलसिला जारी रखा और 1958 में वे पूर्णतया गजल गाने लगे। उस वक्त गजल का विशेष महत्त्व नहीं था। शायर अहमद फराज की गजल- ‘रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ’- से मेहदी हसन को पहली बार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली। उसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा। इस गजल को मेहदी हसन ने शास्त्रीय पुट देकर गाया था।

मेहदी हसन ध्रुपद, खयाल, ठुमरी और दादरा बड़ी खूबी के साथ गाते थे। इसी कारण लता मंगेशकर कहा करती हैं कि मेहदी हसन के गले में तो स्वयं भगवान बसते हैं। ‘पत्ता-पत्ता बूटा-बूटा हाल हमारा जाने है’ जैसी मध्यम सुरों में ठहर-ठहर कर धीमे-धीमे गजल गाने वाले मेहदी हसन ‘केसरिया बालम आओ नी पधारो म्हारे देश’ जैसी राजस्थान की सुप्रसिद्व मांड को भी उतनी ही शिद्दत के साथ गाया है। उनकी राजस्थानी जुबान पर भी उर्दू जुबान जैसी पकड़ थी।

मेहदी हसन की झुंझुनू यात्राओं के दौरान उनसे जुड़े रहे नरहड़ दरगाह के पूर्व सदर मास्टर सिराजुल हसन फारुकी बताते थे कि मेहदी हसन साहब की झुंझुनू जिले के नरहड़ स्थित हाजिब शक्करबार शाह की दरगाह में गहरी आस्था थी। वे जब भी भारत आते, नरहड़ आकर जरूर जियारत करते थे। वे चाहते थे कि मेहदी हसन की याद को लूणा गांव में चिरस्थाई बनाने के लिए सरकार द्वारा उनके नाम से लूणा गांव में संगीत अकादमी की स्थापना की जानी चाहिए, ताकि आने वाली पीढ़ियां उन्हें याद कर प्रेरणा लेती रहें।
मेहदी हसन के बारे में मशहूर कव्वाल दिलावर बाबू का कहना है कि यह हमारे लिए बड़े फख्र की बात है कि उन्होंने झुंझुनू का नाम पूरी दुनिया में अमर किया। उन्होंने गजल को पुनर्जन्म दिया। दुनिया में एसे हजारों लोग हैं जो उनकी वजह से गजल गायक बने। उन्होंने गजल गायकी को एक नया मुकाम दिया। लूणा गांव की हवा में आज भी मेहदी हसन की खुशबू तैरती है। बचपन में मेहदी हसन को गाायन के साथ पहलवानी का भी शौक था। लूणा गांव में मेहदी हसन अपने साथी नारायण सिंह और अर्जुन लाल जांगिड़ के साथ कुश्ती में दावपेंच आजमाते थे।

वक्त के साथ उनके संगी-साथी भी अब इस दुनिया को छोड़ कर जा चुके हैं, लेकिन गांव के दरख्तों, कुओं की मुंडेरों और खेतों में उनकी महक आज भी महसूस की जा सकती है। मेहदी हसन की मृत्यु की खबर सुन कर लूणा सहित पूरे झुंझुनू जिले में शोक की लहर दौड़ गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 शख्सियत: बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय
2 भाषा: भाषाई संकट का सवाल
3 कविताएं: ‘एक स्त्री को जानना’ और ‘पत्थर का दुख’
ये पढ़ा क्या?
X