ताज़ा खबर
 

सेहत: जानिए क्यों होता है जोड़ों का दर्द और कैसे बचें

सर्दी के मौसम में शरीर का तापमान गिरना शुरू हो जाता है, जिससे ठंड लगती है। जोड़ों के दर्द के पीछे प्रमुख वजह रक्तवाहिनियों का सिकुड़ जाना है। इस मौसम में रक्तवाहिनियां सिकुड़ जाती हैं, जिससे रक्त का प्रवाह कम होने से हृदय तक अधिक रक्त पहुंचने लगता है।

Author January 13, 2019 6:16 AM
अर्थराइटिस, ऑस्टियो पोरोसिस, कैल्शियम की कमी आदि समस्याओं की वजह से भी जोड़ों में दर्द होता है।

सर्दी का मौसम आते ही अनेक तरह की बीमारियां होने लगती हैं। कुछ तो मौसमी बीमारियां होती हैं, तो कुछ पुराने दर्द फिर उभर आते हैं। सर्दी में सबसे ज्यादा परेशान करने वाली समस्या होती है जोड़ों का दर्द। दिक्कत यह भी होती है कि किसी और मौसम में लगी चोट भी इस मौसम में दर्द देने लगती है। जोड़ों के दर्द की समस्या केवल बुजुर्र्गों को नहीं होती, बल्कि यह किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकती है। लेकिन बुजुर्गों को यह समस्या अधिक होती है क्योंकि उनकी हड्डियां बढ़ती उम्र के साथ कमजोर होने लगती हैं। जोड़ों का दर्द असहनीय होता है। इसलिए इस मौसम में जिन लोगों को जोड़ों के दर्द की समस्या है, उन्हें अधिक सावधानीपूर्वक रहना चाहिए। उन्हें दिनचर्या से लेकर क्या खाएं और क्या न खाएं यह भी ध्यान रखना पड़ता है। जोड़ों में दर्द कई वजहों से होता है जिनमें से कुछ कारण और उसे ठीक करने के उपायों के बारे में हम बता रहे हैं।

क्यों होता है जोड़ों का दर्द
सर्दी के मौसम में शरीर का तापमान गिरना शुरू हो जाता है, जिससे ठंड लगती है। जोड़ों के दर्द के पीछे प्रमुख वजह रक्तवाहिनियों का सिकुड़ जाना है। इस मौसम में रक्तवाहिनियां सिकुड़ जाती हैं, जिससे रक्त का प्रवाह कम होने से हृदय तक अधिक रक्त पहुंचने लगता है, ताकि वहां अधिक उष्णता और सक्रियता बनी रहे। इस कारण शरीर के अन्य अंगों में रक्त कम पहुंच पाता है। जिन अंगों में रक्त का पर्याप्त प्रवाह नहीं पहुंचता वहां दर्द महसूस होने लगता है। इसी वजह से शरीर के सभी जोड़ भी सिकुड़ने लगते हैं, इसी सिकुड़न के कारण दर्द महसूस होता है। शरीर का पूरा भार घुटनों पर पड़ता है, इस वजह से घुटनों में दर्द अधिक महसूस होता है। अर्थराइटिस, ऑस्टियो पोरोसिस, कैल्शियम की कमी आदि समस्याओं की वजह से भी जोड़ों में दर्द होता है। जोड़ों को बांधने वाले स्नायु रज्जू (लिगामेंट्स) में कमजोरी और लचीलेपन में कमी आने से जोड़ों में अकड़न होती है और दर्द महसूस होने लगता है। इसके अलावा हड्डियों में वसा की कमी से हड्डियां आपस में रगड़ने लगती हैं, जिससे जोड़ों में दर्द होने लगता है। यह समस्या केवल सर्दी में नहीं, बल्कि किसी भी मौसम में हो सकती है। लेकिन चूंकि सर्दी के मौसम में रक्त का संचार पर्याप्त नहीं हो पाता, जिस वजह से यह समस्या बढ़ जाती है।

उपाय
खानपान में सुधार
हमारी बहुत-सी समस्याएं संतुलित भोजन और समुचित पोषाहार न खाने की वजह से होती हैं। इसलिए अगर आपको जोड़ों में दर्द रहता है तो अपने खानपान पर विशेष ध्यान दें। इस मौसम में विटामिन डी का भरपूर सेवन करें। इसके अलावा मीट, मछली, डेयरी उत्पाद आदि खा सकते हैं। दर्द से बचने के लिए पानी और फल का सेवन भी करें।

व्यायाम
व्यायाम से शरीर के बहुत से रोग दूर रहते हैं। रोग ही नहीं, व्यायाम करने से आप खुश भी रहते हैं। रोजाना बीस से चालीस मिनट का व्यायाम आपके शरीर को दुरुस्त भी रखेगा और जोड़ों के दर्द से भी निजात मिलेगी। व्यायाम से मांसपेशियां मजबूत होती हैं। और मजबूत मांसपेशियां जोड़ों के दर्द से बचाती हैं।

धूम्रपान को कहें ना
जो लोग धूम्रपान के आदी होते हैं उन्हें अनेक बीमारियां होती हैं। जोड़ों का दर्द भी उन्हें जल्दी होता है। क्योंकि जो लोग धूम्रपान करते हैं, उनमें हड्डियों का घनत्व कम होने लगता है और उनके टूटने की संभावनाएं ज्यादा होती हैं। इससे हड्डियां कमजोर होती हैं। इसलिए धूम्रपान से तौबा करें।

तेल की मालिश
जोड़ों के दर्द में बहुत बार हल्की सिंकाई से भी आराम मिलता है। इसके अलावा अरंडी के तेल की मालिश करने से भी जोड़ों के दर्द में राहत मिलती है। इससे दर्द और सूजन भी कम होती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App