ताज़ा खबर
 

दाना-पानी: हल्के और पौष्टिक नाश्ते, नमकीन सिवइयां और नमकीन दलिया

बाजार में कई तरह की सिवइयां उपलब्ध होती हैं। सफेद और बादामी रंग की, मोटी और बारीक। बादामी रंग की सिवइयां पहले से तली हुई होती हैं। नमकीन सिवइयां बनाने के लिए मोटी और सफेद रंग की सिवइयों का उपयोग करें।

Author Published on: May 12, 2019 1:50 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

मानस मनोहर

नमकीन सिवइयां
आमतौर पर सिवइयों का उपयोग लोग खीर बनाने के लिए करते हैं। बहुत सारे लोग सिवइयां मीठी ही खाना पसंद करते हैं। पर नाश्ते में नमकीन सिवइयां बना कर खाएं, तो यह न सिर्फ स्वाद, बल्कि सेहत की दृष्टि से भी उपयुक्त रहता है। बच्चों को यह खासतौर पर पसंद आती है, क्योंकि यह नूडल्स के विकल्प की तरह दिखती हैं। बाजार में कई तरह की सिवइयां उपलब्ध होती हैं। सफेद और बादामी रंग की, मोटी और बारीक। बादामी रंग की सिवइयां पहले से तली हुई होती हैं। नमकीन सिवइयां बनाने के लिए मोटी और सफेद रंग की सिवइयों का उपयोग करें। मैदे के बजाय आटे की सिवइयां मिल सकें, तो उन्हीं का इस्तेमाल करना चाहिए।

नमकीन सिवइयां बनाने के लिए इसमें कुछ हरी सब्जियों का भी उपयोग करें। इससे सिवइयों का जायका बढ़ जाता है और नाश्ते के तौर पर भरपूर पोषण भी मिल जाता है। हरी सब्जियों में मौजूद रेशे यानी फाइवर पेट के लिए मुफीद रहते हैं। इसलिए इसमें डालने के लिए हरी मटर के दाने, हरा प्याजं, गाजर, बीन्स, पत्ता गोभी का उपयोग कर सकते हैं। चाहें तो मिक्स फ्रोजन सब्जियां इस्तेमाल कर सकते हैं। यों ताजा सब्जियों का उपयोग करें, तो बेहतर है। इन सभी सब्जियों को बारीक काट कर अलग रख लें। नमकीन सिवइयां बनाना बहुत आसान है। इसमें वक्त भी बहुत नहीं लगता। इसे बनाने के लिए कड़ाही में आधा चम्मच देसी घी गरम करें और मद्धिम आंच पर सिवइयों को महक आने तक चलाते हुए भून लें। इसे अलग निकाल कर रख दें।

अब उसी कड़ाही में सब्जियां डाल कर तेज आंच पर चलाते हुए तीन से चार मिनट भूनें और फिर भुनी हुई सिवइयां उसमें डाल कर दो मिनट के लिए चलाएं। फिर जितनी मात्रा में सिवइयां ली हैं, उतनी ही मात्रा में उसमें पानी डाल दें। जैसे एक कप सिवइयां ली हैं, तो एक कप ही पानी डालें। फिर जरूरत भर का नमक डालें और ढक्कन लगा कर आंच धीमी कर दें। अगर सिवइयों को थोड़ा चटपटा बनाना चाहते हैं, तो उसमें आधा चम्मच सब्जी मसाला या मैगी मसाला डाल सकते हैं। बच्चों के लिए नमकीन सिवइयां बनाएं, तो उसमें मैगी भुना मसाला डालें, उससे उन्हें नूडल्स का स्वाद आएगा और वे चाव से खाएंगे। पांच मिनट तक धीमी आंच पर पकने दें, फिर ढक्कन खोल कर देखें। सिवइयां खिल गई होंगी और पानी पूरी तरह सूख चुका होगा। अगर अब भी पानी बचा हुअ है, तो ढक्कन हटा कर थोड़ी देर और पकने दें। फिर चम्मच से चलाते हुए एक बार सबको मिला लें और गरमा-गरम खाने को परोसें। नमकीन सिवइयां टमाटर की मीठी चटनी या दही के साथ खाई जा सकती हैं। चाहें तो इसके लिए निथरा हुआ दही फेंट कर भुना जीरा, नमक, राई पाउडर, कुटी लाल मिर्च डाल कर गाढ़ा रायता भी बना सकते हैं।

नमकीन दलिया
वइयों की तरह दलिया भी बहुत सारे लोग मीठा खाना पसंद करते हैं। कुछ लोग इसकी खिचड़ी भी बनाते हैं। पर नाश्ते में हरी सब्जियों के साथ भुरभुरा दलिया खाने का स्वाद ही निराला होता है। दलिया खाने का फायदा यह है कि यह गेहूं से बनता है और इसका छिलका नहीं उतारा जाता। इस तरह आटे से बने व्यंजन की अपेक्षा दलिया के व्यंजन पेट के लिए ज्यादा मुफीद माने जाते हैं। नमकीन दलिया बनाना बहुत आसान है। सिवइयों की तरह ही इसे भी बनाया जाता है। पहले कड़ाही में आधा चम्मच देसी घी गरम करें। उसमें सिवइयों को सुनहरा होने तक भून लें और निकाल कर अलग रख दें। फिर इसमें डालने के लिए अपनी मनचाही हरी सब्जियां बारीक-बारीक काट लें। इनमें हरी मटर, बीन्स, पत्ता गोभी, हरा प्याज, गाजर आदि का इस्तेमाल किया जा सकता है। कड़ाही में आधा चम्मच देसी घी गरम करें। उसमें जीरे का तड़का लगाएं और सारी सब्जियों को उसमें छौंक दें। तेज आंच पर चलाते हुए तीन से चार मिनट तक सब्जियों को भूनें। फिर ऊपर से भुना हुआ दलिया डालें और जरूरत भर का नमक डाल कर दलिया की मात्रा से डेढ़ गुना पानी डालें। कड़ाही पर ढक्कन लगाएं और आंच धीमी कर दें। दलिया को करीब दस मिनट मिनट तक पकने दें। कड़ाही का ढक्कन खोल कर देखें। दलिया ने सारा पानी सोख लिया होगा। दलिया पूरी तरह खिल कर नरम और भुरभुरा हो चुका होगा। अगर पानी बचा रह गया है, तो ढक्कन खुला रख कर थोड़ी देर और पका लें, जब तक कि दलिया भुरभुरा न हो जाए। अब ऊपर से हरा धनिया, हरी मिर्च काट कर डालें और खाने को परोसें। नमकीन दलिया के साथ छाछ का मेल अच्छा रहता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 प्रसंग: आज के दौर में साहित्य
2 कहानी: बेटे की मां
3 हर कलाकार की जिंदगी में आते हैं अच्छे और बुरे दिन: सोनाक्षी सिन्हा