ताज़ा खबर
 

गीत : उड़न तश्तरी

चुन्नू भैया भोले भाले, खेल दिखाते बड़े निराले, है इनका दिमाग अलबेला, नए नए खेलों का मेला

Author नई दिल्ली | June 5, 2016 7:56 AM
representative image

चुन्नू भैया भोले भाले
खेल दिखाते बड़े निराले
है इनका दिमाग अलबेला
नए नए खेलों का मेला
कागज की तश्तरी बनाई
बड़े जतन से खूब सजाई
रहे गगन में उसको फेंक
कितने लोग रहे हैं देख
गोल गोल वह घूम रही
गिर धरती को चूम रही
सबने पूछा करते क्या?
ये क्या सूझा खेल नया?
चुन्नू बोले बड़े शान से
उतर रही है आसमान से
उड़न तश्तरी यह कहलाती
चक्कर खाकर नीचे आती
थोडा और बड़ा हो जाऊं
सचमुच की तश्तरी बनाऊं
फिर बच्चों की फौज भरूं
मंगल ग्रह की सैर करूं

(नागेश पांडेय ‘संजय’)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App