ताज़ा खबर
 

रविवारी: अभिव्यक्ति की बदलती तस्वीर

भारी भरकम कैमरों के दिन लद चुके हैं। आज हर कोई मोबाइल फोन से सेल्फी लेने का दीवाना है। आज लोग खाने से पहले खाने की फोटो खींचने और उसे अपने सोशल अकाउंट पर अपलोड करने के लिए बेचैन रहते हैं। सोशल नेटवर्क की दुनिया हो या आम कैमरे की दुनिया, फोटोग्राफी ने लोगों को नया नजरिया प्रदान किया है। फोटोग्राफी के दिलचस्प सफर के बारे में बता रही हैं स्पर्धा।

रविवारी: अभिव्यक्ति की बदलती तस्वीर

यदि आप किसी ऐसी जगह की खूबसूरती से वाकिफ हैं जहां आप कभी गए नहीं हैं तो इसका मतलब यह है कि आप सोशल नेटवर्किंग साइट इंस्टाग्राम या फेसबुक पर इन्हें देख चुके हैं। तस्वीरों की दुनिया में आमूलचूल बदलाव आता जा रहा है। फोन में उपलब्ध फिल्टर के जरिए तस्वीरों के रंग को बदला जा सकता है। रंगीन तस्वीरों को पुरानी तस्वीरों की तरह लुक दे सकते हैं या विभिन्न पृष्ठभूमि के साथ इन्हें जोड़ सकते हैं। तस्वीरों को पुराने जमाने के ब्लैक एंड व्हाइट फोटो की तरह भी एडिट किया जा सकता है। दरअसल, तस्वीरों की दुनिया में बड़ा बदलाव ब्लैक एंड व्हाइट के जमाने से ही तो आया है। इन तस्वीरों ने पत्रकारिता को भी एक नया मोड़ दिया है।

मैथ्यू ब्रौडी ने दिखाई युद्ध की तस्वीर
आज भले ही टीवी चैनलों के जरिए हमें पता रहता है कि युद्ध में क्या और कैसे हो रहा है? लेकिन एक समय था, जब नागरिकों को युद्ध क्षेत्र में हो रही घटनाओं के बारे में कुछ पता नहीं चलता था। आज सैन्य संघर्षों पर राष्ट्रभक्ति से ओत-प्रोत कविताएं लिखी जाती हैं और स्केच बनाए जाते हैं। गौरतलब है कि युद्ध के दौरान फोटो जर्नलिज्म के दौर की पहली तस्वीर मैथ्यू ब्रौडी ने ली थी और इनकी खींची तस्वीरों ने न्यूयॉर्क टाइम्स को यह लिखने पर मजबूर कर दिया कि मैथ्यू की तस्वीरों ने अमेरिकी लोगों तक युद्ध की असली सच्चाई को पहुंचाया है।

प्रथम विश्व युद्ध के दौरान भारतीय सेना की खींची कुछ दुर्लभ तस्वीरों ने युद्ध की ठोस सच्चार्ई और सैनिकों के कष्ट भरे दिनों को सामने लाने का काम किया। भोजन का इंतजार करते सैनिक, फिलस्तीन की नदी में नहाते सैनिक, बगदाद के एक रेलवे स्टेशन को सुरक्षा प्रदान करते सैनिक, गैस मास्क ड्रिल के दौरान खींची तस्वीरें प्रथम विश्व युद्ध के दौरान भारतीय सैनिकों के जोश और जज्बे को बेहतरीन तरीके से उजागर करती हैं।

फोटोग्राफी के रघु
तस्वीरों की दुनिया में रघु राय का बड़ा नाम है। उन्होंने भारत में फोटोग्राफी की दुनिया को लगभग बदल दिया। इंदिरा गांधी से लेकर मदर टेरेसा और बाद में 1971 में युद्ध के दौरान शरणार्थी कैंप में रहने को मजबूर हजारों लोगों के दुख-दर्द को उन्होंने आम लोगों तक पहुंचाया। खाली सीवेज पाइप में रहने की मजबूरी, खाने की किल्लत से भरे दिन, इन सब तकलीफों को दुनिया ने तभी समझा, जब रघु राय की तस्वीरें सामने आईं।

रंगीन तस्वीरों का जमाना
जल्द ही तस्वीरों ने रंग अख्तियार करना शुरू कर दिया। तस्वीरें रंगों में मुस्कराने लगीं। इस समय ग्लैमर इंडस्ट्री का रंग लोगों पर धीमे-धीमे चढ़ रहा था। हीरो- हीरोइन की रंगीन तस्वीरें अखबार और पत्रिकाओं में छपने लगीं थीं। लोग उनकी तस्वीरें देखते और वैसे ही स्टाइल को अपनाने की कोशिश करते।

इस बीच, तस्वीरों ने विज्ञापन की दुनिया में भी कदम रखना शुरू किया था। मिलिंद सोमन और मधु सप्रे का वह ब्लैक एंड व्हाइट विज्ञापन आज भी लोगों के जेहन में है, जिसे लेकर दोनों जेल जाते-जाते बचे थे। इस विज्ञापन में मिलिंद और मधु केवल जूते पहने और गले में अजगर लपेटे नजर आए थे। इस विज्ञापन के आने के बाद मुंबई पुलिस ने मिलिंद और मधु के खिलाफ केस भी दर्ज किया था। वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत विज्ञापन एजंसी पर भी मुकदमा दर्ज किया गया था।

डिजिटल कैमरे का इस्तेमाल
शादी के अलबम में भी कई तरह के प्रयोग होने लगे थे। दुल्हन को तमाम तरह के निर्देश दिए जाने लगे कि वह किस तरह का पोज करे, कैसे कपड़े पहने ताकि तस्वीरें खूबसूरत आएं। इस समय डिजिटल कैमरा भी लॉन्च हो चुका था और जन्मदिन जैसे छोटे आयोजनों में भी इसका प्रयोग किया जाने लगा था। पहले की तरह तस्वीरों को अलबम के बजाय लैपटॉप, कंप्यूटर या मेल में सुरक्षित रख लिया जाने लगा। कैमरे की इस बढ़ती मांग को देखते हुए याशिका कैमरा कंपनी ने महज 500 रुपये में कैमरा बेचना शुरू कर दिया था।

मोबाइल क्रांति ने दिया नया आयाम
कैमरे के बाद आई मोबाइल क्रांति ने तो मानो कैमरे को भुला ही दिया। इसी समय विज्ञान की दुनिया में भी क्रांति तब आई, जब अमेरिकी स्पेस एजंसी नासा ने पहली बार चांद पर इंसान के पहुंचने की तस्वीरें जारी कीं। सोशल मीडिया साइट्स पर अपलोड की गर्इं करीब 12 हजार तस्वीरों में चांद पर जाने वाले अंतरिक्ष यात्रियों के चांद पर उतरने, उनकी दिनचर्या, चांद की सतह और वहां से धरती की तस्वीरें शामिल थीं। इनमें 1969 में नील आर्मस्ट्रांग के अपोलो-11 की भी तस्वीरें शामिल थीं।

विज्ञान की दुनिया में एक खास महीना सितंबर 2014 का भी है, जब भारत के मार्स आर्बिटर मिशन मंगलयान ने मंगल ग्रह की पहली तस्वीर भेजी थी। इसरो के मार्स आर्बिटर के ट्विटर हैंडल ने लाल ग्रह की पहली तस्वीर भेजी थी, जिसका कैप्शन था- यहां का दृश्य बढ़िया है। इसी बीच मोबाइल कैमरा ने तस्वीरें खींचने के प्यार को नया आयाम दिया।

अब फोन से तस्वीरें रोजाना खींची जाती हैं और लोग इन्हें प्रिंट कराने के बारे में लोग भूलने लगे हैं। फोन में उपलब्ध फिल्टर तस्वीरों को मनचाहा रूप देने में माहिर हैं। इंस्टाग्राम पर दस लाख फॉलोवर्स वाले जैसन एम पीटरसन पिछले 25 सालों से केवल ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीरें ही खींचते रहे हैं। ‘ये हैं मोहब्बतें’ समेत कई धारावाहिकों में दिख चुके टीवी एक्टर राज सिंह अरोड़ा की तस्वीरों को पसंद करने वाले इंस्टाग्राम और फेसबुक पर भरे पड़े हैं।

राज को तस्वीरें खींचना बहुत पसंद है। हिमाचल से लेकर न्यूयाॉर्क, लेह-लद्दाख और मुंबई तक की सुंदर तस्वीरें उनके पास हैं। राज के फेसबुक और इंस्टाग्राम हैंडल पर मौजूद तस्वीरें आम न होकर बेहद खास हैं। इतनी खूबसूरत कि देखने वाले को उस जगह से प्यार हो जाए और वह आह भरकर बोले कि मुझे भी वहां जाना है।

सोशल नेटवर्ककी दुनिया हो या आम कैमरे की दुनिया, फोटोग्राफी ने लोगों को नया नजरिया प्रदान किया है। लंदन के रहने वाले कई अवॉर्ड जीत चुके मेक्सिकन फोटोग्राफर एंटोनियो आलमोस कहते हैं, लोग रेस्तरां में खाने जाते हैं लेकिन खाने से पहले वे भोजन की तस्वीरें लेते हैं। मुझे आप लोग गलत मत समझिए। मुझे भी आइफोन और इंस्टाग्राम पसंद है लेकिन आप आइफोन पर खूबसूरत तस्वीर लेकर उसे प्रिंट कराके तो देखिए। मेरे लिए फोटोग्राफी का अल्टीमेट एक्सप्रेशन प्रिंट है। जिस तरह जीवन को दौड़कर नहीं जिया जा सकता, उसी तरह तस्वीरें सिर्फ लेने के लिए नहीं बल्कि बनाने के लिए भी होती हैं। आलमोस की बात काफी हद तक सही भी है लेकिन इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता है कि फोटोग्राफी ने आम लोगों के लिए एक नई दुनिया की खोज की है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जनसत्ता सेहत: रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं
2 जनसत्ता रविवारी दाना पानी: रंग-ए-दोप्याजा
3 रविवारी शख्सियत: उषा मेहता
IPL 2020
X