ताज़ा खबर
 

बदले मौसम में संक्रमण की चिंता, खांसी का होना और कोरोना

अब तक के अनुभवों और अध्ययनों में कोरोना विषाणु के संक्रमण के शुरुआती लक्षण काफी हद तक जुकाम या फ्लू जैसे ही होते हैं। पर यह ऐसी बात नहीं कि जिससे हम बहुत डर जाएं। यह जरूर है कि कई बार डॉक्टरों के लिए भी यह पता लगाना मुश्किल होता है कि मरीज को इन्फ्लुएंजा हुआ है, कॉमन कोल्ड या कुछ और।

इन दिनों सेहत के प्रति जरा सी लापरवाही बड़ी मुसीबत का कारण बनेगा।

कोरोना संक्रमण का संकट अब भी कम नहीं हुआ है। पास-पड़ोस से लेकर पूरे देश में हालात जिस तरह के हैं, उसमें सेहत के प्रति खुद से जागरूक रहना ही सबसे सुरक्षित विवेक है। महामारी की दूसरी लहर ने खासतौर पर इसके लक्षण और इलाज को लेकर कई तरह के संशय बढ़ा दिए हैं। इस दिशा में स्वास्थ्य वैज्ञानिक लगातार काम कर रहे हैं, पर अब भी इससे बचाव और चपेट में आने से बचाव का कोई सरल रास्ता नहीं मिला है। जो रास्ता है वह संयमित खानपान और दिनचर्या के जरिए अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना और टीका लगवाना ही है।

अलबत्ता इस दौरान एक समझ यह भी बनी है कि सर्दी और गले के संक्रमण के प्रति हमें खासतौर पर सचेत रहना चाहिए। इस महामारी से संक्रमित होने वालों में सबसे ज्यादा इसी तरह के शुरुआती लक्षण दिखे हैं। इस लिहाज से सर्दी-जुकाम को लेकर हमें अपनी समझ थोड़ी बढ़ा लेनी चाहिए। वैसे भी बढ़ी गर्मी के बीच जिस तरह लगातार बारिश से मौसम ने करवट ली है, उसमें इस तरह की स्वास्थ्य समस्या लोगों में खासी तेजी से बढ़ रही है।

सामान्य ठंड
इस बारे में सबसे पहली बात तो यह है कि खांसी, जुकाम, गले में दर्द या बुखार को लेकर हम कैसे तय करें कि ये कोरोना के लक्षण हैं। हमें यह बात समझनी होगी कि हर वायरल संक्रमण एक जैसा नहीं होता। इनमें सबसे आम होता है जुकाम, जिसे हम ‘कॉमन कोल्ड’ (सामान्य ठंड) के तौर पर ज्यादा जानते हैं। इसके बाद है ‘इन्फ्लुएंजा’, जिसे संक्षिप्त कर ‘फ्लू’ का नाम दिया गया है। फिर है नोवल कोरोना विषाणु का संक्रमण, जिसकी चर्चा कोविड-19 के तौर पर आज पूरी दुनिया में है।

अब तक के अनुभवों और अध्ययनों में कोरोना विषाणु के संक्रमण के शुरुआती लक्षण काफी हद तक जुकाम या फ्लू जैसे ही होते हैं। पर यह ऐसी बात नहीं कि जिससे हम बहुत डर जाएं। यह जरूर है कि कई बार डॉक्टरों के लिए भी यह पता लगाना मुश्किल होता है कि मरीज को इन्फ्लुएंजा हुआ है, कॉमन कोल्ड या कुछ और। कॉमन कोल्ड में ज्यादातर लोगों के गले में खराश होती है, फिर नाक बहने लगती है और उसके बाद खांसी शुरू होती है। इसके अलावा सिरदर्द और बुखार कई दिनों तक रहता है, जिससे मरीज कमजोर महसूस करने लगता है।

इन्फ्लुएंजा
इससे अलग फ्लू या फिर इन्फ्लुएंजा में सब कुछ एक ही साथ हो जाता है। इसमें सिर के साथ मांसपेशियों में भी दर्द होता है। सूखी खांसी होती है और गला बैठ जाता है। गले में बुरी तरह दर्द होता है। स्थिति इतनी बिगड़ती है कि बुखार 105 डिग्री तक जा सकता है। भूख भी नहीं लगती और घंटों नींद आती। अच्छी बात यह है कि कॉमन कोल्ड कुछ दिनों में ही ठीक हो जाता है। एक हफ्ते बाद तो सारे ही लक्षण गायब हो जाते हैं, वहीं फ्लू खासा समय लेता है। इसमें एक हफ्ते तक तो आप बिस्तर से उठ भी नहीं पाएंगे। पूरे लक्षण जाने में और फिर से चुस्त-दुरुस्त होने में कई हफ्ते लग सकते हैं।

समस्या और संक्रमण
चिकित्सकों की राय में बहती नाक या गले में खराश का मतलब है कि आपको फ्लू या कॉमन कोल्ड हुआ है। इन बीमारियों में हमारी श्वसन प्रणाली (रेस्पिरेटरी सिस्टम) का ऊपरी हिस्सा संक्रमित होता है। गौरतलब है कोविड-19 के मामले में श्वसन प्रणाली का ऊपरी नहीं बल्कि निचला हिस्सा प्रभावित होता है। हालांकि ऐसी स्थिति में भी सलाह यही है कि विशेषज्ञ से उचित राय ली जाए। संक्रमण के कुछ मामलों के अध्ययन के बाद पिछले साल अमेरिकी हेल्थ एजेंसी सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने कोरोना के छह नए लक्षणों की सूची जारी की थी। पहले की सूची में तीन लक्षण- बुखार, खांसी और सांस में तकलीफ को कोरोना के लिहाज से खतरे का संकेत माना गाया था। बाद में इसमें ठंड लगने, गले में खराश और नसों में दर्द जैसी परेशानियों को भी कोरोना संक्रमण का संभावित लक्षण माना गया।

गौण लक्षण
कोविड-19 के साथ जो सबसे खतरनाक बात है वह यह कि जरूरी नहीं कि इसमें संक्रमण के लक्षण प्रत्यक्ष तौर पर दिखें ही। कोरोना संकट की दूसरी लहर में भी यह बात देखने में खूब आ रही है। विभिन्न अध्ययनों और चिकित्सकीय दिशानिर्देशों में कोविड-19 का ‘इन्क्यूबेशन पीरियड’ 14 दिन का माना गया है। इन्क्यूबेशन पीरियड उस अवधि को कहते हैं जिसमें संक्रमण के बाद बीमारी के लक्षण दिखने शुरू होते हैं। इस बारे में किसी तरह की समस्या महसूस करने पर बेहतर है कि आप चिकितस्क के पास के पास जाएं और जरूरी होने पर कोविड-19 की जांच कराएं।

(यह लेख सिर्फ सामान्य जानकारी और जागरूकता के लिए है। उपचार या स्वास्थ्य संबंधी सलाह के लिए विशेषज्ञ की मदद लें।)

Next Stories
1 सबसे सुंदर हाथ
2 खाना हल्का पर मन का
3 कब और कैसे करें दूध का सेवन, आहार में खूब सेहत में भरपूर
यह पढ़ा क्या?
X