ताज़ा खबर
 

कहानी: यह आम रास्ता नहीं है

क्यों? क्यों जा रही हो इस शहर और इस बसी-बसाई दुनिया को छोड़ कर? उसकी मासूम आंखें कुछ देर मेरी ओर ताकती रहीं। मैं भी खामोशी से जवाब का इंतजार करता रहा। अमृता ने इतना ही कहा कि मैं या आप अपने तरीके से जी सकें, ऐसा मुश्किल है। सीधे-सादे रास्ते में भी कई जगह स्पीड ब्रेकर आ जाते हैं।

Author Published on: June 9, 2019 2:08 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

कमलेश भारतीय

यह जो छोटी-सी पक्की र्इंटों की पगडंडी जा रही है, तब एकदम कच्ची हुआ करती थी। यह कच्ची पगडंडी इसलिए कि उन दिनों आवासों के आसपास मजबूत दीवार थी और इस कच्ची पगडंडी की जरूरत हर आम-ओ-खास को पड़ती रहती थी। मैं भी इसी पगडंडी पर संभल-संभल कर मोटरसाइकिल चलाते हुए पहली बार अमृता से मिलने गया था। उसे कॉलेनी में बिल्कुल दीवार के साथ सटा आवास मिला हुआ था। यों अमृता से मेरी पहली मुलाकात अचानक हुई थी। मैं एक कार्यक्रम की कवरेज करके निकल रहा था और उस दिन मोटरसाइकिल के बजाय पैदल ही था। देखा, मेरे सामने एक विभाग के मित्र गाड़ी में बैठे हैं और मुझे इशारा कर रहे हैं, गाड़ी में आ जाने का। ड्राइविंग सीट पर एक महिला स्टेयरिंग संभाले बैठी थी। मित्र ने परिचय कराया, वह अमृता थी, किसी दूसरे विभाग में पढ़ाती थी।

इसके बाद मैंने विभाग में जाकर चाय पीने की पेशकश स्वीकार की तब अमृता ने बताया था कि परिचय कराने वाले मित्र के बारे में उसकी राय बहुत अच्छी नहीं है और इसी के चलते वह मुझे भी कोई तरजीह नहीं दे रही थी, लेकिन इधर-उधर की जानकारी मिली कि आप ठीक-ठाक आदमी हैं, इसलिए चाय पर निमंत्रण दे दिया। अमृता की साफगोई मुझे अंदर तक छू गई थी। सरल भाव से सब सच-सच कह देने की अमृता की अदा से मैंने उसकी ओर दोस्ती का हाथ बढ़ा दिया था, जिसे थामने में उसने भी देरी नहीं की। मैं उस शहर में नया-नया आया था और मेरी शामें बहुत अकेली और उदास बीतने से अमृता ने बचा लिया। यह तो बाद में अहसास हुआ कि उसकी शामें भी उतनी ही उदास और तन्हा थीं। मैं एक दिन भीड़ भरे बाजार से गुजर रहा था कि अमृता दिख गई। उसके कदम ठिठके तो मैं भी आगे नहीं बढ़ पाया। वह बताने को तो टेलर मास्टर के पास किसी सूट के डिजाइन के बारे में बात करने आई थी, पर मेरे निमंत्रण पर ही एक रेस्तरां में चलने को तैयार हो गई थी। मेज पर आमने-सामने पहली बार हम बैठे थे और रेस्तरां के और ग्राहकों के शोर शराबे के बावजूद खामोश एक-दूसरे को देख रहे थे कि बात का सिलसिला कहां से शुरू करें। आखिर अमृता ने बताना शुरू किया था कि कैसे वह बड़े विश्वविद्यालय में उस व्यक्ति के संपर्क में आई, जो अब उसका पति है और कैसे एक ही विश्वविद्यालय में पहुंचे, पर उसकी महत्त्वाकांक्षा इस शहर में बने नए विश्वविद्यालय के नए विभाग में खींच लाई। अब बच्चों की मां की भूमिका के साथ-साथ महत्त्वाकांक्षा दुखदायी साबित हो रही है। पति महोदय किसी अखबार के रविवारीय संस्करण की तरह आते हैं और सोमवार से फिर जिंदगी का पहिया अकेले ही खींचना पड़ता है। बहुत से काम ऐसे होते हैं, जहां अकेले भाग-दौड़ कर जब बुरी तरह हांफ जाती हूं, तब भीड़ भरे बाजार में निकल पड़ती हूं। इस तरह अजनबी चेहरे ही सही, कुछ नए लोगों को देख लेती हूं और किसी-किसी दिन पहचान वाले व्यक्ति से भी मुलाकात हो जाती है, जैसे कि आपसे आज मुलाकात हो गई।

मुलाकातों का यह सिलसिला फिर चल निकला और उदास शामें खिलने लगीं। मन का पंछी उड़ान भरने लगा। पांव जमीन पर नहीं लगते थे और रुकते तो सीधे अमृता के घर जाकर। बात दोस्ती से आगे नहीं थी, लेकिन लोगों को चर्चा के लिए कुछ न कुछ मसाला चाहिए और वह मिल रहा था। अमृता को इसकी कोई परवाह नहीं थी, क्योंकि उसने इन चर्चाओं के बीच जीना सीख रखा था। उसका कहना था कि उसे अपने ढंग से जीना है और उसकी समस्याओं का हल दूसरों के पास नहीं, उसी को खोजना है। फिर दूसरों के रास्ते पर या कहने पर कैसे चल सकती है? यों अमृता की शादी की सालगिरह में भी संगीत की धुन पर पति-पत्नी को मस्त नाचते देखा तब सहज ही विश्वास नहीं हुआ। होली का गुलाल लगाने मैं भी पहुंचा। उस समय घर के हर कोने में रंग बिखरे थे, पर जीवन में वे रंग कहीं खो गए थे। मैं वहां से लौट कर देर तक सोचता रहा था। अमृता को शराब से नफरत थी और पति महोदय की पहली पसंद। एक बार मैं मित्रता में उपहारस्वरूप उनकी पसंद की चीज ले गया था, तब अमृता की आंखों में नफरत की इबारत पढ़ कर मैं ज्यों की त्यों लौटा आया था। कुछ दिन तक उसकी भवें मेरी ओर भी तनी रहीं थीं। उसे वापस उसी रंग में लाने के लिए कई दिन लग गए थे। यह पहलू भी सामने आ गया था कि पति-पत्नी की प्रेम की डोर कैसे और किन कारणों से कमजोर होती जा रही है। एक बार अमृता के घर जाते समय अचानक गाय सामने आ गई थी और मुझे थोड़ी चोट लग गई थी। यह देख कर अमृता ने एकदम रूई से सारी सफाई की थी। उससे मैं अंदर तक भीग गया था, लेकिन यह सोच कर हैरान था कि आखिर पति-पत्नी के बीच कहां से और कैसे दूरियां शुरू होती हैं और इन दूरियों को पाटने की बजाय खामोशी से इन्हें बढ़ते हुए क्यों देखते रहते हैं? इससे बेकार की चर्चाएं जन्म लेती हैं और इन चर्चाओं से व्यक्ति और व्यक्तित्व अफवाहों के धुएं के घेरे में सिमटता जाता है। लोगों का कहना है कि धुआं वहीं होता है, जहां आग होती है।

अब देखो न, अमृता ने अपने एक सहयोगी को कार चलाना सिखाना क्या शुरू किया था कि बातें बननी शुरू हो गर्इं। यहां तक कि उस समय विश्वविद्यालय के उच्च पद पर बैठे अधिकारी भी अमुक की गर्लफ्रेंड कह कर अमृता की बात करने लगे थे, पर वह बेफिक्र थी, पूरी तरह। उसके बाल हवा में लहराते रहते, वह यह सब सुन कर बालों की तरह बातों को हवा में लहरा देती। इससे क्या होता है? मैं सिखाती हूं तो किसी को क्या है? यह मेरी जिंदगी है, मुझे इसे जीने का पूरा हक है, किसी को इससे क्या? इस बेफिक्री के पीछे कहीं यह उम्मीद कायम थी कि उसके पति को इसी विश्वविद्यालय में अच्छा पद मिल जाएगा और वे दोनों इसके लिए पूरी कोशिश में लगे थे। उच्च अधिकारी भी सपने दिखाने में कोई कमी नहीं छोड़ रहे थे। आखिरकार साक्षात्कार रखा गया और अमृता की उम्मीदें आसमान छूने लगीं। उसे लगा कि अब बच्चों को उनके पिता का सहारा और साथ मिल जाएगा। ऐन आखिरी मौके पर यह साक्षात्कार जब रद्द कर दिया गया, तब पहली बार अमृता टूट गई और बुरी तरह रो दी। आंसू बरबस आ रहे थे। उसके सपने बिखर गए थे। तब भी लगा कि वह पूरे मन से परिवार के प्रति समर्पित है और कहीं से भी उन चर्चाओं और अफवाहों वाली अमृता नहीं है, पर लोगों की जुबान को कौन रोक सका है? आखिर एक दिन अमृता चली गई। अचानक। किसी और शहर में। जाने से पहले मुलाकात हुई। विदाई सोच कर कांप गया मैं भी। यों शहर और दुनिया बहुत छोटी हो चुकी है, फिर भी विदाई तो विदाई होती है।

क्यों? क्यों जा रही हो इस शहर और इस बसी-बसाई दुनिया को छोड़ कर? उसकी मासूम आंखें कुछ देर मेरी ओर ताकती रहीं। मैं भी खामोशी से जवाब का इंतजार करता रहा। अमृता ने इतना ही कहा कि मैं या आप अपने तरीके से जी सकें, ऐसा मुश्किल है। सीधे-सादे रास्ते में भी कई जगह स्पीड ब्रेकर आ जाते हैं। चर्चाओं को बल मिलता है और वे दूर तलक जाती हैं। छोटी-छोटी बातें धीरे-धीरे बड़ा रूप ले लेती हैं। मेरी बच्चियां उसी सहयोगी के बच्चों के साथ खेला करती थीं। एक दिन मेरी बच्ची ने पूछा- मम्मी, उनके पापा आपके फ्रेंड लगते हैं? क्यों, किसने कहा? कॉलोनी में सब बच्चे हमें छेड़ रहे हैं। बस, मैंने समझ लिया कि यह आम रास्ता नहीं है। इसलिए जा रही हूं। नई जगह नया जीवन और नया रास्ता खोजने का प्रयास करूंगी, नई हवा में सांस ले सकूंगी। उसने विदा के लिए हाथ मिलाया। पर उसके फैसले से मैं हिल गया। एक सवाल भी हवा में उछल गया कि क्या सारी शिक्षा और आधुनिकता के बावजूद औरत को कितनी लक्ष्मण रेखाओं का सामना करना पड़ता है और यह कब तक होता रहेगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 नन्ही दुनिया: कविता और शब्द-भेद
2 कहानी: दूसरी अमृता
3 दाना-पानी: बेड़मी पूरी और आलू की भाजी की रेसिपी