ताज़ा खबर
 

कविता: पिचक पिचक जाता फुकना

कहती है जब आई हूं, कुछ दिन तो होगा रुकना!

Author Published on: February 9, 2020 5:11 AM
ठंडी होकर गैस सिकुड़ती, पिचक-पिचक जाता फुकना!

नए साल पर मस्ती में,
शीतलहर है बस्ती में!

कहती है जब आई हूं,
कुछ दिन तो होगा रुकना!
बरफ जमेगी जब तरु पर,
डाली को होगा झुकना!
बुला रहे हैं सब सूरज को,
जोड़े हाथ परस्ती में!

ठंडी होकर गैस सिकुड़ती,
पिचक-पिचक जाता फुकना!
वही निकले बाहर जिसको,
शीतलहर से है ठुकना!
नाक करेगी सूं-सूं-सड़-सड़,
ठिठुरन भरी समस्ती में!

रावेंद्र कुमार रवि

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X
Next Stories
1 कहानी: नया संकल्प
2 सावधानी से पहनें कांटेक्ट लेंस
3 शख्सियत: नाना फडणवीस
ये पढ़ा क्या?
X