ताज़ा खबर
 

गीत- चूहेजी, दादाजी के दांत

गुडविन मसीह के गीत।

Author Published on: April 9, 2017 6:25 AM
प्रतीकात्मक चित्र।

चूहेजी

सबके बन गर पक्के घर
चूहेजी हो गए बेघर
छोड़ शहर वो गांव में आए
आकर बहुत वहां पछताए
जिस घर में ली शरण उन्होंने
पक्के थे सब उसके कोने
देखी बिल्ली एक उन्होंने
उसको देख लगे वह रोने
सोचा कहां मैं छिप जाऊं
कैसे खुद की जान बचाऊं
मन-ही-मन बिल्ली मुस्काई
झट चूहे के पास वो आई
बोली मुझसे मत घबराओ
आओ गले मेरे लग जाओ
मिलकर हम तुम मौज करेंगे
अब हम दोनों दोस्त बनेंगे
चूहा बोला उछल-उछल कर
सुन ले बिल्ली कान खोल कर
सोना तू अब पांव पसार कर
तेरा घर मैं चला छोड़ कर
जाता चूहे को यों देख कर
रह गई बिल्ली मन मसोस कर

दादाजी के दांत

दादाजी के दांत निराले
रखते थे डिबिया के अंदर
खाना खाते खूब चबाकर
पानी पीते खूब दबा कर
हंसते दादा दांत लगा कर
सोते दादा दांत हटा कर
खिसियाते दादा से बंदर
आते नहीं वो घर के अंदर
एक दिन सोए दादा छत पर
उनके दांत ले गए बंदर

 

योगी आदित्यनाथ इन तस्वीरों पर भी गौर कर लेते तो गैरभाजपाई वोटर्स भी हो जाते मुरीद

Click to use this video

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 कहानी- चंदा की रोटी
2 कवि प्रसंग- इतिहास की गवाही के बिना
3 प्रकाशन- सुबह की उजली धूप-सा जीवन