ताज़ा खबर
 

सेहत- सर्दी में खानपान

तेज ठंड में बीमारियां भी पीछा नहीं छोड़तीं, खासकर छोटे बच्चों और पचास पार वालों के लिए। इसलिए सबसे जरूरी है सर्दी में खानपान दुरुस्त रखना।
Author January 14, 2018 06:56 am
चित्र का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

इन दिनों कड़ाके की ठंड पड़ रही है। पर इस सर्दी का अलग ही मजा है। हालांकि तेज ठंड में बीमारियां भी पीछा नहीं छोड़तीं, खासकर छोटे बच्चों और पचास पार वालों के लिए। इसलिए सबसे जरूरी है सर्दी में खानपान दुरुस्त रखना। सर्दी में खानपान ऐसा होना चाहिए, जिससे शरीर में हमेशा गरमी बनी रहे।
अक्सर सर्दियों में तापमान में कमी आने पर दिल से संबंधित समस्याएं बढ़ जाती हैं, लेकिन कुछ सजगता बरत कर इस मौसम में स्वस्थ रह कर इसका आनंद लिया जा सकता है।
अगर दिल के मरीज हैं
जिन लोगों को दिल की कोई भी बीमारी हो, उन्हें ध्यान रखना चाहिए कि नमक कम खाएं। इससे रक्तचाप की समस्या भी नहीं बढ़ेगी। सर्दी के दिनों में तली हुई चीजें ज्यादा खाई जाती हैं। इसका नुकसान यह होता है कि वजन बढ़ने लगता है। इतना ही नहीं, जिन लोगों को कोलेस्टेरॉल की समस्या रहती है, तली हुई या ज्यादा वसा वाली चीजों से उनका कोलेस्टेरॉल बढ़ने लगता है और यह दिल की बीमारी का कारण बन सकता है।
सर्दी में हड्डियों को गरमाहट देने, सर्दी-जुकाम से बचाने और शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए बहुत से मौसमी फल और सब्जियां उपलब्ध हैं, जिनका सही तरीके से उपयोग कर आप बिल्कुल स्वस्थ रह सकते हैं।
हरी सब्जियां
हरी पत्तेदार सब्जियां सबसे उत्तम और स्वास्थ्यवर्धक भोजन हैं। इनमें फाइबर, फोलिक एसिड, विटामिन सी, पोटैशियम, मैग्नीशियम और अन्य पोषक पदार्थ प्रचुर मात्रा में होते हैं। शरीर को दुरुस्त रखने के लिए हरी सब्जियां हमेशा खाएं और स्वस्थ रहें। हरी पत्तेदार सब्जियों से शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर भी सही बना रहता है।
हरी पत्तेदार सब्जियों में पालक, मेथी, बथुआ और सरसों का साग सर्दियों में हमेशा उपलब्ध रहते हैं। इनमें प्रोटीन, विटामिन, आयरन के अलावा और भी बहुत से तत्त्व भरपूर मात्रा में होते हैं। सब्जियों के साथ पालक का सूप पीने से शरीर में पानी की कमी पूरी होती है। पालक को आप सब्जी के रूप में भी खा सकते हैं।
सर्दियों में मक्के और बाजरे की रोटियां खाना फायदेमंद होता है। ये अनाज शरीर को गरम रखने में मदद करते हैं। मक्के और बाजरे का सेवन केवल सर्दियों में ही किया जा सकता है।
ब्रोकली
ब्रोकली में पानी की मात्रा करीब नब्बे फीसद तक और बहुत से पोषक तत्त्व मौजूद होते हैं। इसे उबाल कर खाना चाहिए।
इसके अलावा सर्दियों के मौसम में फलों का भी भरपूर सेवन करना चाहिए। ताजा सेब, सतंरा, अमरूद और चीकू नियमित रूप से खाएं। सेब में पानी काफी होता है और यह फाइबर, विटामिन सी, कैल्शियम और अन्य पोषक तत्त्वों का सबसे बेहतरीन स्रोत है। इसे रोजाना के भोजन में जरूर शामिल करें। बेहतर तो यह होगा कि फल और पत्तेदार सलाद को भोजन का नियमित हिस्सा बना लें।
सर्दियों में सतंरा, नींबू और आंवले का सेवन भी काफी फायदेमंद रहता है। इनमें विटामिन सी भरपूर होता है। यह पाचन को दुरुस्त रखता है। इससे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है, सर्दी-जुकाम से बचाती है।
पिंड खजूर और मेवे
इसके अलावा सर्दियों में पिंड खजूर सबसे अच्छे फल और मेवे का काम करते हैं। ज्यादा महंगे भी नहीं होते इसलिए सबकी पहुंच में बोते हैं। पिंड खजूर को दूध में उबाल कर भी खाया जा सकता है। इसमें शर्करा, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन-विटामिन भरपूर मात्रा में होते हैं।
इसके अलावा मूंगफली, काजू, बादाम, अखरोट और पिस्ता भी खासतौर से सर्दियों के लिए ही हैं। अखरोट शरीर को निरोगी और मजबूत रखने के साथ गरम रखने में काफी मददगार होते हैं।
अदरक / लहसुन
ठंड के समय में अदरक का सेवन फायदेमंद होता है। यह शरीर को सर्दी के अनुकूल बना देता है, जिससे ठंड कम लगती है। अदरक का इस्तेमाल चाय से लेकर दालों और सब्जियों में किया जाता है। यह औषधि का भी काम करता है। अगर लहसुन से परहेज नहीं है तो सर्दियों के लिए यह सबसे उत्तम है। दिन में दो से चार कली तो दाल, सब्जी या कच्चे रूप में भी खा सकते हैं। लहसुन में ढेरों गुण होते हैं। खासकर रक्तचाप और कोलेस्टेरॉल को नियंत्रित करता है और वात का शमन करता है। जोड़ों के दर्द में अदरक और लहसुन का इस्तेमाल काफी फायदेमंद है।
सूप पीएं
सर्दियों में सूप बहुत फायदेमंद होता है। इसका सेवन करने से शरीर को गरमाहट मिलती है। सूप का इस्तेमाल हमेशा रात को करना चाहिए। रात में हल्के खाने के तौर पर भी इसका प्रयोग बेहतर रहता है। सूप टमाटर और हरी सब्जियों, गाजर-चुकंदर का बना सकते हैं। ल्ल

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.