ताज़ा खबर
 

दाना-पानी- हरा-भरा पनीर टिक्का, आलू-कचालू चाट

सर्दी में कुछ गरमागरम चटपटा खाने का मन बहुत होता है। खासकर छुट्टी वाले दिन जब फुरसत में हों तब और।

Author Updated: December 3, 2017 6:07 AM
आलू-कचालू चाट।

मानस मनोहर

आलू-कचालू चाट

यह चाट बनाने के लिए आलू को चौकोर और बड़े टुकड़ों में काट लें। इसके साथ कुछ लोग कचालू के नाम पर अरबी को शामिल करते हैं, पर अरबी चूंकि बादी करती है, गैस बनाती है, इसलिए सबके लिए इसे खाना उचित नहीं होता। इसकी जगह शकरकंद यानी स्वीट पोटैटो ले सकते हैं। वैसे कचालू आलू के आकार का होता है, जिसका गूदा कुछ लाल रंग का होता है। यह कम जगहों पर मिलता है, इसलिए कचालू के नाम पर लोग कहीं अरबी तो कहीं शकरकंद का इस्तेमाल करते हैं। अगर असली कचालू न मिले, तो चिंता की बात नहीं। इसकी जगह शकरकंद इस्तेमाल करें, अच्छा स्वाद आएगा। शकरकंद सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। इसका भी छिलका उतार कर आलू जितने बड़े आकार में काट लें और कुछ देर पानी में रख दें। तब तक दूसरी तैयारी कर लें।

बनाने की विधि

आल-कचालू चाट बनाने के लिए आलू और कचालू के टुकड़ों को तेल में कुरकुरा होने तक तल लेना बेहतर होता है। इन्हें तलते समय ध्यान रखें कि आंच हल्की रहे ताकि इनकी ऊपरी तरह कुरकुरी हो जाए और भीतर का हिस्सा ठीक से पक जाए। पर जो लोग तेल से परहेज करते हैं, वे इन्हें एअर फ्रायर में सेंक सकते हैं या फिर उबाल कर भी उपयोग कर सकते हैं।
चाट बनाने के लिए इमली की चटनी और नींबू के रस के अलावा बारीक कटी हरी मिर्च, हरा धनिया और अदरक ले लें। इसकी जगह अगर चाहें तो इन सबको मिला कर बनाई गई हरी चटनी का भी उपयोग कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त चाट मसाला, काला और सफेद नमक, कुटी हुई लाल मिर्च और भुने हुए जीरे के पाउडर की जरूरत होती है। चाहें तो आधा चम्मच कुटी हुई काली मिर्च भी ले सकते हैं। अगर घर में चाट मसाला नहीं है तो इसकी जगह तवे पर आधा चम्मच जीरा, आधा चम्मच साबुत धनिया और आधा चम्मच अजवाइन को भूरा होने तक चलाते हुए भून लें। इन तीनों को खरल में कूट लें। मिक्सर में न पीसें।
तले, भुने या फिर उबले हुए आलू और कचालू के टुकड़ों को एक बड़े कटोरे में डालें। ऊपर से इमली की मीठी चटनी, हरी चटनी, फिर बारीक कटे धनिया, मिर्च, अदरक के टुकड़े डालें। चाट मसाला या भूना-कुटा जीरा-धनिया-अजवाइन का पाउडर और आधा चम्मच कुटी काली मिर्च और लाल मिर्च पाउडर डालें। अब जितनी जरूरत हो उसका आधा हिस्सा रोजमर्रा इस्तेमाल होने वाला सफेद नमक और आधा काला नमक डाल लें। ऊपर से नीबू का रस डाल कर इन सबको चम्मच की मदद से अच्छी तरह मिलाएं और गरमा-गरम परोसें।

चटपट चटपटा

सर्दी में कुछ गरमागरम चटपटा खाने का मन बहुत होता है। खासकर छुट्टी वाले दिन जब फुरसत में हों तब और। धूप में बैठ कर चटपटा नाश्ता करने का मजा ही कुछ और होता है। ऐसे में ध्यान आता है कि ऐसा क्या कुछ हल्का-फुल्का बनाएं, जो जल्दी पक जाए और खाने में लजीज और सेहतमंद भी हो। इस बार कुछ ऐसे ही चटपट तैयार होने वाले चटपटे व्यंजन।

हरा-भरा पनीर टिक्का

बाजार में तंदूर या फिर ओवन में सिंका पनीर टिक्का तो आपने बहुत खाया होगा, पर घर में इसे अलग अंदाज में बना कर स्वाद लें, बाजार वाले टिक्केका स्वाद भूल जाएंगे।
हरा-भरा पनीर टिक्का बनाने के लिए कुछ तैयारियां पहले से करनी पड़ती हैं। सबसे पहले एक कटोरी दही को चार-पांच घंटे के लिए पतले कपड़े में बांध कर लटका दें, ताकि उसका सारा पानी बाहर निथर जाए। निथरे हुए दही में हरा धनिया, थोड़े-से पुदीने के पत्ते, दो हरी मिर्चें डाल कर मिक्सर में चटनी की तरह पीस लें। अब इस पेस्ट में जरूरत भर का नमक, आधा चम्मच लाल मिर्च, आधा चम्मच गरम मसाला और आधा चम्मच चाट मसाला डाल कर ठीक से फेंट लें।  पनीर के चौकोर बड़े टुकड़े काटें। इसी तरह हरी और पीली शिमला मिर्च के बीज निकाल कर पनीर के टुकड़ों के आकार में काट लें। अब बड़े आकार का प्याज लें और उसके बड़े टुकड़े काट कर उसकी परतों को खोल लें। इन सबको दही वाले पेस्ट में लपेट कर आधे घंटे के लिए फ्रिज में रख दें।  आधे घंटे बाद इन्हें फ्रिज से निकालें और टुथपिक की मदद से बीच में पनीर और उसके अगल-बगल प्याज और शिमला मिर्च के टुकड़ों को पिरो लें। एक नॉनस्टिक पैन को गरम करें। उसमें आधे चम्मच बटर या घी की हल्की परत लगाएं। पैन ठीक से गरम हो जाए तो आंच को मद्धिम कर दें और टुथपिक में गुंथे पनीर और शिमला मिर्च-प्याज को रख दें। टुथपिक को पकड़ कर इन्हें पलटते रहें। ध्यान रखें कि टिक्कों पर चिपका मसाला जलने न पाए। सुनहरा भुन जाने के बाद उन पर चाट मसाला छिड़कें और आधा नीबू का रस निचोड़ कर हरी चटनी के साथ उन्हें गरमागरम परोसें। ल्ल

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 संस्कृतिज-बादल बाउल बजाए रे इकतारा
2 भाषा-भेदी- देखना की उछलकूद
3 विमर्श- सिकुड़ता लेखक-पाठक संबंध