health jansatta article habbit of biting nails - सेहतः नाखून चबाने की आदत - Jansatta
ताज़ा खबर
 

सेहतः नाखून चबाने की आदत

अक्सर लोगों को नाखून चबाते देखा जाता है। नाखून चबाने की आदत बच्चे, जवान और बूढ़े सभी में होती है। यह एक मनोवैज्ञानिक समस्या भी है।

Author August 5, 2018 5:52 AM
नाखून चबाने की आदत बचपन से ही बच्चों में पनपने लगती है जिसे बाद में छुड़ाना मुश्किल हो जाता है।

अक्सर लोगों को नाखून चबाते देखा जाता है। नाखून चबाने की आदत बच्चे, जवान और बूढ़े सभी में होती है। यह एक मनोवैज्ञानिक समस्या भी है। दरअसल, जब लोग अधिक तनाव या अधिक सोच में डूबे होते हैं तब नाखून चबाते हैं। कई बार लोग इस आदत को खुद छोड़ना चाहते हैं, घर और आसपास के लोग भी उन्हें टोक कर इस आदत को छुड़ाने का प्रयास करते हैं, लेकिन वे यह आदत नहीं छोड़ पाते। नाखून चबाने वाले व्यक्ति को भी यह मालूम होता है कि नाखून चबाना अच्छी आदत नहीं है फिर भी यह करता है। नाखून चबाने की आदत बचपन से ही बच्चों में पनपने लगती है जिसे बाद में छुड़ाना मुश्किल हो जाता है। नाखून चबाने के कई नुकसान हैं :

पाचन क्रिया पर प्रभाव

नाखून चबाने से नाखूनों में जमा गंदगी और बैक्टीरिया पेट में चले जाते हैं, जिससे पाचन क्रिया पर प्रभाव पड़ता है। पेट अक्सर खराब रहता है। शौच की स्वाभाविक प्रक्रिया बाधित होती है।

ऊतक होते हैं नष्ट

जब कोई व्यक्ति नाखून चबाता है तो उसके साथ वह वे ऊतक भी चबा लेता है, जिससे नाखून बढ़ते हैं। ऊतक चबा लेने से नाखून स्वाभाविक ढंग से नहीं बढ़ पाते।

संक्रमण का खतरा

हमारे हाथ से ज्यादा गंदगी नाखूनों में होती है। आप कितने भी हाथ साफ कर लें लेकिन नाखून के अंदर की गंदगी पूरी तरह नहीं निकल पाती। नाखून के अंदर ही बैक्टीरिया पनपते हैं। जब आप नाखून चबाते हैं तब वे बैक्टीरिया मुंह के रास्ते आपके शरीर में प्रवेश करते हैं, जिससे आपको संक्रमण का शिकार होना पड़ सकता है।

दांतों का कमजोर होना

ज्यादा नाखून चबाने से दांत कमजोर हो जाते हैं। नाखून चबाने वाले लोगों को कई बार मुंह बंद करने पर ऊपर और नीचे के दांतों को एक साथ लाने में दिक्कत होती है। दांत अपने मूल स्थान से खिसकने लगते हैं।

खीझ बढ़ना

नाखून चबाना जब आपकी आदत बन जाती है और इससे छुटकारा पाना चाहते हैं, लेकिन फिर भी आदत छूट नहीं पाती, तब खीझ बढ़ने लगती है। एक शोध के अनुसार बीस से तीस फीसद लोग नाखून चबाते हैं। इन लोगों के जीवन स्तर की गुणवत्ता में भी गिरावट आती है।

उपचार

ऐसा नहीं कि नाखून चबाना एक लाइलाज बीमारी है। नाखून चबाना एक आदत है, जिसे थोड़ी-सी कोशिश से छुड़ाया जा सकता है। यह आदत आमतौर पर बचपन में पड़ती है। उसी समय इस आदत को छुड़ा दिया जाए, तो आसानी से छूट जाती है। नाखून चबाने की आदत से छुटकारे के कुछ उपायों को अपनाकर आप भी इस आदत से निजात पा सकते हैं।

नाखून साफ और छोटे रखें

नाखून चबाने की आदत छोड़ने का सबसे आसान उपाय है नाखूनों को साफ रखना। साफ रखने के लिए नाखून को छोटा रखना जरूरी है। छोटे नाखूनों में गंदगी कम रहती है।

नाखून चबाने का मन हो तो कुछ और चबाएं

जब भी आपका नाखून चबाना का मन हो तो कोई और खाद्य पदार्थ चबा सकते हैं। ऐसा करने पर आपकी आदत में भी सुधार होगा और कुछ पौष्टिक पदार्थ भी आप खा सकेंगे।

नाखूनों पर कुछ कड़वा लगाएं

बच्चे हों या बड़े सभी कड़वे स्वाद से बचते हैं। इसलिए जब भी आपका मन नाखून चबाने का हो रहा हो तब आप नाखूनों पर लाल मिर्च, नीम या कोई कड़वा तेल लगा सकते हैं। आप चाहें तो यह कड़वापन नाखूनों पर तब तक बनाए रख सकते हैं जब तक आपकी नाखून चबाने की आदत छूट न जाए।

ध्यान बटाएं

नाखून चबाने की आदत से निजात पाने का सबसे बेहतर उपाय है ध्यान बांटना। जब भी आपका मन नाखून चबाने का हो तब आप अपना पसंदीदा काम करें। यह पसंदीदा काम कविता, कहानी, लेख, पेंटिंग, नृत्य कुछ भी हो सकता है। पसंद का काम करने पर आपका ध्यान नाखून चबाने से हट जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App