ताज़ा खबर
 

दिवाली में सजावट

दीपावली स्वच्छता, पवित्रता, आपसी रिश्तों में मिठास और सजावट का त्योहार है। घर की साफ-सफाई के बाद सबसे अधिक ध्यान जाता है, घर की सजावट पर। सजावट के लिए बाजार में तरह-तरह की चीजें उपलब्ध हैं। बस जरूरत होती है, इनके इस्तेमाल में कल्पनाशीलता की। दीपावली पर घर की सजावट कैसे करें, बता रही हैं।

Author November 4, 2018 10:28 PM
प्रतीकात्मक फोटो

सुमन बाजपेयी

पोत्सव की चहल-पहल है। इस मौके पर सबसे पहले घर की सजावट पर ध्यान जाता है। साफ-सफाई के बाद घर का कोना-कोना सजाना है, तो कुछ अलग पारंपरिक रूप देकर ऐसा किया जा सकता है। सबसे पहले घर को रोशन करने के लिए कुछ नए प्रयोग किए जा सकते हैं। दीयों के अलावा, लैंप, लाइट्स, कैंडल्स के विभिन्न स्टाइल बाजार में उपलब्ध हैं। मिट्टी के दीये भले त्योहारों में घर-आंगन को रोशन करने का पारंपरिक तरीका हों, लेकिन आजकल इनमें भी बदलाव देखा जा सकता है। कांच, झिलमिलाते गोटा और किनारी से सजे डिजाइनर दीये कई खूबसूरत रंगों और अनोखे डिजाइन में मिलते हैं, जिन्हें आप घर के कोनों में रख सकती हैं या उन्हें कोई आकार देते हुए जैसे स्वस्तिक, ऊं या फूलों के गुच्छे की तरह सजा सकती हैं। दीये के साथ मोमबत्तियों का मेल भी कर सकती हैं।

छेदों वाले ब्रास के लैंप रोशनी को एक खूबसूरत आयाम देते हैं। इन लैंपों में सजावटी ढंग से बने छिद्रों में से चारों ओर छन कर बिखरती रोशनी पूरे माहौल को चकाचौंध से सराबोर कर देती है। साथ ही इस तरह के कुछ खास लैंपों की रोशनी से दीवारों पर गणेश, लक्ष्मी, फूलों या अन्य तरह की खूबसूरत आकृतियां बनती हैं, जो घर को उत्सवी आभा देती हैं। इन्हें पूजा स्थल या ड्रांगरूम में टांग सकती हैं। खूबसूरत फूलों और अन्य आकृतियों की टी-लाइट्स भी रोशनी को एक लुक देती हैं। इन्हें आकर्षक टी लाइट होल्डर्स में रख सकती हैं और जहां चाहे इन्हें सजाया जा सकता है। राइस लाइट्स में लगे लगभग बीस-तीस लैंटर्न, जो दोनों तरफ से अलग रंग दिखाते हैं, इन्हें लगाने से हर कमरे की जगमगाहट बढ़ाई जा सकती है। उत्सव जैसा एहसास कराएंगी। कलश के आकार में मिलने वाली लाइट भी आप घर में लगा सकती हैं, जो एक पारंपरिक परिवेश निर्मित करती हैं। कई रंगों में उपलब्ध इन लाइटों को घर के मुख्य द्वार या खिड़की पर सजाएं।

मोमबत्तियों का आकर्षण
मोमबत्तियों की विविधता तो देखते ही बनती है। एलईडी कैंडल्स बहुत प्रचलित हो रही हैं। इसके अलावा पिलर कैंडल्स, प्रिंटिड मोटिफ्स वाली कैंडल्स लगा कर भी घर-आंगन में रोशनी बिखेर सकती हैं। फ्लोटिंग कैंडल्स भी बहुत खास लुक देती हैं। मिट्टी या मेटल के किसी बड़े कटोरे या दीये में पानी भर कर कई सारी फ्लोटिंग कैंडल्स रखी जा सकती हैं। पानी में गुलाब के फूल की पत्तियां भी डाली जा सकती हैं। स्टैंड वाली मोमबत्तियों को कांच के छोटे-छोटे रंगीन जार में रखें। इन जारों को एक सपाट आईने पर समूह में सजा कर रख सकती हैं। कॉफी मग में बहुत सारी लंबी मोमबत्तियों को एक साथ रखें और जलाएं, यह

बहुत खूबसूरत लगता है।
खुशबूदार, रंग बदलने वाली कैंडल बिना लौ के रोशनी प्रदान करती हैं। ये रिमोट कंट्रोल से संचालित होती हैं, जिस वजह से आप बारह विकल्पों में से किन्हीं भी तीन रंगों को एक बार में प्रदर्शित कर सकती हैं। इन कैंडल की खुशबू और रंग बदलने की अदा आपके घर को एक नया रूप देगी। मेहंदी कैंडल्स, फ्लावर कैंडल्स, र्फ्ल कैंडल्स, जार कैंडल्स में अलग-अलग अरोमा में कई वैरायटी बाजार में हैं, जिन्हें आप घर में सजा सकती हैं। अलग-अलग संगीत के साथ रंग बदलने वाली मोमबत्तियों को बालकनी में सजाया जा सकता है। चूड़ियों को एक के ऊपर एक करके चिपका लें और उनके बीच में दीए या मोमबत्ती रख कर कमरे के बीच में रख दें। इस तरह बहुत सारी चूड़ियों के अलग-अलग सेट तैयार कर उन्हें एक आकार देकर भी सजाया जा सकता है।

बिजली की झालरें
अपने घर की बालकनी में बिजली की झालरें लगा सकती हैं। ऐसी झालरें अब बहुत ही मनमोहक और नए डिजाइनों में बाजार में उपलब्ध हैं। कमरों में रोशनी की कतारों के बीच आप चमकता हुआ सितारा, ऊं या स्वास्तिक को भी लटका सकती हैं। आजकल हैंड-पेंटे्ड डेकोरेटिव विंडो भी मिलती हैं, जिन्हें आप खिड़की के फे्रम पर लगा सकती हैं। इन खिड़कियों पर गहरे रंगों से पेंटिंग बनी होती है। बिजली की लड़ियों के साथ गणेश के आकार की पीतल की घंटियां अगर प्रवेश द्वार पर लगा दी जाएं, तो सज्जा में चार चांद लग जाएंगे।

रंगोली
रंगोली और त्योहार एक-दूसरे के पर्याय हैं। आड़ी-तिरछी, त्रिकोण, आयत और वृत्ताकार आकृतियां या ज्यामितीय आकारों को हल्दी, कुंकम, रंग-बिरंगे फूलों, चावल के आटे आदि से सजाने की परंपरा रही है। रंगों या फूलों से रंगोली बनाना तो चलन में हमेशा से रहा है, पर क्रिस्टल रंगोली से अगर आप प्रवेश द्वार सजाती हैं तो बेहद खूबसूरत लगेगी। बीड्स का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। रंगोली के बीचों-बीच या चारों तरफ दीए सजा दें या मोमबत्ती लगा दें, जिससे वह हिस्सा भी रोशन हो जाएगा, जहां आपने रंगोली बनाई है।

फूलों से सजावट
त्योहारों पर फूलों की सज्जा न हो, तो अधूरा-सा लगता है। बाजार में इन दिनों फूलों से बने बहुत सारे सजावटी चीजें भी उपलब्ध हैं, जिन्हें आप घर के कोनों में दीयों, या कैंडल्स के साथ सजा सकती हैं। फूलों की पत्तियों को घर में कहीं भी मनचाहा आकार देकर चिपकाया जा सकता है। फ्लोरल डेकोरेशन के साथ लाइटिंग भी आप बेहद खूबसूरती से कर सकती हैं। प्रवेश द्वार पर आप बिजली की लड़ियों के साथ फूलों की लड़ी भी लगा सकती हैं। ०

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X