ताज़ा खबर
 

दाना-पानी- रेशेदार मजेदार

सर्दी में हरी पत्तेदार और रेशेदार सब्जियों की उपलब्धता बहुतायत में रहती है। रेशेदार सब्जियां न सिर्फ पाचन दुरुस्त रखने में मददगार साबित होती हैं, बल्कि इनमें कई प्रकार के विटामिन सहजता से उपलब्ध होते हैं। मगर पत्तेदार सब्जियों में आमतौर पर घरों में पालक, मेथी या बथुए का ही इस्तेमाल देखा जाता है। इनके अलावा भी अनेक सब्जियों में रेशे की मात्रा भरपूर होती है और वे शरीर को आवश्यक पोषण उपलब्ध कराती हैं। इस बार कुछ ऐसी ही सब्जियां बनाएंगे।

Author January 7, 2018 5:45 AM
सग्गा प्याज

मानस मनोहर

सग्गा प्याज

हरे प्याज में रेशे की मात्रा बहुतायत में होती है। इसकी एक खासियत यह होती है कि इसके रेशे आसानी से गलने वाले होते हैं। इस तरह से पेट को साफ रखने के साथ-साथ कैल्शियम, मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्त्व भी इसमें होते हैं। हरे प्याज की सब्जी बनाने के कई तरीके हैं। इन्हें कुछ लोग आलू के साथ बनाते हैं, तो कुछ केवल इसके पत्तों की बनाते हैं। कुछ लोग इसके पकौड़े तल कर तरी के साथ खाते हैं।
मगर बेसन के साथ हरे प्याज की सूखी सब्जी लाजवाब बनती है। इसे सूखी सब्जी के तौर पर दाल-चावल या रोटी-परांठे के साथ खाने का अलग ही मजा है।
हरे प्याज का साग बनाना बहुत आसान है। इसके लिए बहुत सामग्री की भी जरूरत नहीं होती। इसके लिए हरे पत्ते वाले कोमल प्याज लें। उन्हें साफ करके बारीक काट लें। इसके अलावा थोड़ा-सा बेसन और सौंफ, जीरा, अजवाइन, हींग जैसे कुछ मसालों की जरूरत होती है।
जितने वजन में प्याज के पत्ते लें, उससे करीब आधा बेसन लें। अब एक कड़ाही में थोड़ा-सा सरसों तेल गरम करें। उसमें जीरा, सौंफ और हींग का तड़का लगाएं। तड़का तैयार हो जाए तो उसमें जरूरत भर की हल्दी भी डाल दें। उसके बाद बेसन डाल कर आंच धीमी कर दें और उसे चलाते हुए भूनें। बेसन को भूनते हुए इस बात का ध्यान रखें कि उसमें गांठें न पड़ें। फिर जब बेसन भुनने की महक आने लगे तो उसमें कटा हरा प्याज डाल दें। ऊपर से नमक और आधा चम्मच सब्जी मसाला और आधा चम्मच लाल मिर्च पाउडर मिला कर बेसन के साथ सारी सामग्री को मिला लें।
कड़ाही पर ढक्कन लगा दें और आंच धीमी करके दस से पंद्रह मिनट तक पकने दें। प्याज पानी छोड़ेगा और उसकी नमी से प्याज उसमें लिपट जाएगा। दस मिनट बाद ढक्कन हटा कर सब्जी को चम्मच से मिलाते हुए पका लें। सब्जी का पानी सूख जाए तो उसे चूल्हे से उतार लें। उसमें हरी मिर्च काट कर मिलाएं और गरमा-गरम परोसें।

नारियल चुकंदर भुजिया

चुकंदर में भी भरपूर रेशे होते हैं। चुकंदर का रस खून को साफ करने और उदर विकार को मिटाने में मदद करता है। कच्चा नारियल भी पेट के लिए बहुत गुणकारी है। चुकंदर को आमतौर पर लोग सलाद के रूप में खाते हैं। इसकी सब्जी भी बनाई जाती है, पर कच्चे नारियल के साथ इसकी सब्जी लाजवाब बनती है। दक्षिण भारत में सांभर-चावल के साथ इसकी भुजिया बहुत लोकप्रिय है।  चुकंदर और कच्चे नारियल की सब्जी बनाना भी बहुत आसान है। इसमें भी बहुत सामग्री की जरूरत नहीं होती।  चुकंदर-नारियल की सब्जी बनाने के लिए पहले चुकंदर को छील कर उसे छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें। कच्चे नारियल की गरी को हल्का पानी डाल कर मिक्सर में पीस लें।

एक कड़ाही में सरसों का तेल गरम करें। उसमें पहले मेथी के दाने डालें और फिर राई और जीरा डाल कर तड़काएं। चार-छह पत्तियां कढ़ी पत्ते की भी डाल लें। तड़का तैयार हो जाए तो कटे हुए चुकंदर के टुकड़े डाल कर धीमी आंच करके पांच से सात मिनट तक पकने दें। जब चुकंदर आधा पक जाए तो उसमें हल्की-सी हल्दी, लाल मिर्च पाउडर, सब्जी मसाला और नमक डाल दें। फिर उसी के साथ पिसा हुआ नारियल मिला दें। सारी सामग्री को मिला लें और कड़ाही पर ढक्कन लगा कर धीमी आंच पर पांच से सात मिनट तक पकने दें। जब सब्जी का पानी सूख जाए तो आंच बंद कर दें और ऊपर से बारीक कटी हरी मिर्च डाल कर खाने के लिए परोसें। इसे दाल-चावल के अलावा रोटी-परांठे या फिर सांभर-चावल के साथ खाने का आनंद अलग ही होता है। ल्ल

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App