ताज़ा खबर
 

दाना-पानी: खाना हल्का स्वाद मन का

जरूरी नहीं कि हर वक्त खूब तेल-घी-मक्खन और मसाले वाला गरिष्ठ भोजन करने का मन हो। कई बार कुछ सादा और हल्का खाने का मन होता है। तबीयत ठीक न हो, तब तो हल्का खाने की जरूरत होती ही है, कई बार रात को जानबूझ कर भी कुछ ऐसा खाना चाहिए, जो हल्का और सुपाच्य हो। वह ऐसा हो, जिसे खाने के बाद पेट भरा-भरा भी लगे, मन को संतुष्टि भी मिले, पर गरिष्ठ न हो। ऐसे में सूप बहुत उपयुक्त भोजन साबित होता है। पहले भी हम सूप बनाने की विधियों पर बात करते रहे हैं, इस बार कुछ नया।

मानस मनोहर

मशरूम सूप
आजकल बाजार में सूप के पैकेट मिल जाते हैं, जिन्हें पानी में घोल कर बस उबाल लेना होता है। उनमें स्वाद तो बाजार का आ जाता है, मगर सेहत के लिए उन्हें उचित नहीं माना जाता। आयुर्वेद में पैकेट का सूप पीना अच्छा नहीं माना जाता। उनमें कई रसायन मिले होते हैं और चूंकि वे लंबे समय से बना कर रखे गए होते हैं, इसलिए उनके बजाय अगर घर पर ताजा सूप बना कर पीएं, तो उसका मजा ही अलग आता है। वह सेहत के लिए उचित है।
कई लोग घर में सूप बनाने से इसलिए हिचकते हैं कि उन्हें यह बनाना मशक्कत का काम लगता है।

मगर ऐसा बिल्कुल नहीं है। कुछ सूप तो झटपट बन जाते हैं। उन्हें बनाने के लिए बहुत कौशल की भी जरूरत नहीं होती। मशरूम का सूप भी वैसा ही है। मशरूम के गुणों से तो सभी परिचित हैं। हफ्ते में अगर एक बार भी मशरूम का सेवन कर लें, तो पोषण और सेहत की दृष्टि से यह एक बेहतर खाद्य है। मशरूम की सब्जी तो आप बनाते ही रहते होंगे। इसका सूप भी बना कर पीया करें। इसे बनाना बहुत आसान है।

सबसे पहले आठ-दस बड़े आकार के मशरूम लें। उन्हें गुनगुने पानी में नमक डाल कर रगड़ कर अच्छी तरह साफ कर लें। अब इनके छोटे टुकड़े काट लें। फिर एक पैन में आधा लीटर दूध गरम करने को रखें। जब दूध में उबाल आने लगे, तो उसमें मशरूम के टुकड़े डाल दें और मध्यम आंच पर दस से बारह मिनट तक पकने दें। इतनी देर में मशरूम नरम हो जाएंगे। आंच बंद कर दें। दूध को थोड़ा ठंडा होने दें। जब दूध हल्का गरम रह जाए, तो उसे मिक्सर में डाल कर दो-तीन बार झटका देकर चला लें।

ध्यान रखें कि मशरूम बिल्कुल बारीक न पिसे। कुछ छोटे टुकड़े उसमें बने रहें। उन्हें चबा कर खाने में मजा आता है। अब इस सूप को एक बार फिर उसी पैन में डाल कर गरम करने रख दें, जिसमें पहले इसे उबाला था। उबाल आने लगे, तो इसमें जरूरत भर का नमक, कूटी हुई पांच-छह काली मिर्चें, तीन-चार सफेद मिर्चें डालें और पांच मिनट बाद आंच बंद कर दें।

दूसरे सूप की तरह इसमें कार्न स्टार्च वगैरह डालने की जरूरत नहीं होती। मशरूम पिस कर खुद सूप को गाढ़ा बना देता है। मशरूम सूप तैयार है। गरमा-गरम परोसें, पीएं। अगर चाहें, तो इसके साथ एकाध डबल रोटी बटर में सेंक कर ले सकते हैं। रात के भोजन के लिए यह संपूर्ण आहार है।

सब्जी वाला सूप
हरी सब्जियों का सूप ज्यादातर लोगों को पसंद आता है। सेहत के लिए यह फायदेमंद भी है। रात को अगर भोजन की जगह यह सूप लें, तो संपूर्ण आहार का काम करता है। जो लोग चर्बी घटाना और शरीर में स्फूर्ति लाना चाहते हैं, उन्हें रोज रात को रोटी, चावल-दाल, सब्जी के बजाय यह सूप पीना चाहिए। इसमें इस्तेमाल होने वाली सब्जियों के रेशे यानी फाइवर और विटामिन शरीर की क्रिया को पुनर्चक्रित करने में मदद करते हैं।
मिक्स वेजिटेबल सूप बनाना भी बहुत आसान है। बस, मशरूम सूप से अलग इसमें कार्न स्टार्च यानी मक्की का मैदा डालना होता है, जिससे कि सूप गाढ़ा हो जाए। अगर इसके बिना भी बनाना चाहें, तो स्वाद में बहुत अंतर नहीं आएगा, केवल बाजार के सूप जैसा नहीं दिखेगा।

यह सूप बनाने के लिए आपको जो भी सब्जियां पसंद हों, ले लें। आमतौर पर इसमें हरी मटर, फूल गोभी, पत्ता गोभी, ब्रोकली, गाजर, कुछ मक्के के दाने, शिमला मिर्च वगैरह ही पड़ती हैं। इनमें से जिन सब्जियों को छोड़ना चाहें या इनके अलावा कुछ और जोड़ना चाहें, तो जोड़ सकते हैं। गाजर, गोभी, ब्रोकली वगैरह को धोकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें।

एक पैन में एक लीटर पानी लें। उसमें सारी सब्जियों को डाल कर उबलने के लिए रख दें। जब एक उबाल आ जाए तो उसमें एक इंच जितना बड़ा टुकड़ा अदरक का कूट कर डालें। एक से डेढ़ चम्मच कार्न स्टार्च को आधा कटोरी पानी में अच्छी तरह घोल कर डालें। ध्यान रखें कि कार्न स्टार्च में गांठें न रहने पाएं।

कार्न स्टार्च सूप को गाढ़ा बनाता है, इसलिए इसे डालते हैं। फिर जरूरत भर का नमक, सात-आठ कुटी काली मिर्च और थोड़ा-सा सफेद वेनेगर मिलाएं और दस पंद्रह मिनट तक मध्यम आंच पर उबलने दें। सूप अच्छी तरह गाढ़ा हो जाए, तो आंच बंद कर दें।
मिक्स वेजिटेबल सूप तैयार है। इसे गरमा-गरम पीने का मजा ही कुछ और है। अगर चाहें, तो इसके साथ दो ब्रेड के टुकड़े बटर में सेंक कर ले सकते हैं। यह सूप घर पर बना कर पीएं, बाजार के सूप का स्वाद भूल जाएंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सेहत: पसीने वाले दिनों में स्वास्थ्य की देखभाल, उमस में छूटता सेहत का पसीना
2 शख्सियत: ‘इतना ना मुझसे तू प्यार बढ़ा’ – सलिल चौधरी
3 प्रसंगवश: गौतम बुद्ध की सीख
यह पढ़ा क्या?
X