ताज़ा खबर
 

जानकारी – सागर में शहर

प्रशांत महासागर में बनेगा दुनिया का पहला तैरता शहर ।

Author April 9, 2017 6:29 AM
दक्षिणी चीन सागर (फाइल फोटो)

किरण बाला

यों तो दुनिया में लाखों की संख्या में छोटे-बड़े शहर हैं लेकिन क्या आप इस बात की कल्पना कर सकते हैं कि कोई एक पूरा शहर पानी पर तैरता हुआ हो सकता है? नहीं न । लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि प्रशांत महासागर में बनेगा दुनिया का पहला तैरता शहर । अपनी तरह के इस अनूठे तैरते शहर की योजना का खुलासा जनवरी 2017 में हुआ। इस शहर को बसाने के लिए फ्रांस की पोनेशिया सरकार और सीस्टडिंग इंस्टीट्यूट के बीच सौदा तय हुआ है। इस इंस्टीट्यूट के संस्थापक पीटर निएल के समुद्र में तैरते स्थायी, नवाचारी समुदाय की परिकल्पना की और डिजाइन बनाई। 1135.6 करोड़ रूपए की लागत से बनने वाले इस शहर की डिजाइन तैयार करने में पांच वर्ष लगे। इस महत्वाकांक्षी परियोजना में बसे शहर स्वतंत्र शहरों की तरह होंगे। ये नए प्रकार की सरकारों और कृषि के लिए भी मुफीद होंगे।

इस प्रायोगिक तैरते हुए परिदृश्य में कई नए विचारों का परीक्षण भी होगा। 2019 में इस शहर का निर्माण शुरू होने की संभावना है। 2020 से रहना शुरू कर देंगे लोग इस
हर में। महासागर में तैरते इस शहर में लोग स्थाई तौर पर निवास कर सकेंगे । 2020 तक 250 से 300 लोगों के रहने की व्यवस्था की जाएगी। इसके तीस साल बाद यानी 2050 में यहां लाखों लोग रहने लगेंगे। इस तैरते शहर की कई खासियतें होंगी। यह ग्यारह आयताकार और पंचमुखी प्लेटफार्म पर बसाया जाएगा ताकि शहर को उसके निवासियों की जरूरत पूरी हो सके। प्लेटफार्म मजबूत कंक्रीट से बनाएं जाएंगे ताकि इन पर तीन मंजिला इमारत जैसे अपार्टमेंट, छत, दफ्तर और होटल अगले सौ सालों के लिए बनाए जा सकें। परियोजना का आकर्षण इसकी खास स्थिति और सामाजिक स्वीकार्यता है। आखिर पानी पर तैरता शहर बसाने की क्या जरूरत है? फ्रेंच पॉलीकेशिया दक्षिण प्रशांत महासागर में 118 द्वीप और समुद्र है। समुद्री जल स्तर बढ़ता है तो इन द्वीपों को खतरा उत्पन्न हो सकता है। इस कारण यह नया शहर बसाने में दिलचस्पी ले रहा है। इन द्वीपों की सरकार ने नए शहर के निर्माण के लिए निर्माण कंपनी के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं। सौदे के तरह दो शर्त पूरी करनी होगी ।

पहली- परियोजना को पर्यावरण संबंधी हरी झंडी मिलनी चाहिए। दूसरी – यह शहर स्थानीय अर्थव्यवस्था को मदद करने वाला होने के साथ साथ पर्यावरण के अनुकूल होना चाहिए। इस परियोजना को बाद में द्वीप की स्थानीय सरकार और संभवत: फ्रांस की मंजूरी भी लेनी होगी क्योंकि यह इमारत फ्रांस की सीमा में आएगी।
अंतरिक्ष में मानव बस्तियां बसाने के बारे में बहुत कुछ कहा जा रहा है, लेकिन इसके उलट जापान के वैज्ञानिक समुद्र की लहरों पर तैरने वाला शहर बनाना चाहते हैं। इसी दिशा में कार्य करने वाले वैज्ञानिकों ने ओशन स्पायरल नामक आधुनिक सुविधाओं से लैस शहर बसाने की योजना का खुलासा कर सबको हैरत में डाल दिया है । ०

 

 

 

पीएम मोदी ने यूपी के सांसदों से कहा- "मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कोई सिफारिश न करें"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App