ताज़ा खबर
 

सेहत: गर्मी के मौसम में दिल के मरीजों को सलाह- रखें सावधानी पिएं खूब पानी

बहुत अधिक गर्मी और लू के कारण शरीर में पानी, सोडियम और पोटैशियम की कमी हो सकती है, जिसके कारण डिहाइड्रेशन हो सकता है और स्थिति जानलेवा हो सकती है। ये समस्याएं दिल के मरीजों के लिए तो गंभीर हैं ही, साथ ही स्वस्थ लोगों के लिए भी खतरनाक हो सकती हैं।

गर्मी में सेहत के साथ लापरवाही घातक हो सकती है।

देश में गर्मी का सितम भले इस बार कुछ विलंब से शुरू हुआ है पर देखते ही देखते चढ़े पारे ने लोगों की मुश्किलें बढ़ानी शुरू कर दी है। इस बार ये परेशानी इसलिए भी गंभीर है क्योंकि कोरोना संक्रमण के खतरे के कारण लोग पहले से काफी डरे-सहमे हैं। ऐसे में उन लोगों की मुश्किल खासतौर पर बढ़ सकती है जो पहले से हृदय रोगी हैं या इस मौसम में वे अपने हृदय के स्वास्थ्य को लेकर लापरवाह हैं। दरअसल, एक ऐसे समय में जब देश के कुछ हिस्सों में पारा 46 डिग्री तक जा पहुंचा है, उसमें आम लोगों के लिए भी कई तरीके की कठिनाइयां बढ़ गई हैं। लिहाजा उन लोगों की हालत की कल्पना की जा सकती है जो हृदय रोगी हैं। ऐसे मौसम में नींद की कमी, बेचैनी और प्यास से उनके दिल की धड़कन बढ़ सकती है और वो एरिद्मिया के शिकार हो सकते हैं।

इसी तरह बहुत अधिक गर्मी और लू के कारण शरीर में पानी, सोडियम और पोटैशियम की कमी हो सकती है, जिसके कारण डिहाइड्रेशन हो सकता है और स्थिति जानलेवा हो सकती है। ये समस्याएं दिल के मरीजों के लिए तो गंभीर हैं ही, साथ ही स्वस्थ लोगों के लिए भी खतरनाक हो सकती हैं। आइए, जानते हैं कि ऐसे तपते मौसम में हम अपने हृदय को स्वस्थ रखने के लिए किन बातों का खास खयाल रखें।

आमतौर पर इस बात को तो सामान्य लोग भी समझते हैं कि गर्मी के दिनों में हमारे शरीर को ज्यादा पानी की आवश्यकता होती है। बावजूद इस समझ के कई लोग गर्मी में भी कम पानी पीकर खुद को निर्जलीकरण (डिहाइड्रेशन) जैसी समस्या को दावत दे बैठते हैं। डॉक्टर बताते हैं कि निर्जलीकरण के कारण शरीर में सोडियम, पोटैशियम और पानी की कमी हो जाती है और इससे हृदय की मांसपेशियों में खिंचाव पैदा हो सकता है।

जिन लोगों को पहले से ही उच्च रक्तचाप की शिकायत है, उनके लिए भी यह मौसम प्रतिकूल साबित हो सकता है। दरअसल, पानी की कमी से पूरे शरीर में रक्त प्रवाह की व्यवस्था बिगड़ जाती है। ऐसे में अगर कोई रक्तचाप कम करने की दवा भी ले रहा है, तो स्थिति ऐसी बनती है कि एक तरफ को पानी कम पीने के कारण हृदय गति बढ़ जाती है, दूसरी तरफ दवा अंदर जाकर रक्तचाप कम कर देती है। इससे अचानक व्यक्तिको कार्डियक अरेस्ट की समस्या हो सकती है।

समझें और बरतें
’ गर्मी के दिनों में शरीर का जल संतुलन का बिगड़ना खतरनाक साबिता हो सकता है। इस समस्या से बचने के लिए पानी लगातार पीते रहें। इसलिए गर्मी के मौसम में पर्याप्त मात्रा में पानी पीना बहुत जरूरी है।
’ विशेषज्ञों के अनुसार आपको एक दिन में कम से कम 2.5 लीटर पानी जरूर पीना चाहिए। किसी भी स्थिति में दिनभर में 1.25 लीटर से कम पानी न पिएं, अन्यथा आपकी सेहत को गंभीर खतरा हो सकता है।
’ गर्मी के मौसम में चाय-कॉफी कम पिएं। चाय-कॉफी शरीर में पानी की कमी पैदा करते हैं। अच्छा हो कि इस मौसम में हम छाछ, लस्सी या फलों का जूस आदि पिएं।

’ कुछ लोग शरीर को चुस्त-दुरुस्त रखने के लिए व्यायाम करते हैं। ऐसे लोगों को ध्यान रखना चाहिए कि व्यायाम के समय और उसके बाद पानी पीना बहुत जरूरी है।
’ एक बार ज्यादा खाने के बजाय कई बार में थोड़ा-थोड़ा खाएं, जिससे पेट को खाना पचाने में ज्यादा मेहनत न करनी पड़े। खाने में रसीले फल और सब्जियों को शामिल करें ताकि आपको न्यूट्रिएंट्स भी मिलें और पानी भी। इसके लिए तरबूज, खरबूज, खीरा, ककड़ी, टमाटर, प्याज, अदरक, संतरा, केला और दूसरे फलों को शामिल करें।

’ इस मौसम में नमक का सेवन कम करें।
’ अगर बहुत जरूरी न हो तो दोपहर में घर से बाहर निकलने से परहेज करें। अगर घर से बाहर निकल ही रहे हैं, तो छाते का इस्तेमाल करें। साथ में प्यास बुझाने के लिए पानी की बोतल जरूर रखें।

’ गर्मी में कपड़े पहनने में भी सावधानी रखनी चाहिए। अच्छा हो कि इन दिनों गहरे रंग के कपड़े न पहनें। इसके बजाय हल्के रंग के कपड़े पहनें। यह भी कि सूती कपड़े ही ज्यादा से ज्यादा पहनें। सिंथेटिक कपड़े न पहनें।
’ आइसक्रीम, बर्फ, अत्यधिक शीतल जल या शर्बत आदि लेने से बचें। ठंडी चीजें खा-पी सकते हैं, लेकिन बहुत अधिक ठंडी नहीं।
’ अपना रक्तचाप नियमित जांचते रहें और किसी भी प्रकार की असुविधा या समस्या होने पर तुरंत बिना देरी किए डॉक्टर से संपर्क करें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दाना-पानी: घर में बाजार का जायका
2 सेहत: चढ़े पारे के साथ बढ़ा लू का प्रकोप धूप से बचें, जरूरी सलाह मानें
3 दाना-पानी: स्वाद भी प्रयोग भी
ये पढ़ा क्या?
X