ताज़ा खबर
 

अभियान : स्वच्छता की चुनौती

केंद्र सरकार ने देश भर में स्वच्छता अभियान के लिए संसाधन जुटाने के लिए सेवा कर के दायरे में आने वाली सभी सेवाओं पर अधिभार यानी सेस लगाने का निर्णय किया है..

Author नई दिल्ली | Updated: November 18, 2015 6:02 PM
Swachh Bharat Abhiyan, Clean india, Narendra Modiस्वच्छ भारत अभियान के एक कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

केंद्र सरकार ने देश भर में स्वच्छता अभियान के लिए संसाधन जुटाने के लिए सेवा कर के दायरे में आने वाली सभी सेवाओं पर अधिभार यानी सेस लगाने का निर्णय किया है। यह सेस 0.5 प्रतिशत होगा और इसकी वसूली पंद्रह नवंबर से होगी। नीति आयोग में मुख्यमंत्रियों के समूह ने स्वच्छता अभियान के लिए पेट्रोल, डीजल पर दो फीसद सेस लगाने की सिफारिश की। वहीं कोल, एल्युमीनियम, आयरन और उत्पादन पर भी सेस की सिफारिश की गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक अनुमान के अनुसार प्रतिवर्ष लगभग 50 लाख लोगों की मानव मल जनित बीमारियों से मृत्यु हो जाती है और इनमें पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों की संख्या अधिक होती है।

विकासशील देशों में यह स्थिति अधिक दयनीय है। अतिसार से होने वाली कुल मृत्यु का एक चौथाई भाग अकेले भारत में है। यह तथ्य भी चौंकाने वाला है कि विश्व में लगभग दो सौ करोड़ जनसंख्या शौच सुविधाओं के बिना जीवनयापन करती है और उसकी एक बड़ी तादाद यानी 63 करोड़ लोग भारत के हैं। बिना शौच सुविधाओं के रहना अर्थात अपने आस-पास के वातावरण को दूषित करना या ऐसे वातावरण में रहना जहां हवा में लगातार कीटाणु हों और गंदगी में उन कीटाणुओं को पनपने के अवसर देना, लोगों का उनके संपर्क में आना और न चाहते हुए भी संक्रामक बीमारियों के घेरे में रहना इसका परिणाम है। खुले हुए गंदे नाले, नदियों के जल में प्रदूषण, नगरों के बीच ठोस कचरे पहाड़ और कारखानों से उत्सर्जित जलवायु और अपशिष्ट की मात्रा इसमें शामिल कर ली जाए, की तस्वीर एक बेहद अस्वच्छ देश की बनती है।

शोध बताते हैं कि बहुत हद तक कुपोषण भी अस्वच्छता का परिणाम है। ऐसा इसलिए कि संक्रमित जल और अस्वच्छता से उत्पन्न आंत के कीड़ों के विषाणु भोजन के पोषक तत्त्वों को शरीर में अवशोषित नहीं होने देते, जिससे रोग अवरोधकता कम हो जाती है। परिणामस्वरूप बच्चों का भौतिक विकास नहीं हो पाता। भारत में विश्व की उन्नीस प्रतिशत बाल जनसंख्या है और कुपोषण से पीड़ित कुल बच्चों का एक चौथाई भाग भी भारत में ही है। देश में गंदगी के कारण अनेक बीमारियां फैलती हैं। जनस्वास्थ्य के बजट पर 6,700 करोड़ रुपए सालाना यानी 60 रुपए प्रतिव्यक्ति खर्च आता है।

महात्मा गांधी ने अपने आसपास के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने संबंधी शिक्षा प्रदान कर राष्ट्र को एक उत्कृष्ट संदेश दिया था। उन्होंने स्वच्छ भारत का सपना देखा था जिसके लिए वह चाहते थे कि भारत के सभी नागरिक एक साथ मिलकर देश को स्वच्छ बनाने के लिए कार्य करें। महात्मा गांधी के स्वच्छ भारत के स्वप्न को पूरा करने के लिए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान शुरू किया। इस अभियान का उद्देश्य अगले पांच वर्ष में स्वच्छ भारत का लक्ष्य प्राप्त करना है ताकि गांधीजी की 150वीं जयंती को इस लक्ष्य की प्राप्ति के रूप में मनाया जा सके। स्वच्छ भारत अभियान सफाई करने की दिशा में प्रतिवर्ष सौ घंटे के श्रमदान के लिए लोगों को उत्प्रेरित करता है। प्रधानमंत्री द्वारा मृदला सिन्हा, सचिन तेंदुलकर, बाबा रामदेव, शशि थरूर, अनिल अंबानी, कमल हसन, सलमान खान, प्रियंका चोपड़ा और तारक मेहता का उल्टा चश्मा की टीम जैसी नौ नामचीन हस्तियों को आमंत्रित किया गया कि वह भी स्वच्छ भारत अभियान में अपना सहयोग प्रदान करें, इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर साझा करें और अन्य नौ लोगों को भी अपने साथ जोड़ें, ताकि यह एक शृंंखला बन जाए।

महात्मा गांधी ने एक बार कहा था, स्वच्छता आजादी से महत्त्पूर्ण है, इस बात से इसके सापेक्षिक महत्त्व को समझा जा सकता है। अस्वच्छ परिवेश कई रोगों के फैलाव के लिए आधार बनाता है जो स्वच्छता के रूप में लोगों के कल्याण के साथ गहरा संबंध रखती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि प्रदूषित पानी 80 प्रतिशत रोगों का मूल कारण है, जो अपर्याप्त स्वच्छता और सीवेज निपटान विधियों का परिणाम है। पानी की आपूर्ति और स्वच्छता भारत के संविधान के तहत और 73वें और 74वें संवैधानिक संशोधनों, के तहत राज्य का दायित्व है। राज्यों द्वारा यह दायित्व और अधिकार पंचायती राज संस्थानों (पीआरआई) और शहरी स्थानीय निकायों (यूएलबी) को दिए गए हैं।

आज भी बड़ी संख्या में लोग खुले स्थान पर मल त्याग करते हुए जलाशयों और पानी के अन्य खुले प्राकृतिक संसाधनों को संदूषित करते हैं। इससे प्रदर्शित होता है कि लोगों को स्वच्छता के महत्त्व पर जानकारी देने और शहरी और ग्रामीण दोनों ही क्षेत्रों में स्वच्छता पूर्ण विधियों के उपयोग की शिक्षा देने की आवश्यकता है। अपर्याप्त स्वच्छता सुविधाओं और जागरूकता की कमी के कारण अनेक स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं जैसे पेट में कीड़े, जो आम तौर पर मानवीय गोल कृमि और मानवीय हुक वर्म। इस रोग की दर आम तौर पर अर्धशहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में कम आय वर्ग में बहुत अधिक होती है। स्वच्छता मानव विकास की मूलभूत पहचान है। यह उसकी सामर्थ्य का प्रतीक है और उसकी प्रगति का पैमाना भी है।

स्वच्छता एक मूलभूत मौलिक अधिकार और दायित्व दोनों है। 21वीं शताब्दी में जहां तकनीकी विकास और खुशहाली के नए आयाम खोजे जा रहे हैं, वहीं विश्व के किसी भाग में या समाज के किसी हिस्से में अस्वच्छ जल और अस्वच्छता जनित कारणों से बड़े पैमाने पर मृत्यु होना एक विडंबना ही है। ‘स्वच्छता’ क्या है, यह एक वृहत शब्द है जिसमें व्य‘ि’िगत सफाई, मनुष्य और पशुओं के मल का समुचित निपटान, कूड़ा-करकट का उचित प्रबंधन, जल निकासी का उचित प्रबंध और आरोग्ययुक्त जीवन में सहायक साफ-सुथरा निर्मल वातावरण आदि सम्मिलित हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार स्वच्छता का अभिप्राय मनुष्य के स्वस्थ निर्वहन को प्रभावित करने वाले भौतिक पर्यावरण के उचित प्रबन्धन से है। स्वच्छता में मानव व्यवहार और वातावरण को साफ-सुथरा बनाए रखने के लिए भौतिक सुविधाएं जैसे शौचालयों की व्यवस्था, बहते पानी की समुचित निकासी आदि शामिल हैं। सरकार के सेस लगाने से हर वह सेवा जो सर्विस टैक्स के दायरे में आती है महंगी हो जाएगी।

सरकार ने बजट के दौरान कहा था कि स्वच्छता सेस केवल उन्हीं पर लगेगा जिनकी आय अधिक है, लेकिन इस तरह के एलान ने सबको चकित कर दिया है। लेकिन यहां सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या सेस लगाकर जनता की जेब खाली करने मात्र से स्वच्छता अभियान सफल हो सकेगा। भारत में स्वच्छता एक बेहद पेचीदा और कठिन कार्य है। और जब तक इसके लिए सरकार मजबूत संकल्प के साथ स्वच्छता के लिए व्यवहारिक सांगठनिक और तकनीकी ढांचा तैयार नहीं करती, यह प्रयास महज एक सद्विचार ही बना रहेगा। इसके लिए आधारभूत ढांचा सरकार को ही तैयार करना होगा। इसमें कॉपोर्रेट की भूमिका भी महत्त्वपूर्ण होगी। कूड़ा उठाने की प्रक्रिया, उसकी डंपिंग और रीसाइक्लिंग और हर दो सौ कदम पर कूड़ेदान लगाने और उन्हें नियमित साफ करने का काम नगरनिगम ही कर सकेंगे, जनता नहीं। जबकि हम देख रहे हैं कि देश में नगरपालिकाओं और नगरनिगमों की कार्यप्रणाली पूरी तरह अव्यवहारिक और अवैज्ञानिक है। क्या उन्हें सुधारे बिना जनता पर अधिभार लगाने भर से यह अभियान अपेक्षित गति पकड़ सकेगा। (शैलेंद्र चौहान)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जानकारी : क्या खाते हैं अंतरिक्ष में यात्री
2 शांताराम : सामाजिक फिल्मकार
3 अन्न की बर्बादी और भूख
ये पढ़ा क्या?
X