ताज़ा खबर
 

अप्रासंगिक : संकीर्ण भारतीयता

अपूर्वानंद तिरंगी टोपी पहने याकूब नमाज पढ़ रहा है। सफेद और काली टोपी पहने एक दूसरा ‘बदमाश’ मुसलमान उसे पैसे के बदले बम-विस्फोट करने को फुसलाता है। ‘तिरंगी टोपी’ वाला अच्छा मुसलमान देशभक्ति की कसमें खाता है, इस्लाम का संदेश देता है और उसके उकसावे में आने से इनकार कर देता है। काली-सफेद टोपी पहने […]
Author November 30, 2014 12:23 pm

अपूर्वानंद

तिरंगी टोपी पहने याकूब नमाज पढ़ रहा है। सफेद और काली टोपी पहने एक दूसरा ‘बदमाश’ मुसलमान उसे पैसे के बदले बम-विस्फोट करने को फुसलाता है। ‘तिरंगी टोपी’ वाला अच्छा मुसलमान देशभक्ति की कसमें खाता है, इस्लाम का संदेश देता है और उसके उकसावे में आने से इनकार कर देता है। काली-सफेद टोपी पहने ‘बदमाश’ मुसलमान हाथ में बम लिए कैमरे में ताकता रह जाता है। यह आधे मिनट की फिल्म है, जो आजकल पीवीआर में असली फिल्म के पहले दिखाई जा रही है, ऐसा अखबारों ने बताया। ‘आतंकवाद’ नामक यह फिल्म मुंबई के बृजभूषण सिंह ने आतंकवाद के खिलाफ सामाजिक जागरूकता पैदा करने के मकसद से बनाई है। उनका कहना है कि भारतीय मुसलमानों को अपनी छवि सुधारने की जरूरत है: ‘‘लेकिन मैं उनकी सकारात्मक छवि दिखाना चाहता हूं, यह बता कर कि अब वे अपनी जिम्मेवारी के प्रति सजग हो रहे हैं। मैं गुमराह हो रहे (भारतीय) मुसलमानों को होशियार करना चाहता हूं और पाकिस्तानी मुसलमानों को चेतावनी देना चाहता हूं कि वे हमारे नौजवानों को बहकाने से बाज आएं।’’

सेंसर बोर्ड ने यह फिल्म पास कर दी है और पीवीआर के मालिक कहते हैं कि इस फिल्म को 1952 के भारतीय सिनेमेटोग्राफी कानून की खंड 12(4) के अनुपालन में दिखाया जा रहा है। इसके अनुसार हर सिनेमा हॉल को सामाजिक हित के संदेश वाली कोई फिल्म दिखाना अनिवार्य है। उन्हें इस फिल्म से कोई दिक्कत नहीं। लेकिन अगर दर्शकों को भी यह फिल्म परेशान नहीं करती तो मान लेना चाहिए कि हमारी सामाजिक अंतरात्मा बीमार हो गई है और उसे इलाज की जरूरत है।

पिछले दिनों एक बयान आया कि भारतीय मुसलमान इस्लामिक स्टेट के इशारे पर नहीं नाचेंगे। यह अलग मसला है कि मुसलमानों को ऐसा चरित्र प्रमाणपत्र देने वालों पर खुद मुसलमानों के कत्लेआम की साजिश का आरोप है। जो कातिल हैं उन्हें अपनी छवि सुधारने की जरूरत नहीं। अब वे मारने की जगह अपने शिकारों को गोद लेने पर आमादा हैं और अपने ‘पालित बच्चे’ को सही राह पर रखने की अपनी अभिभावकीय जिम्मेदारी निभाने के राष्ट्रवादी कर्तव्य का निर्वाह करने की राह पर चल पड़े हैं।

देश के एक नागरिक वर्ग को सार्वजनिक रूप से चिह्नित करने और उन्हें पाबंद करने के लिए तिरंगे के ऐसे इस्तेमाल पर हमारे उन राष्ट्रीय नेताओं को शर्म आती, जिन्होंने इस एक समावेशी, सद्भावपूर्ण समाज के प्रतीक के रूप में प्रस्तावित किया था। ध्यान रहे कि सिर्फ एक संगठन था, जिसने लंबे अरसे तक तिरंगे को अपना मानने से इनकार किया था। उसका नाम राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ है। उसने तो आजादी के फौरन बाद तिरंगे को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी बताया था। उसके मुताबिक तीन रंग चित्त में विकार उत्पन्न करते हैं, इसलिए एकरंगा भगवा ही एकमात्र राष्ट्रीय रंग हो सकता है। हाल हाल तक सबसे प्रामाणिक रहे स्वयंसेवक ने, जो अब अपने शिष्य द्वारा अपदस्थ किए जाने के बाद राह ताकने की भूमिका में डाल दिए गए हैं, कुछ बरस पहले इस तिरंगे से असंतोष जताते हुए कहा था कि इसके केंद्र में जो चक्र है, वह बौद्ध धर्म का एक प्रतीक है और इस तरह यह पर्याप्त रूप से धर्मनिरपेक्ष ध्वज नहीं है।

आपत्ति अपने हिसाब से ठीक जगह की गई थी। आखिर बौद्ध मत हिंदू मत के विकल्प के रूप में ही आया और अपनाया गया था। स्वतंत्र भारत में हिंदू अल्पमत में अगर जा सकते थे, तो इस्लाम या ईसाई मजहबों की वजह से नहीं। सिर्फ और सिर्फ बौद्ध धर्म उसे चुनौती दे सकता था, जिसे हिंदू धर्म की अनाचारी जातिव्यवस्था के विरुद्ध भीमराव आंबेडकर के नेतृत्व में दलितों ने अपनाना शुरू कर दिया था। यह एक दूसरी विडंबना है कि इस देश में धर्मनिरपेक्षता नामक बीमारी फैलाने का आरोपी गांधी का चहेता अगर सबसे अधिक प्रभावित किसी से था तो बुद्ध से। धर्म से उसे विराग था, लेकिन दुखात्मक संघर्षपूर्ण जीवन में बुद्ध जैसी प्रशांति को हासिल करना उसे मानवीय आदर्श मालूम पड़ता था। कटुता नहीं।

तिरंगे के बीच गांधी के प्रिय चरखे की उपस्थिति के लिए उनके शिष्य ने उसका सबसे अनिवार्य हिस्सा उसके चक्र को माना और उसे प्रतीकित करने के लिए सारनाथ के अशोक स्तंभ के चक्र को चुना। इस तरह श्रम और शांति का संयोग राष्ट्रीय झंडे में किया गया। लेकिन जैसा पहले कहा गया, यह एक संगठन विशेष के कलेजे में फांस की तरह चुभ गया।

इस तिरंगे का इस्तेमाल किसी को डराने, अपना वर्चस्व स्थापित करने या शर्मिंदा करने के लिए नहीं किया जाएगा, यह वादा संविधान सभा में तिरंगे को राष्ट्रध्वज के रूप में प्रस्तावित करते हुए किया गया था। लेकिन बार-बार हमने भारत के मुसलमानों से यह मांग की है कि वे इस झंडे के प्रति अपनी वफादारी का सार्वजनिक इजहार करें। यह भी कि वे साबित करें कि वे पाकिस्तान के विरोधी हैं। और यह उन्हें बार-बार साबित करते रहना होता है। इस तरह यह झंडा उनके लिए आश्वासन नहीं, एक धमकी की तरह उन पर लटका रहता है।

फिल्म की बात करें। टोपी सारे मुसलमान नहीं पहनते। मुसलमान औरतें तो नहीं ही। तो फिर राष्ट्र के प्रति वफादारी क्या सिर्फ मुसलमान पुरुषों को साबित करनी है? या उनके राष्ट्रवादी होते ही मुसलमान औरतें आप ही आप राष्ट्रवादी हो जाएंगी? लेकिन अभी तो बर्धमान में बम विस्फोट के बाद मुसलमान औरत भी पकड़ी गई है? उसके लिए फिल्म कब बनेगी? फिर, जैसी टोपी भारतीय मुसलमान पहनते हैं, पाकिस्तानी या बांग्लादेशी मुसलमान भी वैसी ही टोपी पहनते हैं। तो क्या तीनों को अपनी-अपनी राष्ट्रीय टोपियां बनवानी चाहिए?

रहा सवाल छवि का, तो मुसलमान की छवि का निर्माण तो ‘गदर’ जैसी फिल्में करती रही हैं। लेकिन ‘अ वेडनसडे’ जैसी फिल्में कहीं अधिक सूक्ष्म और खतरनाक तरीके से मुसलमानों पर इस राष्ट्रवादी दायित्व का आरोपण करती हैं। फारूख शेख ने बहुत पहले तकलीफ के साथ कहा था कि हिंदी फिल्में मुसलमानों को कभी आम इंसान की तरह नहीं दिखा पाती हैं। वह मुसलमान जो अपने रोजमर्रेपन से किसी हिंदू या सिख या आदिवासी की तरह ही जूझता रहता है।

जहां तक आतंकवाद का सवाल है, वह तो शायद राष्ट्र के लिहाज से माओवादी भी कर रहे हैं। उनमें अधिकतर आदिवासी शामिल हैं। तो उन्हें अपनी छवि सुधारने के लिए किस तरह का उपदेश सिंह जैसे फिल्मकारों से लेना होगा?

यह भी ध्यान रहे कि पाकिस्तान बन जाने के बाद भी जिन मुसलमानों ने भारत में टिकने का फैसला किया वे इससे अनजान नहीं थे कि वे बहुसंख्यक हिंदुओं के बीच रहेंगे। लेकिन भारत ने उनसे यह वादा किया था कि उनके साथ हर स्तर पर बराबरी का व्यवहार किया जाएगा। क्या वह किया गया? क्या उनसे आम हमवतन की तरह का बर्ताव किया गया? क्या उन्हें पुलिस, सेना, प्रशासन, शिक्षा में समान अवसर दिए गए हैं? क्या नेहरू को यह नहीं कहना पड़ा था कि उन्हें इन सारी जगहों पर मुसलमानों की घटती जाती संख्या से काफी फिक्र है? और क्या उनकी चेतावनी के बावजूद मुसलमानों के साथ भेदभाव नहीं होता रहा? क्या वे हमेशा अपर्याप्त भारतीय नहीं बने रहे?

पर्याप्त भारतीय बनने के क्या तरीके हैं? क्यों एक हिंदू को जन्मना यह पर्याप्तता उपलब्ध हो जाती है और बाकियों को कमानी पड़ती है? क्यों एक हिंदू बेहतर जीवन के लिए पहले मौके पर अमेरिका की नागरिकता लेकर भी कट््टर भारतीय बना रहता है और वहीं बैठा-बैठा मुसलमान विरोधी भारतीय राष्ट्रवादी वमन करता रह सकता है और क्यों यहां जलील होकर भी टिका हुआ मुसलमान संदिग्ध बना रहता है कि वह यहां इसलिए है कि बाहर के इस्लामी राष्ट्रवादियों के लिए जमीन हमवार कर सके?

मुसलमानों के साथ संदिग्ध और संभावित अपराधियों जैसा व्यवहार करते हुए क्या भारतीय राज्य की संस्थाओं को और हिंदुओं को कभी हिचक हुई है? जो हिंसा में अनपढ़ों की हिस्सेदारी की बात करते हैं, उन संपन्न और सुशिक्षित लोगों ने क्या अपनी कॉलोनियों में मुसलमानों को घर खरीदने या किराए पर लेने की इजाजत दी है? क्या आज तक की मुसलमान विरोधी सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं में इंसाफ हो पाया है? जो मुसलमानों को मार या खदेड़ रहे थे, वे तो मुसलमान न थे? लेकिन इसके बावजूद बाइज्जत भारतीय तो वे बने रहे न?

 

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Hamid Raja
    Nov 30, 2014 at 4:04 pm
    अप्रासंगिक : संकीर्ण भारतीयता
    (0)(0)
    Reply
    1. Hamid Raja
      Nov 30, 2014 at 4:05 pm
      अप्रासंगिक : संकीर्ण भारतीयता
      (0)(0)
      Reply
      1. भास्कर
        Dec 4, 2014 at 5:49 pm
        यह तो मै दावे के साथ कह सकता हू कि भारत से ज्यादा सुरक्षित विश्व के किसी कोने के मुसलमान नही हैं| यह बात इससे सिद्ध होती है कि जहां आजादी के समय उनका प्रतिशत लगभग १० था आज वे १५% है| ये अलग बात है कि अभी भी आदर्शवादी स्थिति नही हैं| क्या हिन्दुओं के नशीलता पर उंगली उठाने वाले कोई ये बता सकता है कि उसी इस्लाम के मानने वालो के देशों चाहे वो हमारा पड़ोसी हो या अरबी देश मे इतने भरोसे और निडरता के साथ जीते है| अरे इन कुछ देशो मे तो मत देने का अधिकार तक नही होता| पाक मे तो सिर्फ .9%हिन्दु बचे हैं|
        (0)(0)
        Reply
        1. मनोज
          Dec 1, 2014 at 11:33 am
          अच्छा तो ये लेख आपने लिखा है .....कोई नहीं fir....आपके पेट मैं दर्द होना तो जायज़ है....अभी तो और भी दर्द उठेंगे.....पर सॉरी हम कुछ नहीं कर सकते...लिखते रहो..लिखते रहो.
          (0)(0)
          Reply
          1. S
            suresh k
            Nov 30, 2014 at 11:16 pm
            भारत में आज भी मुस्लमान सम्मान से जीवन जीते है , तभी तो दिन रात आबादी बढ़ रही है , पाकिस्तान में हिन्दुओ की क्यों कम हो रही है ? इसको लेखक को बताना चाहिए ? ऐसे लेखो से रोटी पैदा हो रही है ?
            (0)(0)
            Reply
            1. Load More Comments