विकास की तुक निकास

इस बीच गुजरात के एक मुख्यमंत्री निपटाए गए और दूसरे लाए गए! पहले वाले जब मुख्यमंत्री बने थे तो ‘विकास विकास’ जपे थे, ये आए तो ‘विकास विकास’ जपे हैं, लेकिन कब किसका ‘विकास’ उसी के ‘निकास’ का कारण बन जाएगा यह सिर्फ ‘विकास’ ही जानता है, क्योंकि ‘विकास’ की एक तुक ‘निकास’ भी है!

Hindu, Narendra Modi
RSS प्रमुख मोहन भागवत व कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (फोटो सोर्स – सोशल मीडिया)

अब तक था ‘लव जिहाद’, अब शुरू हुआ ‘नशा जिहाद’! अपना-अपना जनतंत्र अपना-अपना जिहाद! एक दिन दिल्ली बारिश में ‘डूबी’ तो चैनल ऐसे रोए कि लगा पहली बार बारिश देख रहे हैं! यह रिपोर्टरों की मासूमियत नहीं, बल्कि पेश करने की सनसनीखेज अदा है! जरा-सा पानी गिरा और ‘प्रलय प्रलय’ चिल्लाने लगे!

लेकिन, फिर एक दिन देश को आतंकी हमलों से बचा लिया गया! छह पाक प्रशिक्षित आतंकी पकड़ लिए गए। दो दिन तक चैनल उनके पते-ठिकाने बताते रहे, उनकी आतंकी क्षमता का वर्णन करते रहे! विपक्ष उवाच कि चुनावों के आसपास ही आतंकी क्यों पकड़े जाते हैं! फिर एक दिन हाथरस-मुरसान के राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम से अलीगढ़ में पीएम द्वारा एक नए विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया गया तो चैनलों ने कहा कि मोदी जी ने यूपी चुनाव का बिगुल बजा दिया है, लेकिन विपक्ष बोला कि यह सब चुनाव में ‘जाट वोट’ जीतने के लिए किया जा रहा है!
गणेश चतुर्थी के दिन दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने ‘लाइव’ गणेश पूजा दिखा कर बाकी सब भक्त नेताओं को पीछे छोड़ दिया!

उधर राहुल भैया ने भी माता वैष्णो देवी के दर्शन के बाद यह कह कर खबर बनाई कि ‘भाजपा वाले दुर्गा को मारते हैं, सरस्वती को मारते हैं… इस पर कुछ भक्तजन बोले कि ये क्या दर्शन हुए? उन्होंने ‘जै माता दी’ का जैकारा तो लगाया ही नहीं! अब राहुल भैया क्या ‘चंचल’ की तरह माता का भजन गाते कि ‘तूने मुझे बुलाया शेरांवालिए, मैं आया मैं आया शेरांवालिए… जै माता दी… जोर से बोलो जै माता दी’!

एक अंग्रेजी एंकर अब तक दो बार पूछ चुका है कि हिंदू मंदिरों को सरकारें न केवल कंट्रोल करती हैं, बल्कि उनकी लूट भी करती हैं, जबकि दूसरे धर्म-संस्थानों को उनके समुदायों के हवाले छोड़ा हुआ है! यह कैसा सक्युलरिज्म है? है न नए पंगे के लिए गरमागरम मुद्दा!

फिर एक दिन एक अंग्रेजी एंकर ने ‘ग्लोबल हिंदुत्व को तोड़ो’ वाले ग्लोबल वेबिनार की पोल खोलने के लिए अमेरिका के हिंदू धर्म विशेषज्ञ ‘डेविड फ्राउली’ उर्फ ‘स्वामी वामदेव शास्त्री’ से बात की, जिन्होंने बताया कि इस सेमिनार के पीछे कौन-कौन है और यह भी बताया कि ये कुछ ही लोग हैं, जिनके किए कुछ नहीं होने का और कि विदेशों में हिंदू समाज ने अपनी छवि को अपने कर्मों से उदार और प्रिय बनाया है!

एक अंग्रेजी चैनल पर प्रसारित ‘रेस अगेन्स्ट टाइम’ नामक अमेरिकी डाक्यूमेंट्री हर तरह से देखने लायक रही। वह बताती रही कि ‘अलकायदा’ ने ‘9/11’ को कैसे अंजाम दिया और किस तरह से अमेरिकी प्रशासन अपनी जनतांत्रिक ‘खींचतान’ के कारण उससे निपटने में ढीला रहा। यों उसे पहले से मालूम रहा कि ‘लादेन’ जरूर हमला करेगा, लेकिन कब, कहां और कैसे करेगा, इसका पक्का सुराग नहीं लगाया जा सका और फिर एक दिन लादेन ने उसी के जहाजों से अपने दो मरजीवड़ों के जरिए उसी की दो मीनारों को ध्वस्त करवा दिया!

डाक्यूमेंट्री यह भी बताती रही कि ‘अल कायदा’ को अमेरिका न तब समझ पाया था और न अब समझ पाया है, और कि पाकिस्तान पूरे बीस साल अमेरिका को चूना लगाता रहा और वह प्यार से लगवाता भी रहा! फिल्म देख कर हम कह सकते हैं कि जिस पाक की असलियत को अपने यहां का सड़क चलता आदमी तक समझता है उसे हारवर्ड डिग्री वाले क्यों नहीं समझ सकते!

इस बीच गुजरात के एक मुख्यमंत्री निपटाए गए और दूसरे लाए गए! पहले वाले जब मुख्यमंत्री बने थे तो ‘विकास विकास’ जपे थे, ये आए तो ‘विकास विकास’ जपे हैं, लेकिन कब किसका ‘विकास’ उसी के ‘निकास’ का कारण बन जाएगा यह सिर्फ ‘विकास’ ही जानता है, क्योंकि ‘विकास’ की एक तुक ‘निकास’ भी है!

एक अंग्रजी चैनल अक्सर ‘सैमुअल हंटिग्टन’ की थीसिस ‘क्लैश ऑफ सिविलाइजेशंस’ तथा तालिबान के ‘गजवा-ए-हिंद’ को जोड़ कर देखता-दिखाता और हमें डराता रहता है और कोई ‘रणबांकुरा’ नहीं कहता कि : ‘इहां कुम्हड़ बतिया कोउ नाहीं जे तरजनी देखि मर जाहीं’! लेकिन भैये! यूपी के आसन्न चुनाव जो न कहलवाएं सो थोड़ा! एक दिवस योगी जी ने एक विपक्षी नेता पर कटाक्ष करते हुए कह दिया ‘अब्बाजान’, तो हर चैनल पर होने लगा ‘अब्बाजान अब्बाजान’! फिर किसान नेता टिकैत जी ने तुक मार दी कि ओवैसी है इनका ‘चचाजान’! तो होने लगा ‘अब्बाजान और चचाजान’ फिर एक ने कहा कि अभी तो आनी है ‘अम्मीजान’!

है न अपनी राजनीति एक मनोरंजक लव स्टोरी! और फिर एक दिन पीएम जी ने ‘लोकसभा टीवी’ और ‘राज्यसभा टीवी’ को मिला कर ‘संसद टीवी’ बना दिया! फिर एक दिन पीएम के इकहत्तरवें जन्मदिन पर केजरीवाल ने तो बधाई दी ही, राहुल भैया ने भी बधाई दी!
राहुल भैया की ऐसी सदाशयता को देख हमारी तो आंखें भर आर्इं!

पढें रविवारीय स्तम्भ समाचार (Sundaycolumn News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट