ताज़ा खबर
 

प्रकृति से प्रेम

हमने आज तक प्रकृति का ध्यान इसलिए नहीं रखा, क्योंकि हम प्रकृति से प्यार का रिश्ता नहीं जोड़ पाए। आज प्रकृति को बचाने के लिए विभिन्न कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं, लेकिन प्रकृति के जख्म बढ़ते ही जा रहे हैं।

Author Published on: September 1, 2019 1:32 AM

रोहित कौशिक

इस समय कश्मीर को लेकर भारत और पाकिस्तान में युद्धोन्माद हावी है। दोनों ही देश अपने निहित स्वार्थों के लिए संवाद के रास्ते बंद कर रहे हैं। कुछ अपवादों को छोड़ कर दोनों देशों की आम जनता भी एक-दूसरे को मिटा देने के सपने देख रही है। शायद इस दौर में युद्ध के परिणामों का अंदाजा हमें नहीं है। दोनों ही तरफ के लोग जब यह कहते हैं कि हम अपनी धरती के लिए शीश कटा देंगे, तो हमें यह विचार करना होगा कि क्या हम सच्चे अर्थों में अपनी धरती के लिए चिंतित हैं? क्या हम अपनी धरती को बचाने के लिए वास्तव में कुछ प्रयास करते हैं?

निश्चित रूप से हमारे लिए अपने देश की सुरक्षा सर्वोपरि होनी चाहिए, लेकिन परमाणु हथियारों के इस दौर में युद्ध से न केवल हमारी धरती और प्रकृति झुलसेगी, बल्कि इंसानियत भी झुलस जाएगी। इस दौर में प्रेम की बात करना ही सच्ची देशभक्ति है। दोनों तरफ प्रेम की भावना ही युद्ध के विचार को खत्म कर सकती है। अगर इस प्रक्रिया का सूक्ष्म अध्ययन किया जाए, तो हमें पता चलेगा कि प्यार का माहौल तैयार करने में प्रकृति का महत्त्वपूर्ण योगदान है। सुहाने मौसम में हमारे अंदर प्रेम के बीज अंकुरित होने की संभावना ज्यादा होती है।

खिलते हुए फूल, सुहानी हवा, पेड़-पौधे, जीव-जंतु, ऊंचाई से गिरते झरने, बहता हुआ पानी, नदियां और पहाड़, सूरज, चांद और तारे-ये सब प्रकृति के ही अवयव हैं। प्रकृति के ये अवयव अनेक तरह से हमें प्यार करने को प्रेरित करते हैं। जब कहीं भी प्रेम की बात चलती है तो हम मात्र प्रेमी और प्रेमिका के प्रेम के बारे में सोचते लगते हैं। ऐसा सोचकर हम प्रेम का दायरा सीमित कर देते हैं। प्रेम का अस्तित्व किसी सीमित दायरे में नहीं हो सकता। माता-पिता, भाई-बहन, जीव-जंतुओं, प्रकृति और समस्त संसार से हमें प्रेम होना चाहिए। घृणा, द्वेष और अघोषित युद्ध के इस माहौल में तो प्रेम का महत्त्व और भी ज्यादा बढ़ गया है।

संसार का अधिकतर साहित्य प्रकृति, प्रेम और सौंदर्य को विषय बना कर ही रचा गया है। प्रकृति हमें एक नया सौंदर्यबोध प्रदान करती है। धरती को सौंदर्य प्रदान करने में प्रकृति ने अतुलनीय योगदान दिया है। पेड़-पौधे, फूल-पत्तियां, झरने और पहाड़ धरती के आभूषण हैं। कल्पना कीजिए कि इन आभूषणों से रहित धरती हमें कैसी दिखाई देगी। यह हम सबका कर्तव्य है कि हम धरती के इन आभूषणों की चमक फीकी न पड़ने दें। हमें यह समझना होगा कि यह धरती सुंदर रहेगी तो हमारा जीवन भी सुंदर रहेगा।

सवाल है कि हमसे प्यार करने और हमारे अंदर प्रेम के बीज अंकुरित करने वाली प्रकृति से क्या हम प्यार करते हैं? शायद नहीं। तभी तो हम प्रकृति के प्रति पत्थरदिल हो गए हैं। कभी हम प्रकृति के विभिन्न अवयवों का क्षरण कर प्रदूषण बढ़ाते हैं तो कभी जलवायु परिवर्तन के लिए स्वयं जिम्मेदार होते हुए भी प्रकृति को कोसते हैं। यह दुखद ही है कि कभी धरती का बढ़ता हुआ ताप प्रकृति को जख्म दे रहा है तो कभी हमारा व्यवहार प्रकृति के जख्मों को कुरेद रहा है। अगर भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ तो हम प्रकृति के जख्म पुन: हरे कर देंगे। युद्ध से धरती का ताप तो बढ़ेगा ही, प्रदूषण जैसी समस्याएं भी पैदा होंगी। कुल मिलाकर हम उसी प्रकृति से बेवफाई कर रहे हैं, जो हमें हमेशा वफा की सीख देती है। विभिन्न अध्ययनों के माध्यम से यह बात सामने आ रही है कि प्रदूषण और धरती का ताप बढ़ने के कारण संपूर्ण विश्व को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। इन समस्याओं में सूखा, बाढ़, तापमान बढ़ना, ग्लेशियरों का पिघलना, समुद्र का स्तर बढ़ना, अनेक जीव-जंतुओं और पेड़-पौधों का विलुप्त होना आदि शामिल हैं। विचारणीय प्रश्न यह है कि जब हम इन प्राकृतिक समस्याओं से जूझने में व्यस्त होंगे, तो प्यार के बारे में सोचने की फुर्सत किसे होगी?

हालांकि प्राचीन समय में हमने प्रकृति से कई रिश्ते जोड़े। प्रकृति के विभिन्न अवयवों को हमने अपने परिवार की तरह माना। इन अवयवों को हमने ईश्वर का दर्जा भी दिया। क्यों न हम इस दौर में इसी शृंखला को आगे बढ़ाते हुए प्रकृति से प्यार का एक नया रिश्ता जोड़ें। जैसे एक स्त्री मां, बहन, पत्नी और बेटी- किसी भी रूप में हमारे सामने हो सकती है, उसी तरह प्रकृति भी विभिन्न रूपों में हमारे सामने हो सकती है। हम प्रकृति से जितना ज्यादा प्यार करेंगे, हमारे रिश्तों के बीच भी यह उतना ही प्यार बढ़ाएगी। अब प्रकृति को हमें अपनी प्रेमिका बनाना ही होगा।

युद्ध हमें कई स्तरों पर मानसिक तनाव भी देता है। प्रकृति मानसिक तनाव दूर करने में भी महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करती है। कई बार चिकित्सक भी मानसिक तनाव दूर करने के लिए हमें प्रकृति के बीच रहने की सलाह देते हैं। यह दुखद है कि प्रकृति जो हमें शांति प्रदान करना चाहती है, हम अपने व्यवहार से उस शांति को भंग कर देना चाहते हैं। मानसिक तनाव का एक बड़ा कारण यह भी है कि इस दौर में हम लगातार प्रकृति से दूर होकर यांत्रिक होते जा रहे हैं। प्रकृति से दूर होना हमें भावनात्मक स्तर पर भी कमजोर कर रहा है। महानगरों में निवास करने वाले लोग तो कई-कई दिन तक प्रकृति के दर्शन ही नहीं कर पाते हैं। जीवन की इस लय को सुधारने के लिए हम प्रकृति के सान्निध्य में समय बिताना चाहते हैं। यह प्रकृति की उदारता और सहिष्णुता ही है कि वह उसे जख्म देने वाले इंसान को अपना सान्निध्य देकर उस पर सब कुछ लुटा देना चाहती है। जब हम चारों तरफ से हार मान जाते हैं तो प्रकृति ही हमें आशा की किरण दिखा कर एक नई ऊर्जा देती है। प्रकृति का स्नेहिल और शीतल स्पर्श हमें अवसाद के गहन अंधकार से बाहर निकालने में सहायता प्रदान करता है।

दरअसल, हमने आज तक प्रकृति का ध्यान इसलिए नहीं रखा, क्योंकि हम प्रकृति से प्यार का रिश्ता नहीं जोड़ पाए। आज प्रकृति को बचाने के लिए विभिन्न कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं, लेकिन प्रकृति के जख्म बढ़ते ही जा रहे हैं। ये कार्यक्रम केवल कुछ लोगों की जेबें भर रहे हैं। इनके जरिए केवल औपचारिकता निभाई जा रही है। यही कारण है कि आज प्रकृति को बचाने के लिए हल्ला तो मच रहा है, लेकिन उससे प्यार का रिश्ता कायम नहीं हो पा रहा है। प्रकृति से यह प्यार का रिश्ता तभी कायम हो पाएगा जब हम उसे अपनी नई प्रेमिका बनाएंगे। प्रकृति स्वस्थ होगी तो हमारा प्यार भी स्वस्थ होगा। प्यार का आधार यह प्रकृति ही है। इस धरती के लिए शीश कटाने की नहीं, धरती के प्रति संवेदनशीलता दिखाने की जरूरत है। इस दौर में युद्ध की नहीं, प्रेम की बात करना ही दोनों देशों के हित में है। अब हमें यह समझना होगा कि अपनी धरती और प्रकृति को बचाना ही सच्ची देशभक्ति है। अगर दोनों देशों की सत्ताओं के अंदर यह भावना होगी तो युद्ध अपने आप टल जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 तीरंदाज: टहलने वाले टहलाने वाले
2 वक्त़ की नब्ज़: अमन की कोशिशें तेज हों
3 किताबें मिलीं: स्वाधीन होने का अर्थ और कविता, साहित्य में अनामंत्रित, मन