jansatta artical Bakhbar Like their days written by sudhish pachauri - बाखबर: जैसे इनके दिन फिरे - Jansatta
ताज़ा खबर
 

बाखबर: जैसे इनके दिन फिरे

इस बीच नकद नारायण एटीएम से गायब हो गए। आठ राज्य कैश की किल्लत में रहे। चैनलों को नोटबंदी के दिन याद आए। फिर से लोग परेशान हुए, फिर एक मंत्री आए, फिर से बोले कि कुछ ही दिन में सब ठीक हो जाएगा!

Author April 22, 2018 5:37 AM
सांकेतिक तस्वीर

रेप रेप रेप रेप रेप रेप रेप रेप…हाय हाय हाय हाय हाय हाय हाय हाय…
कठुआ रेप हाय हाय, उन्नाव रेप हाय हाय हाय हाय…
ये क्या बात हुई! आप एकतरफा रेप दिखा रहे हो। असम वाला रेप भी तो देखो…
असम में तो आपकी सरकार है हुजूर, लेकिन सूरत वाला न भूलो।
उसकी तो पहचान ही नहीं हो पा रही… अब हो गई है।
लेकिन कठुआ की रेप पीड़िता का नाम क्यों बताया? फोटो क्यों दिखाया?
रेप का आरोपी उन्नाव का भाजपा एमएलए गिरफ्तार किया गया।
जी नहीं, उसने स्वयं गिरफ्तार कराया। दो रोज बाद गिरफ्तार नायक गाड़ी में बैठा बोलता रहा: ईश्वर मेरे साथ है सत्य की जीत होगी।
अपना ईश्वर भी ऐसा है कि कोई भी उसे अपने साथ बताने लगता है।
‘योगी आएं तो चप्पल फेंकें’… (कांग्रेस के एक नेता, इंडिया टुडे)।
देखो देखो हेट स्पीच, हेट स्पीच, हेट स्पीच, घृणा के बोल, घृणा के बोल,
घृणा के बोल।

एनडीटीवी में श्री निवासन जैन घृणा के बोलों पर रिसर्च करके लाए हैं। बताते जा रहे हैं कि यूपीए के दौर में घृणा के कुल इक्कीस बोल बोले गए, जबकि एनडीए के चार साल में इनमें पांच सौ प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है। अब तक घृणा के एक सौ चौबीस बोल बोले गए हैं। इनमें से अधिकतर भाजपा नेताओं के हैं…
कि अगले रोज एनडीटीवी की एंकर गिनाने लगती है कि ये रहा भाजपा के एक नेता का घृणा का एक और बोल। नेता बोला कि कर्नाटक का चुनाव हिंदू मुसलमान का चुनाव है। मंदिर चाहिए तो हमें वोट दो, मस्जिद चाहिए तो उनको देना…
इन दिनों घृणा के बोल भी मधुर लगते हैं!
‘दंगाइयों के केस वापस लिए जाते हैं। प्रमाण होगा तो सजा देंगे’! हरियाणा के सीएम ने आश्वस्त किया!
जैसे इनके दिन फिरे वैसे सबके फिरें।
इस बीच नकद नारायण एटीएम से गायब हो गए। आठ राज्य कैश की किल्लत में रहे। चैनलों को नोटबंदी के दिन याद आए। फिर से लोग परेशान हुए, फिर एक मंत्री आए, फिर से बोले कि कुछ ही दिन में सब ठीक हो जाएगा!
मक्का मस्जिद विस्फोट के सभी आरोपियों को प्रमाण के अभाव में अदालत को बरी करना पड़ा। भाजपा प्रवक्ता मांग करने लगे : भगवा आतंक का आरोप लगाने वाले मांगें देश से माफी। राहुल मांगें माफी, सोनिया मांगें माफी। हिंदू टेरर थियरी फेल! आतंक का कोई धर्म नहीं होता है? सबा नकवी बोलीं : टेरर इज टेरर… आतंक सिर्फ आतंक है…
जैसे इनके दिन फिरे वैसे सबके फिरें!
शाम तक रिपब्लिक चौंक कर लाइन देने लगा : जिस जज ने बरी किया, उसने इस्तीफा दिया… सनसनी सनसनी… रहस्य रोमांच से भरपूर कहानी दौड़ चली। ओवैसी उवाच : यह इंट्रीगिंग है, रहस्यमय है। चैनलों में लाइनें लगीं : निजी कारणों से दिया इस्तीफा… आह, वृहस्पतिवार तक फिर एक चैनल में खबर कौंधी कि जज महोदय वापस आ गए… सनसनी समाप्त… विपक्ष की आदत है कि हर बात में षड्यंत्र देखता है।
इस बीच ‘सेक्सिज्म’ खुल कर खेलता दिखा : जम्मू के एक भाजपा नेता ने कठुआ रेप की जांच करने वाली स्त्री पुलिस अधिकारी को लेकर कह दिया कि एक औरत कितनी अक्लमंद हो सकती है?

उधर, तमिलनाडु के राज्यपाल जी ने एक महिला पत्रकार के सवाल के जवाब में उसके गाल पर हाथ से थपथपा दिया और ‘बार्डरलाइन हेरासमेट’ के दोषी कहलाए। वह तो वक्त रहते उनने माफी मांग ली, वरना और फजीहत हुई होती!
प्रधानमंत्री ठहरे प्रधानमंत्री। ‘भारत की बात’ करते हैं तो लंदन वालों के साथ! लेकिन क्या ही दिव्य शो? वेस्टमिंस्टर हॉल। मनपसंद श्रोता और मंच पर परम जिज्ञासु कविराज प्रसून जोशी की जिज्ञासाएं और उनका मनोमुग्धकारी शमन! हमारे प्रधानमंत्री ही शो। हमारे प्रधानमंत्री ही शो स्टापर। वही वक्ता और मंत्र मुग्ध श्रोता!
जैसे लंदन वालों के दिन फिरे वैसे सबके फिरें!
बड़ी अदालत ने जस्टिस लोया की मौत की जांच की मांग को खारिज किया : लोया की मौत स्वाभाविक थी। चार जज झूठ नहीं कहते…
अगले रोज, सुप्रीम कोर्ट ने नरोदा पटिया हत्याकांड के दोषी बाबू बजरंगी की सजा घटा कर इक्कीस बरस की गई, लेकिन संदेह के लाभ के कारण पूर्वमंत्री माया कोडनानी को बरी कर दिया गया!
जैसे इनके दिन फिरे वैसे सबके फिरें!
कांग्रेस बोली : न्यायपालिका की स्वतंत्रता खतरे में है (एबीपी)! कपिल सिबल ने बताया कि विपक्ष ने राज्यसभा के सभापति से प्रधान न्यायाधीश पर महाभियोग चलाने की अनुमति की प्रार्थना की है!
भाजपा : कांग्रेस न्यायपालिका को डराना चाहती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App