bakhabar sattire register of nationalism in hindi - बाखबरः राष्ट्रवाद का रजिस्टर - Jansatta
ताज़ा खबर
 

बाखबरः राष्ट्रवाद का रजिस्टर

अपने को हमेशा अव्वल कहने वाला, ‘एंजेडा सेट’ करने का दावा करने वाला एक चैनल लाइन देने लगा : ‘राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर जल्दी ही!’ इस बार उसका मतलब शायद पूरे देश के रजिस्टर से था!

Author August 5, 2018 4:07 AM
राष्ट्रीय रजिस्टर पर आपत्ति करने वालों पर एक भक्त अंग्रेजी एंकर इस कदर गुस्सा था कि अगर उसका बस चलता तो चालीस लाख घुसपैठियों को तुरंत निकाल देता!

ज्यों ही असम सरकार ने ‘राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर’ के आंकड़ों का एलान किया कि कुल आबादी के तीन करोड़ उनतीस लाख इक्यानबे हजार तीन सौ चौरासी ने आवेदन किया था, दो करोड़ नवासी लाख तिरासी हजार छह सौ सतहत्तर नागरिक के रूप में स्वीकार किए गए, बाकी चालीस लाख सात हजार सात सौ सात गैर-नागरिक निकले, त्यों ही जो कल तक आधारकार्डधारी ‘नागरिक’ थे, तत्क्षण गैर-नागरिक कहलाने लगे। फिर वे सभी ‘घुसपैठिए’ कहलाने लगे, फिर वे ‘बांग्लादेशी’ कहलाने लगे, फिर कुछ के लिए वे सीधे ‘टेररिस्ट’ हो गए।

राष्ट्रीय रजिस्टर पर आपत्ति करने वालों पर एक भक्त अंग्रेजी एंकर इस कदर गुस्सा था कि अगर उसका बस चलता तो चालीस लाख घुसपैठियों को तुरंत निकाल देता! इन दिनों लगभग सारे एंकर राष्ट्रवादी नजर आते हैं। कुछ तो अंध राष्ट्रवादियों से भी अधिक स्वयं को परम राष्ट्रवादी दिखाने की प्रतियोगिता करते दिखते हैं। ऐसे एक एंकर के परम राष्ट्रवादी विचार सुन कर पूरे ‘डिबेट शो’ में एक संघी विचारक की बांछें खिली रहीं। ‘इंडिया फर्स्ट’ की लाइन को हैशटेग कर उसने अपने बुलाए दो विपक्षी पैनलिस्टों को लानतें भेजी कि गैर-कानूनी शरणार्थियों को बाहर निकालने की ट्रंप की नीति पर वहां की बड़ी अदालत ने मुहर लगाई है और यहां के नेता गैर-कानूनी लोगों को लेकर वोट बैंक की राजनीति कर रहे हैं!… पाकिस्तान में हिंदुओं को खत्म किया गया है।… असम में एक तिहाई आबादी है मुसलमानों की। क्या बंगाल गैर-कानूनी लोगों के लिए है?

तृणमूल के प्रवक्ता ने कहा : हम मानवातावादी हैं। एंकर ने धिक्कारा : ये कौन-सा माानवतावाद है? अरे ये देश बचाने की बात है!… चीन ने तिब्बत में क्या किया? रहमानी ने कहा : ये फासिज्म है! अपने को हमेशा अव्वल कहने वाला, ‘एंजेडा सेट’ करने का दावा करने वाला एक चैनल लाइन देने लगा : ‘राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर जल्दी ही!’ इस बार उसका मतलब शायद पूरे देश के रजिस्टर से था! एबीपी ने लाइन दी : ‘घुसपैठिए आतंकवादी’! चिरक्षुब्ध नजर आती ममता बनर्जी बोलीं : इनमें बहुत-से बंगााल, राजस्थान और बिहार के हैं। जिनने भाजपा को वोट नहीं दिया है, उनको निशाना बनाया है।… अगर यही रहा तो देश में गृहयुद्ध होगा!

भाजपा ने लाइन दी : बिहार, बंगाल में ‘राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर’ बनेगा। भाजपा अध्यक्ष ने कहा : कांग्रेस में ‘रानार’ (राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर) लगाने की हिम्मत नहीं थी, हमने हिम्मत दिखाई! ममता ने दिल्ली आकर सोनिया-राहुल से मुलाकात की, तो बड़ी खबर बनी। ममता बोलीं कि राजनीतिक दल राजनीतिक बात नहीं करेगा तो क्या करेगा? हम बोला- मोदी के खिलाफ एक साथ लड़ने का। नेता का बात बाद में! एक अन्य अंग्रेजी चैनल में ममता के खून-खराबे और गृहयुद्ध की धमकी पर एक विचारक ने सीधे कहा : इस तरह के बयान के लिए ममता को ‘बुक’ किया जाना चाहिए।

तीन दिन से बहसें हो रही हैं, लेकिन कोई यह नहीं बताता कि इतने लोगों को निकालोगे तो कैसे? खरबूजे को देख खरबूजा रंग बदले न बदले, एंकर को देख पैनलिस्ट अपना रंग बदल लेते हैं। हम तो समझते आए थे कि मनीषा प्रियम जी स्वतंत्र और शांत स्वभाव की राजनीतिक टिप्पणीकार हैं। हमें क्या पता था कि मुजफ्फरपुर के अनाथाश्रम में बच्चियों से जघन्य बलात्कार कांड के संदर्भ में मनीषा जी अर्णव की शैली में ही बिहार सरकार के प्रवक्ता पर ऐसे बरसेंगी? उनका गुस्सा तो जायज था, लेकिन जोर से धिक्कारना एकदम गैर-जरूरी लगा!

इतनी बड़ी कहानियों के बीच कुछ छोटी-छोटी कहानियां भी बनती रहीं। इनमें से एक एनडीटीवी इंडिया ने कही : एक मुसलमान की दाढ़ी ही उसका अपराध बन गई। एक नाई की दुकान पर उसकी दाढ़ी मूंड़ दी गई। दूसरे चैनल पर कहानी बदल कर कहती रही कि एक विवाद के चलते एक मुसलमान ने ही ऐसा करवाया। पुलिसवाला बोला कि तीन गिरफ्तार किए गए हैं। अगर राष्ट्रवादी बनने में अब भी कोई कसर रह गई हो तो ऋषि कपूर जी के टाइम्स नाउ पर कहे को मानें कि : ‘बी नेशनलिस्ट!’ कुछ ‘फाल्ट’ लाइनें हैं, उनकी मरम्मत की जा सकती है। मगर ‘नेशन फर्स्ट’!

बंगलुरु के कुछ युवाओं को ‘राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर’ के तहत ‘गैर-नागरिकों’ को असम से ‘किक आउट’ करने के चैलेंज के मुकाबले ‘किकी चैलेंज’ कहीं अधिक चुनौतीपूर्ण लगा। ‘किकी चैलेंज’ के नाम पर हमने देखा कि एक कार धीमी गति से चल रही है। उसका बायां दरवाजा खुला है। खुले दरवाजे के बीच की जगह में चलते-चलते कमर मटका मटका कर डांस करती अभिनेत्री निवेदिता गौड़ा कार वाले को रिझाती लगती है, फिर एक छोरा आ जाता है। वह भी कारवाले को रिझाता लगता है। कार में लगा कैमरा नाच का वीडियो बनाता रहता है और वही वीडियो वाइरल बुखार से पीड़ित होकर टीवी के दर्शकों को पीड़ित करने लगता है। वह तो समय रहते बंगलुरु पुलिस ने ‘किकी चैलेंज’ देती निवेदिता आदि के खिलाफ मामला बना कर उसके ‘किकी’ के बुखार को ‘किक आउट’ कर दिया, वरना न जाने कितने एक्सीडेंट हो जाते!

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App