ताज़ा खबर
 

दमदार नहीं है ”रणबांका”

मरता क्या न करता- पुराना मुहावरा है और रणबांका' को देखकर इसकी याद आती है।

निर्देशक-आयर्मान रामसे
कलाकार- मनीष पॉल, पूजा ठाकुर, रवि किशन
मरता क्या न करता- पुराना मुहावरा है और रणबांका’ को देखकर इसकी याद आती है। फिल्म राहुल (मनीष पॉल) नाम के शख्स के इर्दगिर्द घूमती है जो अपने परिवार- पत्नी और बच्ची के साथ मथुरा में आकर रहने लगा है। पर इस धमर्भूमि में अधर्मी लोग भी बसते हैं। ऐसा ही एक आदमी है राघव सिंह (रवि किशन), जो एक विधायक का भाई है।

? राघव जरा रंगीन तबियत का आदमी है। राहुल की पत्नी प्रिया ( पूजा ठाकुर) को देखकर वो न सिर्फ लट्टू हो जाता है बल्कि चाहता है कि प्रिया उससे शादी करे। एक विवाहिता औरत अपने पति का साथ छोड़कर दूसरे के साथ फिर से घर कैसे बना सकती है। और पति भी ऐसा जो उसे बहुत प्यार करता है।

प्रिया और राहुल दोनों संकट में है। राहुल अपने तईं कई तरह की कोशिश करता है कि राघव का मन बदल जाए। राहुल एक सामान्य मध्यवर्गीय आदमी है इसलिए वो एक भंवरजाल में फंस जाता है। और अंत में हालात से निपटने के लिए वो जो करता है वो वही होता है जो मजबूर व्यक्ति सब तरफ से निराश होने के बाद करता है।

फिल्म हॉलीवुड की स्ट्रॉ डॉग्स’ से प्रेरित है। पर दमदार नहीं है क्योंकि निर्देशक के मन में कई चीजें अस्पष्ट हैं। एक तो हीरोइन को इतना छुईमुई दिखा दिया कि वो आज के जमाने से अलग लगती है। क्या आज की कोई औरत या लड़की ऐसी स्थिति में रोती-बिसूरती रहेगी? रणबांका में’ यही होता है। इसके अलावा रवि किशन और मनीष पॉल- दोनों अपने अपने किरदार में बहुत कमजोर हैं। फिल्म में बेकार के गाने भी ठूंसे गए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App