ताज़ा खबर
 

Indu Sarkar Review: इमरजेंसी के अंधेरे से रूबरू कराती है मधुर भंडारकर की फिल्म ‘इंदु सरकार’

Indu Sarkar Movie Review: मधुर भंडारकर लीक से हटकर विषय पर मूवी बनाने के लिए जाने जाते हैं।
Indu Sarkar Movie Review मधुर भंडारकर की इंदु सरकार आपातकाल की समस्याओं से कराएगी रुबरु।

मधुर भंडारकर अपनी खास तरह की फिल्मों के लिए जाने जाते हैं। उनकी फिल्मों के सब्जेक्ट में एक नयापन होता है जो कि हमेशा बाकी विषयों से अलग होता है। इस बार मधुर भंडारकर ने आपातकाल के ऊपर फिल्म बनाई है और फिल्म का नाम रखा है ‘इंदु सरकार’। इतिहास गवाह है, इंदिरा गांधी ने आपातकाल घोषित किया था, जो कि 21 महीने तक चला। इसके बाद लोगों को आपातकाल में कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। मधुर भंडारकर ने अपनी फिल्म इंदु सरकार में इस पूरे घटनाक्रम को उतारने की कोशिश की है। यही वजह रही कि रिलीज से पहले फिल्म काफी विवादों में छा गई। वहीं फिल्म रिलीज न हो पाए इसके लिए कांग्रेस के नेताओं ने रिलीज रोकने की पुरजोर कोशिश की। लेकिन कोर्ट ने ऐसा करने से साफ मना कर दिया।

बात करें अगर फिल्म की कहानी की तो ट्रेलर देखने के बाद ही आपको अंदाजा हो जाएगा कि आपको फिल्म में क्या देखने को मिलेगा। फिल्म की कहानी आपको आपातकाल में हुए अत्याचारों की तरफ ले जाती है। फिल्म में कृति कुल्हरी एक बुलंद आवाज वाली महिला का किरदार निभा रही हैं। फिल्म में वह एक ऐसी महिला बनी हैं जो आपातकाल में हो रहे अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठाती हैं। वहीं नील नितिन मुकेश संजय गांधी के जबकि सुप्रिया विनोद पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के किरदार में हैं। फिल्म में आपको कीर्ति हकलाती हुई महिला के किरदार में नजर आई हैं। तो वहीं फिल्म में अनुपम खेर ने भी दमदार भूमिका निभाई है।

फिल्म में इंदु, एक बहुत ही शर्मीली लड़की है जो कि अनाथ है और उसे हकलाने की आदत है। वहीं फिल्म में नवीन (तोता रॉय चौधरी) उनके साथी बनते हैं। वह शादी के दौरान उससे पूछते हैं कि वह अपनी जिंदगी से क्या चाहती है। इस सवाल का जवाब उसे तब मिलता है जब शादी के बाद वह अपने पति को उन नेताओं के साथ सुर में सुर मिलाते देखती है जो इमर्जेंसी का गलत फायदा उठाते हैं और नियमों को ताक पर रखते हैं। इस दौरान इंदु ऐसे लोगों और उस सिस्टम के खिलाफ अपना मोर्चा खोलती है। उसके आगे हालात ऐसे हो जाते हैं जो उसे अपनी आवाज बुलंद करने पर मजबूर कर देते हैं। इसके बाद वह खुल कर विरोध करती है। लेकिन इसकी कीमत उसे अपनी जिंदगी की खूबसूरती देकर चुकानी पड़ती है। ‘इंदु सरकार’ में बहुत अच्छे तरीके से लीड किरदार की भावनाओं और दुविधाओं के बीच संघर्ष करते हुए दिखाया गया है वहीं पॉलिटिक्स इस दौरान कहीं पीछे छूट जाती है।

फिल्म में कीर्ति कुल्हरी का अभिनय शानदार है। मधुर को उनकी फिल्मो के बेहतरीन और ‘जरा हट के’ सब्जेक्ट के लिए माना जाता है। इस फिल्म में अपना अलग एंगल और अपनी बात रखने में वह कामयाब रहे हैं। लेकिन पेजथ्री जैसी फिल्मों के मुकाबले मधुर की फिल्म उंदु सरकार कुछ मायनों में थोड़ी पीछे है।

इंदु सरकार मूवी कास्ट – कृति कुल्हरी, नील नितिन मुकेश, अनुपम खेर, तोता रॉय चौधरी, सुप्रिया विनोद
इंदु सरकार मूवी डायरेक्टर-मधुर भंडारकर

https://www.youtube.com/watch?v=U5Gyw-nGf1I

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.