ताज़ा खबर
 

Coffee With D Review: अच्छे कलाकारों के बावजूद इंप्रेस नहीं करपाई ‘डॉक्टर मशहूर गुलाटी’ की फिल्म

Coffee With D Movie Review:स्क्रिप्ट राइटर एक टाइट स्क्रीन प्ले लिखने में नाकाम रहे हैं। इस वजह से फिल्माइजेशन में वह बात निकल कर नहीं आई है। जो इस फिल्म को खास बना सकती थी।

koffee with dd wikipedia,coffee with d movie,coffee with d movie cast,coffee with d movie wiki,coffee with d wikipedia,coffee with d trailer download,coffee with d songs, coffee with d cast,sunil grover and karan singh grover relation,sunil grover death,j.n. grover,sunil grover income,sunil grover net worth,sunil grover upcoming movies,sunil grover son,sunil grover news,hindi news, entertainment newsफिल्म के ट्रेलर का एक सीन

कॉफी विद डी कास्ट: सुनील ग्रोवर, जाकिर हुसैन, अंजना सुखानी, दिपानिता शर्मा, राजेश शर्मा

कॉफी विद डी डायरेक्टर: विशाल मिश्रा

टीवी पर सुनील ग्रोवर की मजेदार परफॉर्मेंस देखने वालों को इस फिल्म से बहुत उम्मीद हो सकती है। फिल्म का ट्रेलर काफी एंटरटेनिंग था। लेकिन दो घंटे के लिए इसे बड़े पर्दे पर देखना उतना मजेदार नहीं है। अगर परफॉर्मेंस वाइज बात करें तो डॉन के रोल में जाकिर हुसैन की परफॉर्मेंस काफी शानदार रही। सुनील ग्रोवर फिल्म में एक जर्नलिस्ट के रोल में हैं। आप कह सकते हैं कि वह पर्दे पर अरनब गोस्वामी को उतारने की कोशिश कर रहे थे। फिल्म में उनका नाम अरनब घोष है। सुनील की पत्नी का रोल फिल्म में अंजना सुखानी ने किया है। फिल्म में उन्हें प्रेग्नेंट दिखाया है। सुनील एक ऐसे रिपोर्टर हैं जिन्हें क्राइम पेट्रोल देखने की लत है।

फिल्म की कहानी मुम्बई के एक न्यूज एंकर अर्नब घोष (सुनील ग्रोवर) के इर्द गिर्द घूमती है। वह एक न्यूज चैनेल में प्राइम टाइम शो को होस्ट करता है। लेकिन लगातार गिरती टीआरपी ते चलते उसे एक अल्टिमेटम दिया जाता है। उसके बॉस रॉय (राजेश शर्मा) उसे 2 महीने का समय देते हैं कि वह कुछ भी करते शो की टीआरपी बढ़ाई नहीं तो उसे नॉन प्राइम टाइम शो पर शिफ्ट कर दिया जाएगा। इसी परेशानी में अरनब की पत्नी उसे एक आइडिया देती है। वह कहती है कि अगर अरनब डॉन डी का इंटरव्यू कर ले तो उसका शो हिट हो सकता है। अर्नब ये आइडिया अपने बॉस को बताता है और वो हां कह देता है। अब कहानी में कई ट्विस्ट और टर्न्स आते हैं। कई मुश्किलों का समना करते हुए आखिरकार अरनब अपनी टीम के साथ डॉन का इंटरव्यू करने पहुंच जाता है।

अब फिल्म की कमजोर कड़ी की बात करें तो वह इसका स्क्रीन प्ले है। स्क्रिप्ट राइटर एक टाइट स्क्रीन प्ले लिखने में नाकाम रहे हैं। इस वजह से फिल्माइजेशन में वह बात निकल कर नहीं आई है। जो इस फिल्म को खास बना सकती थी। फिल्म में कई जगह सेंसर बोर्ड की कैंची भी चली है। साथ ही कई जगह डबिंग सही नहीं लग रही है। इस वजह फिल्म दर्शकों का ध्यान भटकाती है। फिल्म के कम बजट का असर उसकी प्रोडक्शन वैल्यू पर दिख रहा है। अच्छे कलाकारों का कॉम्बो होने के बावजूद फिल्म इंप्रेस करने में नाकाम है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 हरामखोर मूवी रिव्यू: नवाजुद्दीन सिद्दीकी का अभिनय और गांव की गुदगुदाती कहानी
2 ओके जानू मूवी रिव्यू: नए जमाने की रोमांटिक कहानी है आदित्य रॉय कपूर और श्रद्धा कपूर की यह फिल्म
3 xXx Movie Review: दीपिका पादुकोण और विन डीजल की ट्रिपल एक्स में रोमांस और एक्शन का है भरपूर तड़का
ये पढ़ा क्या?
X