ताज़ा खबर
 

Azhar Movie Review: एक क्रिकेटर की जिंदगी

Azhar Movie Review: इमरान हाशमी का यह स्‍पोर्ट्स ड्रामा दिग्‍गज क्र‍िकेटर मोहम्‍मद अजरुद्दीन की जिंदगी पर आधारित है।
Azhar movie review: फिल्‍म में इमरान हाशमी ने मोहम्‍मद अजहरुद्दीन की भूमिका निभाने के लिए कड़ी मेहनत की है।

नाम से साफ पता लगा रहा और मूवी का प्रचार भी यह कहकर किया गया था कि फिल्म भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन के जीवन पर बनी है। हालांकि डिस्कलेमर में ये भी है कि इसे पूरी तरह अजहरुद्दीन के जीवन के रूप में नहीं देखा चाहिए। यानी दोनों हाथों में लड्डू रखने की कोशिश की गई है। जिसे लगे कि इसमें अजहर की जिंदगी का वृंतात है और जिसे ऐसा नहीं लगे-दोनों इसका मजा ले लें।

मोहम्म्द अजहरुद्दीन, जिनको अजहर नाम से अधिक जाना गया एक शानदार क्रिकेटर थे। बल्लेबाज के रूप में भी,  क्षेत्ररक्षक के रूप में भी और कप्तान के रूप में भी। अपने समय तक के वे सबसे सफल भारतीय कप्तान थे। बाद में उनकी कप्तानी का रिकार्ड सौरभ गांगुली ने तोड़ा था। क्रिकेटर अजहर के सितारे गर्दिश मे तब गए जब उन पर मैच फिक्सिंग में शामिल होने का आरोप लगा। अजहर ने संगीता बिजलानी से दूसरी शादी भी की। उसके बाद उनके व्यक्तित्व की चमक फीकी पड़ती गई। फिल्म ‘अजहर’ उन सबको समेटने की कोशिश करती है पर बेहद सपाट तरीके से। क्या अजहर में नायकत्व था या वे सफलता को भुनाने वाले मतलबी इंसान थे? फिल्म इसे साफ नहीं करती।

SEE ALSO: ‘Azhar’ के निर्माता पर केस ठोक सकती हैं संगीता बिजलानी, अजहरुद्दीन के सवाल पर भड़कीं ज्‍वाला गुट्टा  

इमरान हाशमी ने अजहर का किरदार निभाया है। वे इस भूमिका को दमदार तरीके ने निभा नहीं पाए। और नरगिस फाखरी में वो चमक नहीं है जो संगीता बिजलानी वाले किरदार को निभाने के लिए जरूरी थी। हां, अजहर की पहली पत्नी नौरीन की भूमिका निभाने में प्राची देसाई में संजीदगी दिखाई है। एक सीधी सादी औरत के रूप में वे दशर्कों पर अपनी छाप छोड़ती है। फिल्म के कुछ गाने लबों पर कुछ दिन थिरकेंगे पर ज्यादा दिनों तक नहीं। लारा दत्ता ने वकील की भूमिका निभाई है। वहां वे आक्रामक दिखती हैं। कुणाल राय कपूर भी वकील बने हैं।

SEE ALSO: ‘Azhar’ में इमरान संग किसिंग सीन की भरमार से खफा नरगिस, कर डाली मोटी फीस की मांग

‘अजहर’ एक बेहतर फिल्म हो सकती थी अगर निर्देशक ने अपने भीतर वैचारिक साफगोई रखी होती कि मैच फिक्सिंग की वास्तविकता क्या थी? ऐसी स्थिति में फिल्म ज्यादा ईमानदार लगती है। दर्शक दो वकीलों के तकर्युद्ध में अपने को ठगा महसूस करता है। फिल्म रिलीज होने के पहले अजहरुद्दीन से पूछा गया था कि क्या ये फिल्म उनके जनसंपर्क के लिए बनाई गई है? उनका जवाब था-नहीं। काश, फिल्म भी यही जवाब देती।

SEE ALSO: Azhar: हू-ब-हू अजहरुद्दीन जैसे नजर आ रहे हैं इमरान हाशमी

स्‍टारकास्‍ट: इमरान हाशमी, प्राची देसाई, नरगिस फखरी, गौतम गुलाटी
डायरेक्‍टर: टोनी डीसूजा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.