ताज़ा खबर
 

पारस मणि के अलावा अगर आपको मिल जाएं ये चार चमत्कारी चीजें तो बदल सकता है आपका भाग्य

अगर आपको संजीवनी बूटी, कल्पवृक्ष, नागमणि जैसी वस्तुएं मिल जाए तो रातोंरात आपकी किस्मत बदल सकती है।

संजीवनी बूटी के बारे में रामायण में सुनने को मिलता है। (सांकेतिक संजीवनी फोटो)

बचपन में आपने कई किस्से कहानियां सुनी होंगी, जिनमें कई दिव्य शक्तियों के बारे में बताया जाता था। रामायण और महाभारत जैसे धार्मिक ग्रंथों और कई किताबों में ऐसी कहानियां थी जिनमें पारस मणि, संजीवनी बूटी जैसी चीजों के बारे में बताया गया। इन पर आसानी से भरोसा नहीं किया जा सकता। हालांकि अब तक किसी भी चीज की प्रमाणिकता साबित नहीं हुई। अगर ये शक्तियां किसी को मिल जाए तो रातोंरात उसकी किस्मत बदल सकती है। भले ही ऐसी किसी चीज की प्रमाणिकता साबित नहीं हुई है। आज हम लाएं हैं आपके लिए खास तौर से ऐसी वस्तुओं को जो आपको मिल जाएं तो आपकी किस्मत बदल सकती है।

संजीवनी बूटी- संजीवनी बूटी के बारे में रामायण में सुनने को मिलता है जहां भगवान राम के श्री राम के भाई लक्ष्मण के बेहोश हो जाने के बाद हनुमानजी ये बूटी हिमालय की पहाड़ियों से लाए थे। इसी बूटी की वजह से लक्ष्मण की जान बच पाई थी। हालांकि इस बारे में कई शोध किए गए लेकिन इसके बारे कोई वैज्ञानिक पुष्टि नहीं हुई है।

पारस मणि- किसी भी चीज भी लोहे की चीज को छुने से वो सोने की बंद हो जाती है। आपने ऐसी कई कहानियां सुनी होगी। कई ग्रंथों में इसके उल्लेख भी मिलता है। पारस मणि के बारे में कहा जाता है कि ये हिमायल के आस- पास पाई जाती है। कहावत के अनुसार कौओं को इसकी पहचान है। लेकिन अभी तक इसकी सच्चाई सामने नहीं आई है।

सोमरस- सोमरस का उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है। कहा जाता है कि सोमरस एक ऐसी चीज है, जो संजीवनी के जैसा ही होता है यह एक पेय पदार्थ है जिसके पीने के बाद व्यक्ति अमर हो जाता है और हमेशा के लिए जवान रहता है। इसके पीने के बाद गुस्सा भी शांत हो जाता है।

नागमणि- नागमणि के बारे में ऐसा कहावत है कि इसमें बहुत सी शक्तियां होती हैं। इसकी चमक के आगे हीरे की चमक भी कम है। इसके बारे में कहा जाता है कि ये मिलने के बाद व्यक्ति जो चाहता है उसे वो मिलता है।

कल्पवृक्ष- इस पेड़ के बारे में वेद और पुराणों में पढ़ने को मिलता है। इस पेड़ के बारे में कहा जाता है कि इस पेड़ के नीचे बैठकर जो भी मांगा जाता है उसे मिलता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App