You Should Worship of These Plants For Removal of Grah Dosh - इन पौधों की आराधना से ग्रह दोष दूर होने की है मान्यता - Jansatta
ताज़ा खबर
 

इन पौधों की आराधना से ग्रह दोष दूर होने की है मान्यता

बुध ग्रह से पीड़ित लोगों को कई तरह की शारीरिक परेशानियों से जूझना पड़ता है। ऐसे लोगों को अपामार्ग के पौधे की आराधना करनी चाहिए।

Author नई दिल्ली | May 28, 2018 4:21 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

हिंदू धर्म में आस्था रखने वालों के लिए ज्योतिष शास्त्र का विशेष महत्व है। ज्योतिष शास्त्र में ग्रह दोषों के बारे में विस्तार से बताया गया है। कहते हैं कि व्यक्ति की कुंडली में ग्रहों का दशा सही स्थिति में होनी चाहिए। ऐसा नहीं होने पर व्यक्ति ग्रह दोष का शिकार हो जाता है। व्यक्ति के ऊपर ग्रह दोष होने से उसे तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे व्यक्ति के जीवन से सकारात्मकता खत्म हो जाती है। वह नकारात्मक विचारों से घिर जाता है। इसके अलावा उसे धन की कमी का भी सामना करना पड़ता है। व्यक्ति को उसके प्रयासों में सफलता नहीं मिलती और वह जीवन में असफलताओं का शिकार हो जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ खास पौधों की आराधना करके ग्रह दोष को दूर किया जा सकता है। चलिए विस्तार से जानते हैं इस बारे में।

ज्योतिष शास्त्र की मानें तो सूर्य ग्रह दोष होने से व्यक्ति के आत्मविश्वास में कमी आ जाती है। इनके मान-सम्मान में गिरावट आने लगती है। इसके साथ ही नए कार्यों की शुरुआत करने पर तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे लोगों को आक के पौधे की पूजा करनी चाहिए। वहीं, चंद्र ग्रह दोष होने पर व्यक्ति के दांपत्य जीवन में तमाम तरह की परेशानियां आ जाती हैं। इसे ठीक करने के लिए पलाश के पौधे की पूजा करनी चाहिए।

ज्योतिष शास्त्र में मंगल ग्रह के दोष से पीड़ित लोगों को वट वृक्ष की आराधना करने के लिए कहा गया है। बुध ग्रह से पीड़ित लोगों को कई तरह की शारीरिक परेशानियों से जूझना पड़ता है। ऐसे लोगों को अपामार्ग के पौधे की आराधना करनी चाहिए। इसके अलावा गुरु दोष से पीड़ित लोगों को पीपल के पेड़ की आराधना करनी चाहिए। शुक्र ग्रह से पीड़ित लोग गूलर के पेड़ की पूजा करें। शनि से मुक्ति के लिए शमी और राहु से मुक्ति के लिए कुशा के पेड़ की पूजा करें। वहीं, केतु से पीड़ित लोगों को दुर्वा के पेड़ की पूजा करनी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App