ताज़ा खबर
 

पौराणिक काल से है किन्नरों का अस्तित्व, जानें वह रोचक कथा जब भगवान राम का हुआ था इनसे सामना

पौराणिक कथा के अनुसार जब भगवान राम रावण का वध करके अयोध्या लौटे तो उन्‍होंने नगर के बाहर कुछ लोगों को देखा। इन लोगों ने अपनी एक अलग बस्ती बना रखी थी। कहा जाता है कि ये लोग किन्‍नर समुदाय के थे। जब भगवान राम की इन पर नजर पड़ी तो वह अचंभित हो गए।

Author नई दिल्ली | July 3, 2019 11:49 AM
शुभ कार्य में किन्नरों के आने की परंपरा कैसे हुई शुरु, जानें रोचक कथा। (फोटो- यूट्यूब)

अकसर घर में किसी शुभ कार्य के दौरान किन्नरों का आना होता है। कहा जाता है कि इनके द्वारा दिया आशीर्वाद खूब फलीभूत होता है। उसी तरह लोग ऐसा भी मानते हैं कि अगर ये किसी से नाराज होकर कोई बद्दुआ दे दें तो वह भी खाली नहीं जाती। लेकिन इनके शुभ कार्य में शामिल होने और इनके द्वारा आशीर्वाद देने की परंपरा कहां से शुरु हुई, इस बारे में शायद ही कोई जानता हो। लेकिन कुछ पौराणक कथाओं से यह पता चलता है कि इनका अस्तित्व पौराणक काल से है। यहां जानिए इस संबंध में भगवान राम और उनके वनवास से लौटने को लेकर एक रोचक कथा के बारे में…

पौराणिक कथा के अनुसार जब भगवान राम रावण का वध करके अयोध्या लौटे तो उन्‍होंने नगर के बाहर कुछ लोगों को देखा। इन लोगों ने अपनी एक अलग बस्ती बना रखी थी। कहा जाता है कि ये लोग किन्‍नर समुदाय के थे। जब भगवान राम की इन पर नजर पड़ी तो वह अचंभित हो गए। और उन्‍होंने पूछा कि आप लोग इस प्रकार से नगर के बाहर क्‍यों ठहरे हुए हैं, नगर के अंदर क्‍यों नहीं जाकर रहते? भगवान राम के प्रश्‍न का उत्तर देते हुए किन्‍नरों ने कहा, हे प्रभु हम आपको याद दिलाना चाहते हैं कि जब आप अयोध्‍या छोड़कर वन की ओर जा रहे थे, तो सभी लोग बेहद उदास थे और आपके पीछे-पीछे चल रहे थे। तब आपने सबकी इस दशा को देखकर कहा कि सभी नर और नारी वापस चले जाएं। मैं जल्‍द ही लौट आऊंगा। उस वक्‍त सभी स्‍त्री और पुरुष तो वापस लौट गए, लेकिन हम किन्‍नर यहीं रह गए क्योंकि आपने हमारे लिए तो कोई निर्देश ही नहीं दिए थे।

किन्‍नरों की इन बातों को सुनकर भगवान को पछतावा हुआ और वह सभी किन्‍नरों को सम्‍मान के साथ नगर के अंदर ले गए और उनके इस प्‍यार और समर्पण से प्रसन्‍न होकर उन्‍हें वरदान दिया कि वह नई पीढ़ी को आशीर्वाद देंगे। कहा जाता है कि बस तभी से शुभ कार्यों पर किन्नरों का आना, उनका आशीर्वाद देना और लोगों द्वारा उन्‍हें नेग मिलना शुरु हो गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App