ताज़ा खबर
 

जानिए, भगवान कृष्ण ने युद्ध के लिए कुरूक्षेत्र को ही क्यों चुना

इसलिए भगवान कृष्ण ऐसी भूमि का चयन करना चाहते थे जहां के मूल में ही द्वेष हो। इस काम के लिए भगवान कृष्ण ने अपने दूतों को अनेकों दिशाओं में भेजा।

mahabharat,Krishna, kurukshetra, shravan kumar, arjun, pandav, kaurav, yudhishthir, bसांकेतिक तस्वीर।

महाभारत के युद्ध को धर्मयुद्ध कहा गया है। क्योंकि यह युद्ध सत्य और धर्म की स्थापना के लिए लड़ा गया था। युद्ध की भूमि का चुनाव भगवान कृष्ण ने किया था। साथ ही भगवान कृष्ण के कुरूक्षेत्र को चुनने को लेकर एक दिलचस्प गाथा है। भगवान कृष्ण अधर्म के मार्ग पर पर चलने वाले मनुष्यों का अंत करवाना चाहते थे। क्योंकि ये युद्ध भाई-भाई, गुरू-शिष्य और सगे संबंधियों के बीच था। इसलिए भगवान को डर था कि कहीं भावनाओं में बहकर ये लोग आपस में कोई संधि न कर लें।

इसलिए भगवान कृष्ण ऐसी भूमि का चयन करना चाहते थे जहां के मूल में ही द्वेष हो। इस काम के लिए भगवान कृष्ण ने अपने दूतों को अनेकों दिशाओं में भेजा। साथ ही कहा कि आप घटनाओं को देखें और उनका मुझे आकर वर्णन करें। दूत भगवान के कहे अनुसार अपने-अपने मार्ग पर निकल गए। उनमें से एक दूत ने भगवान कृष्ण को आकर एक घटना बताई। दूत ने कहा कि जिस जगह से वह होकर आ रहा है, वहां एक छोटी सी बात पर बड़े भाई ने छोटे भाई की हत्या कर दी।

बात सिर्फ इतनी सी थी, कि बड़े भाई ने छोटे भाई को खेत की टूटी मेंड़ से बहते हुए वर्षा के पानी को रोकने के लिए कहा। इस पर छोटे भाई को क्रोध आ गया और उसने यह काम करने से साफ इनकार कर दिया। छोटे भाई की इस बेरूखी से क्रोधित होकर बड़े भाई ने अपने छोटे भाई की चाकू भोगकर हत्या कर दी। और उसकी लाश को उस मेढ़ की तरफ लगा दिया जहां से बारिश का पानी खेतों में आ रहा था। इस घटना को सुनते ही भगवान कृष्ण ने महाभारत युद्ध के लिए इस भूमि को चुन लिया। क्योंकि इस भूमि के अंदर भाई-भाई के लिए द्वेष भाव था। इसलिए यहां पहुंचकर जो मस्तिष्क पर प्रभाव पड़ेगा उससे किसी भी तरह की संधि होने की संभावनाएं ही नहीं रहेंगी।

Next Stories
1 आसान वास्तु उपाय, बच्चों को परीक्षा में दिलाएंगे अपार सफलताएं
2 वैष्णो देवी की रहस्यमयी गर्भजून गुफा, जिससे निकल मां ने भैरों का किया था वध
3 जानिए, भगवान के भोग में लहसुन और प्याज का क्यों किया जाता है परहेज
ये पढ़ा क्या?
X