ताज़ा खबर
 

संत इंद्रदेव जी महाराज के अनुसार जानिए, अच्छे लोगों के साथ क्यों होता है बुरा

इंद्रदेव जी महाराज के अनुसार भगवान से कुछ भी नहीं छिपता है। किसी के मन में ये शंका रोज आती है कि वह रोज अच्छा करता है तो भी उसके साथ बुरा होता है।

इमेज क्रेडिट- यूट्यूब।

आमतौर पर अक्सर ऐसा देखने या सुनने को मिलता है कि अच्छे लोगों के साथ प्रायः बुरा होता है। अपना बुरा होता देख कई बार लोग अपने व्यवहार में परिवर्तन कर लेते हैं। वहीं जो लोग अपने अच्छे व्यवहार में कोई बदलाव नहीं करते, उन्हें जगह-जगह बुरी यातनाएं झेलनी पड़ती है। इस वजह से लोग कई बार डिप्रेशन में भी चले जाते हैं। जिसका खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ता है। परंतु क्या आपने कभी ऐसा सोचा कि अच्छे लोगों के साथ ऐसा क्यों होता है? यदि नहीं, तो आगे इसे संत इंद्रदेव जी महाराज द्वारा जानते हैं।

संत इंद्रदेव जी महाराज कहते हैं कि एक बुरा व्यक्ति जो हमें बुरा दिखता है और बुरा करता भी है, फिर भी उसका सब अच्छा होता है। वहीं जो व्यक्ति मंदिर में जाकर मंदिर की सीढ़ियों को घिस दिया फिर भी उसके साथ हमेशा बुरा होता है। इंद्रदेव जी महाराज के अनुसार भगवान से कुछ भी नहीं छिपता है। किसी के मन में ये शंका रोज आती है कि वह रोज अच्छा करता है तो भी उसके साथ बुरा होता है। साथ ही जो दूसरों का बुरा करता है उसका सब अच्छा होता है। ऐसा सोचकर वह भगवान की पूजा-आरती बंद कर सकता है।

कथा में महाराज जी कहते हैं कि बुरा होने पर भी व्यक्ति भगवान की आरती बंद नहीं करनी चाहिए। क्योंकि बुरा करके अच्छा करने वाला थोड़ा अच्छा करके आया है जो व्यक्ति को मालूम नहीं है। फिर संत इंद्रदेव जी आगे कहते हैं कि भगवान की माया के बारे में किसी को पता नहीं होता है। अच्छा करने के बाद भी किसी को बुरा दे रहे हैं और किसी को बुरा करने के बाद भी अच्छा दे रहे हैं, ये उन्हीं की माया है, वही जानें। अच्छे व्यक्ति के साथ भी जब बुरा होता है तो यह समझना चाहिए उसने जो पूर्व जन्म में बुरा किया है यह उसी का परिणाम है। इसलिए हर इंसान को चाहिए कि वह इस जन्म में कुछ अच्छा करे ताकि उसे अगले जन्म में बुरा न सहना पड़े।

Next Stories
1 जानिए, शेषनाग ने पृथ्वी को क्यों किया अपने फन पर धारण ?
2 चाणक्य नीति: मुसीबत के समय हर इंसान को करना चाहिए ये 1 काम
3 मनोकामना पूर्ति के लिए ‘आषाढ़’ मास में ये काम रहना है शुभ, जानिए किन कामों में बरतनी चाहिए सावधानी
ये पढ़ा क्या?
X