ताज़ा खबर
 

जानिए, वाहन दुर्घटना से बचाव के लिए क्यों किए जाते हैं ज्योतिष के ये उपाय

वाहन दुर्घटना को ज्योतिष शास्त्र से जोड़कर भी देखा गया है। जिसके अनुसार कुंडली में कुछ अशुभ ग्रहों के संयोग से दुर्घटना के योग बनते हैं।

Author नई दिल्ली | April 16, 2019 5:26 PM
सांकेतिक तस्वीर।

भागदौड़ भरी जिंदगी में आज हर कोई खुद को सुरक्षित रखना चाहता है। यह सुरक्षा व्यक्ति अपने जीवन के हर पहलू में देखना चाहता है। इसके लिए वह प्रयास भी करता है लेकिन कई बार जल्दबाजी में सड़क पर चलते वक्त या वाहन चलाते समय न चाहते हुए भी दुर्घटना हो जाती है। दुर्घटना को ज्योतिष शास्त्र से जोड़कर भी देखा गया है। जिसके अनुसार कुंडली में कुछ अशुभ ग्रहों के संयोग से दुर्घटना के योग बनते हैं। दुर्घटना से बचने के लिए सतर्कता तो जरूरी है ही साथ-साथ कुछ अशुभ ग्रहों के प्रभाव से भी बचने की सलाह ज्योतिषियों द्वारा दी जाती है। आगे ज्योतिष के अनुसार जानते हैं कि वाहन दुर्घटना से बचाव के लिए ये उपाय क्यों किए जाते हैं?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार व्यक्ति की जन्म कुंडली का चौथा भाव वाहन योग को दर्शाता है। इस भाव के स्वामी यदि पीड़ित हो जाए, अस्त या नीच हो जाए। साथ ही चौथे भाव के स्वामी का योग किसी पापी ग्रह से हो जाए। इसके अलावा यदि चौथे भाव पर यदि राहु-शनि की दृष्टि हो तो ऐसे में वाहन दुर्घटना की संभावना बढ़ जाती है। ज्योतिष में कुंडली के चौथे भाव का स्वामी शुक्र को माना जाता है। जब कुंडली में शुक्र ग्रह किसी भी कारण से अशुभ या कमजोर होता है तो ऐसे में भी वाहन दुर्घटना के योग और बढ़ जाते हैं। ऐसे में ज्योतिष शास्त्र में कई उपाय किए जाते हैं। इस उपाय को करने की पीछे उद्देश्य यही होता है कि भविष्य में किसी प्रकार का वाहन दुर्घटना न हो।

ज्योतिष के अनुसार वाहन दुर्घटना से बचाव के लिए सबसे पहले एक छोटा सा चौकोर लाल रुमाल लिया जाता है। इस लाल रुमाल के चारों किनारे पर लाल चंदन में गंगाजल मिलाकर स्वस्तिक बनाएं जाते हैं। साथ ही रुमाल के बीच में भी एक स्वस्तिक बनाया जाता है और उनमें कुछ छुहारे रख दिए जाते हैं। साथ ही साथ हनुमान जी का स्मरण भी किया जाता है। इसके बाद ॐ श्री रामाय, ॐ श्री हनुमते नमः का 108 बार जाप किया जाता है। साथ ही श्रीराम और हनुमान जी का ध्यान करते हुए दक्षिण दिशा की तरफ मुख करके आप उन छुहारों को रुमाल में बांध लिया जाता है। फिर इस पोटली को अपने घर में या किसी हनुमान मंदिर में जाकर हनुमान जी के चरणों से लगाकर अपने वाहन में रख लिया जाता है। माना जाता है कि ऐसा करने से हर प्रकार की वाहन दुर्घटना से बचाव होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App