X

वास्तु के हिसाब से जानिए कैसा होना चाहिए ऑफिस का फर्नीचर

कहते हैं कि ऑफिस का फर्नीचर कभी भी 'L' आकार का नहीं होना चाहिए। कहा जाता है कि 'L' आकार की फर्नीचर होने से ऑफिस में नकारात्मकता बढ़ती है।

वास्तु शास्त्र में ऑफिस यानी कि दफ्तर के बारे में कई सारी बातें कही गई हैं। इन्हीं में से एक यह है कि ऑफिस का फर्नीचर कैसा होना चाहिए। आज हम इसी बारे में विस्तार से बात करने जा रहे हैं। वास्तु शास्त्र के मुताबिक ऑफिस का फर्नीचर हमेशा चौकोर या आयताकार होना चाहिए। इस तरह का फर्नीचर ऑफिस के लिए शुभ माना जाता है। कहते हैं कि ऑफिस का फर्नीचर कभी भी ‘L’ आकार का नहीं होना चाहिए। कहा जाता है कि ‘L’ आकार की फर्नीचर होने से ऑफिस में नकारात्मकता बढ़ती है। इसके साथ ही इससे ऑफिस के कर्मचारियों के बीच तनाव बढ़ने की भी मान्यता है।

ऐसा कहते हैं कि लकड़ी के फर्नीचर ऑफिस की दक्षिण-पूर्व दिशा में रखें। या फिर, फर्नीचर को पूर्व अथवा दक्षिण दिशा में भी रख सकते हैं। मालूम हो कि मंगलवार, शनिवार और अमावस्या के दिन फर्नीचर खरीदने के लिए मना किया गया है। इसके साथ ही फर्नीचर की लकड़ी किसी सकारात्मक वृक्ष की होनी चाहिए। शीशम, चंदन, सागवान, अर्जुन या नीम के पेड़ को इसके लिए शुभ माना गया है। मान्यता है कि इन पेड़ों की लकड़ियों से बनी फर्नीचर सकारात्मकता लाती है।

वास्तु शास्त्र में इस बारे में भी बताया गया है कि घर का फर्नीचर कैसा होना चाहिए। इसके हिसाब भारी फर्नीचर को सदा दक्षिण और पश्चिम दिशा में रखना चाहिए। ऐसी मान्यता है कि इस बात का पालन ना करने से घर के लोगों को आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर में सदैव लकड़ी से जुड़ा कार्य दक्षिण या पूर्व दिशा से आरंभ करना चाहिए। और इसे उत्तर या पूर्व दिशा में समाप्त करना चाहिए। मालूम हो कि फर्नीचर बनाने के लिए लकड़ी को सदा घर की उत्तर या पूर्व दिशा में रखने के लिए कहा गया है।

  • Tags: Religion,
  • Outbrain
    Show comments