ताज़ा खबर
 

Karwa Chauth 2019 Date and Day: करवा चौथ कब है? जानिए तिथि, तारीख और खास संयोग

Karwa Chauth 2019 Date and Day: Karwa Chauth date, Shubh Muhurat, special coincidence: यह व्रत सूर्योदय होने से पहले आरंभ किया जाता है और सूर्यास्त के बाद चाँद निकलने तक रखा जाता है।

Author नई दिल्ली | Updated: October 11, 2019 6:55 PM
Karwa Chauth 2019 Date: सामाजिक मान्यता है कि सुहागिन महिलाएं यदि करवा चौथ व्रत का विधिवत पालन करें तो उनके पति की आयु लंबी होती है।

Karwa Chauth 2019, Date, Puja Vidhi, Muhurt: करवा चौथ कार्तिक मास की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है। इस बार यानि साल 2019 में करवा चौथ का का व्रत 17 अक्टूबर दिन गुरूवार को रखा जाएगा। इस व्रत में महिलाएं बिना जल ग्रहण किए व्रत रखतीं हैं और रात के वक्त चाँद निकलने के बाद व्रत का पारण करती हैं। सामाजिक मान्यता है कि सुहागिन महिलाएं यदि करवा चौथ व्रत का विधिवत पालन करें तो उनके पति की आयु लंबी होती है। साथ ही वैवाहिक जीवन खुशहाल रहता है। यह व्रत सूर्योदय होने से पहले आरंभ किया जाता है और सूर्यास्त के बाद चाँद निकलने तक रखा जाता है। इस व्रत को लेकर एक मान्यता यह भी है कि इसमें सास अपनी बहू को सरगी देती है जिसे लेकर व्रती महिला व्रत की शुरूआत करती है।

बन रहा है ये खास संयोग (Karwa Chauth 2019 Date in India)

करवा चौथ पर इस बार रोहिणी नक्षत्र और मंगल का विशेष शुभ संयोग बन रहा है। करवा चौथ पर बनने वाला यह संयोग 70 साल बाद बन रहा है। ज्योतिष के जानकार पंडित धनंजय पांडेय के मुताबिक करवा चौथ पर रोहिणी नक्षत्र और मंगल का योग अत्यधिक मंगलकारी है। इसके अलावा इस करवा चौथ पर रोहिणी नक्षत्र के साथ सत्यभामा और मार्कण्डेय योग भी बन रहा है जो अन्य योगों की तुलना में शुभकारी है। यह शुभ संयोग भगवान श्रीकृष्ण और सत्यभामा के मिलन के समय बना था।

करवा चौथ तिथि (Karwa Chauth 2019 Tithi)

  • 17 अक्टूबर, 2019, दिन-गुरूवार
  • करवा चौथ पूजा मुहूर्त- शाम 05 बजकर 50 मिनट से 07 बजकर 05 मिनट तक।
  • कुल अवधि (पूजा के लिए)- 01 घंटा 15 मिनट
  • करवा चौथ व्रत समय- सुबह 06 बजकर 23 मिनट से रात 08 बजकर 16 मिनट तक।
  • व्रत की अवधि- 13 घंटे 15 मिनट।
  • करवा चौथ के दिन चाँद निकलने का समय- 08 बजकर 16 मिनट
  • चतुर्थी तिथि की शुरूआत- 17 अक्टूबर को सुबह 06 बजकर 48 मिनट से
  • चतुर्थी तिथि का समापन- 18 अक्टूबर सुबह 07 बजकर 29 मिनट

करवा चौथ और संकष्टी चतुर्थी एक दिन पड़ते हैं। संकष्टि चतुर्थी पर भगवान गणेश की पूजा की जाती है। वहीं करवा चौथ के दिन विवाहित महिलाएं पति की लंबी आयु की कामना के लिए निर्जला व्रत रखकर भगवान शिव, पार्वती और कार्तिकेय की पूजा करतीं हैं। संध्या काल में चाँद देखने के बाद अर्घ्य देकर व्रती अपना व्रत तोड़ती हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Chanakya Niti: गलत ढंग से कमाया हुआ पैसा टिकता है केवल 10 साल, चाणक्य से जानिए क्या होता है उसके बाद
2 कब है अगला ग्रहण? जानिए, सूर्य और चंद्र ग्रहण के बीच अंतर
3 Papankusha Ekadashi Katha, Muhurat, Puja Vidhi: पापांकुशा एकादशी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, व्रत कथा, विधि और पारण का समय