ताज़ा खबर
 

Kamada Ekadashi‬ 2019: जानिए, कामदा एकादशी कब और क्या है पारण का शुभ मुहूर्त

Kamada Ekadashi‬ 2019: माना जाता है कि एकादशी व्रत का पारण द्वादशी तिथि खत्म होने से पहले ही करना आवश्यक है। वहीं अगर द्वादशी तिथि सूर्योदय से पहले समाप्त हो गई हो तो ऐसे में एकादशी व्रत का पारण सूर्योदय के बाद ही करना चाहिए।

Ekadashi‬, Kamada Ekadashi‬, ‪Kamada Ekadashi ‪Vrata‬‬, Ekadashi 2019, Ekadashi vrat, ‪Kamada Ekadashi poojan vidhi, ‪Kamada Ekadashi vrat vidhi, Kamada Ekadashi vrat katha,एकादशी, कामदा एकादशी, भगवान विष्णु, एकादशी व्रत, कामदा एकादशी पूजन विधिभगवान विष्णु।

Kamada Ekadashi‬ 2019: कामदा एकादशी चैत्र शुक्लपक्ष की एकादशी को मनाया जाता है। साल 2019 में यह एकादशी 15 अप्रैल, सोमवार को मनाई जाएगी। चैत्र नवरात्रि और राम नवमी के बाद यह पहली एकादशी है। समय – चैत्र शुक्ल पक्ष की एकादशी को कामदा एकादशी के रूप में जाना जाता है।

चैत्र नवरात्रि और राम नवमी के बाद यह पहली एकादशी है। शास्त्रों के अनुसार कामदा एकादशी का व्रत रखने से सभी पापों से छुटकारा मिल जाता है। इसके अलावा यह भी माना जाता है कि कामदा एकादशी व्रत के प्रभाव से ब्रह्म हत्या जैसे पापों से भी मुक्ति मिल जाती है। आगे जानते हैं कामदा एकादशी व्रत और पारण का शुभ मुहूर्त क्या है?

शास्त्रों के मुताबिक एकादशी व्रत दो चरणों में होता है। इसके पहले भाग में व्रत रखा जाता है और फिर व्रत के अगले दिन पारण कर व्रत खोला जाता है। कई जगहों पर व्रती एकादशी के व्रत के बाद पारण करने से पहले ब्राह्मण भोजन कराते हैं। एकादशी व्रत को समाप्त करने की विधि को पारण कहते हैं। जिस दिन एकादशी होता है उसके अगले दिन सूर्योदय के बाद पारण किया जाता है।

माना जाता है कि एकादशी व्रत का पारण द्वादशी तिथि खत्म होने से पहले ही करना आवश्यक है। वहीं अगर द्वादशी तिथि सूर्योदय से पहले समाप्त हो गई हो तो ऐसे में एकादशी व्रत का पारण सूर्योदय के बाद ही करना चाहिए। क्योंकि द्वादशी तिथि के अंदर पारण नहीं करना पाप के बराबर माना गया है। इसके अलावा कामदा एकादशी व्रत का पारण हरि वास के दौरान नहीं करना चाहिए। हरि वास द्वादशी तिथि के पहले प्रहर का एक चौथाई अवधि होती है। इसलिए जो भक्त एकादशी व्रत रखते हैं उन्हें हरि वास समाप्त होने का इंतजार करना चाहिए।

कामदा एकादशी शुभ मुहूर्त

  • एकादशी तिथि आरंभ- 15 अप्रैल 2019 को 07:08 बजे
  • एकादशी तिथि समाप्त- 16 अप्रैल 2019 को 04:22 बजे
  • पारण (व्रत तोड़ने) का समय 16 अप्रैल 2019 को 05:58 से 08:31
  • पारण तिथि के दिन हरि वास समाप्त होने का समय- 09:39

विशेष: पारण के दिन द्वादशी सूर्योदय से पहले समाप्त हो जाएगी

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Happy Ashtami 2019: जानिए नवरात्रि में क्या है अष्टमी का महत्व और किस विधि से होती है पूजा
2 Happy Ashtami 2019: ये है अष्टमी के दिन मां महागौरी की पूजा-विधि, जानें व्रत कथा
3 Horoscope Today, April 13, 2019: मकर राशि के लोगों को बिजनेस से होगा लाभ, जानिए अपना वित्त राशिफल
ये पढ़ा क्या?
X