ताज़ा खबर
 

सत्संग-भजन से इकट्ठे पैसों का क्या करती हैं साध्वी जया किशोरी? जानिए

जया किशोरी (Jaya Kishori) जब नौ साल की थीं तभी रामाष्टकम्, लिंगाष्टकम और शिव तांडव स्तोत्र का पाठ कर लिया करती थीं। अध्यात्म में आगे बढ़ने के लिए उन्होंने पण्डित गोविंदराम मिश्र से आध्यात्मिक दीक्षा ली।

jaya kishori, jaya kishori lifestyle, jaya kishori life history in hindiसाध्वी जया किशोरी की लाइफ स्टोरी-

Jaya Kishori Biography: ‘काली कमली वाला मेरा यार है, मेरे मन का मोहन तू दिलदार है’ जैसे कृष्ण भजनों के लिए मशहूर 25 साल की जया किशोरी के लाखों प्रशंसक हैं। श्रीमद् भागवत कथा और नानी बाई रो मायरा से पहचान बनाने वालीं जया किशोरी के प्रशंसकों में भारतीय ही नहीं बल्कि विदेशी भी शामिल हैं। वे दूसरे देशों में कथा वाचन-भजन के लिए जाती रहती हैं। जया किशोरी के कई भजनों को तो करोड़ों बार देखा गया है। उनके प्रशंसक लाइफ मैनेजमेंट पर उनकी सलाह को भी खूब मानते हैं।

13 जुलाई 1995 को कोलकाती में जन्मीं जया किशोरी ने एक इंटरव्यू में बताया था कि वो सत्संग-भजन से इकट्ठे पैसों को नारायण सेवा संस्थान ट्रस्ट को दान करती हैं। नारायण सेवा संस्थान एक सामाजिक संस्था है, जो दिव्यांग लोगों की सहायता करता है। जया का कहना है कि उन्हें असहाय लोगों का सहारा बनने में खुशी मिलती है। वो हर समय उनके पास नहीं रह सकती है, लेकिन अगर कुछ दान करके वो उनकी मदद कर पाएं तो उन्हें खुशी महसूस होती है। उनका कहना है कि वो ऐसा करके स्वयं को भगवान के और करीब पाती हैं।

9 साल की उम्र में याद कर लिया था शिव तांडव स्तोत्र: जया किशोरी के पिता का नाम शिव शंकर शर्मा और माता का नाम सोनिया शर्मा है। जया किशोरी की एक छोटी बहन भी हैं, जिनका नाम चेतना शर्मा हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जया जब नौ साल की थीं तभी रामाष्टकम्, लिंगाष्टकम और शिव तांडव स्तोत्र का पाठ कर लिया करती थीं। अध्यात्म में आगे बढ़ने के लिए उन्होंने पण्डित गोविंदराम मिश्र से आध्यात्मिक दीक्षा ली। इनके आध्यात्मिक गुरु ने भगवान श्री कृष्ण के प्रति इनका प्रेम और समर्पण भाव देखकर इनका नाम जया किशोरी रख दिया।

आपको बता दें कि राधा जी का एक नाम किशोरी भी है। जया किशोरी के यूट्यूब चैनल पर उनके 5.12 लाख सब्सक्राइबर्स हैं, जबकि फेसबुक पर उन्हें 16 लाख से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं। साथ ही इंस्टाग्राम के ऑफिशियल अकॉउंट पर इनके 12 लाख फॉलोवर्स हैं। स्वभाव से सौम्य और शांत जया किशोरी को उनकी सादगी के लिए भी जाना जाता है। मूल रूप से राजस्थान से होने के कारण वे राजस्थानी भाषा के मीठे शब्दों में घोल कर ‘नानी बाई रो मायरा’ कथा सुनाती हैं, जो बरबस ही लोगों को अपनी तरफ खींच लेता है।

बता दें कि  जया किशोरी ने कोलकाता के महादेवी बिडला वर्ल्ड अकादमी से पढ़ाई की है। अपनी शादी की बात पर वे कहती हैं कि वे एक सामान्य लड़की हैं। जैसे दूसरी लड़कियां शादी करती हैं, वैसे ही वे भी शादी करेंगी। बता दें कि जया किशोरी को फेम इंडिया एशिया पोस्ट सर्वे 2019 का यूथ आइकॉन अवॉर्ड भी मिल चुका है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 संकष्टी चतुर्थी की ये प्राचीन कथा पढ़ने-सुनने से मनोकामना पूरी होने की है मान्यता 
2 संकष्टी चतुर्थी पर करें भगवान गणेश के इन मंत्रों का जाप, धन प्राप्ति से लेकर गृह क्लेश तक दूर होने की है मान्यता
3 संकष्टी चतुर्थी पर कैसे करें भगवान गणेश को प्रसन्न, जानिये विधि और आरती
IPL 2020: LIVE
X