ताज़ा खबर
 

जानिये विश्वकर्मा पूजा का शुभ मुहूर्त, इन दिन बनने वाले खास योग और अन्य जानकारियां

आज देशभर में विश्वकर्मा पूजा का त्योहार मनाया जा रहा है। कुछ मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान विश्वकर्मा (Bhagwan Vishwakarma) का जन्म हुआ था।

vishwakarma puja 2020, Bhagwan Vishwakarma, Kanya Sankrantiहर साल आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को विश्वकर्मा पूजा मनाई जाती है।

Vishwakarma Puja 2020 : दृग पंचांग के अनुसार इस साल विश्वकर्मा पूजा आज यानी 16 सितंबर को मनाया जा रहा है। कुछ मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान विश्वकर्मा (Bhagwan Vishwakarma) का जन्म हुआ था। जबकि कुछ लोगों का मानना है कि यह दिन भगवान विश्वकर्मा के धरती को दिए अनमोल उपहार के लिए आभार प्रकट करने के लिए मनाया जाता है। हर साल आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को विश्वकर्मा पूजा मनाई जाती है। कहते हैं कि जब सूर्य कन्या राशि में गोचर करते हैं तब कन्या संक्राति (Kanya Sankranti) मनाई जाती है और इसी दिन ही भगवान विश्वकर्मा का जन्म हुआ था।

विश्वकर्मा पूजा शुभ मुहूर्त 2020 (Vishwakarma Puja Shubh Muhurat 2020/ Vishwakarma Puja Ka Shubh Muhurat)
चतुर्दशी तिथि आरंभ – 15 सितंबर, मंगलवार – रात – 11:01 से
चतुर्दशी तिथि समाप्त – 16 सितंबर, बुधवार – शाम – 07:56 तक
चतुर्दशी पूजा का शुभ मुहूर्त – 16 सितंबर, बुधवार – सुबह 10 बजकर 09 मिनट से 11 बजकर 37 मिनट तक

विश्वकर्मा पूजा के खास संयोग (Vishwakarma Puja Sanyog/ Vishwakarma Puja Shubh Sanyog)
आज के दिन कोई अभिजीत मुहूर्त नहीं है। लेकिन अमृत काल के मुहूर्त में पूजा करना शुभ माना जाता है। यह मुहूर्त सुबह 10 बजकर 9 मिनट से सुबह 11 बजकर 37 मिनट तक रहेगा। जबकि दोपहर 02 बजकर 19 मिनट से दोपहर 3 बजकर 08 मिनट तक विजय योग बना रहेगा।
शाम 06 बजकर 12 मिनट से शाम 6 बजकर 36 मिनट तक गोधूलि मुहूर्त रहेगा।

इसके अलावा पूजा का निशिता मुहूर्त रात 11 बजकर 52 मिनट से अर्धरात्रि 12 बजकर 39 मिनट तक रहेगा। माना जा रहा है कि इन सब योगों के एक दिन पड़ने से विश्वकर्मा पूजा का दिन और खास बन गया है। ज्योतिषों की मानें तो इस साल भगवान विश्वकर्मा की पूजा करने का कई गुण अधिक फल मिलेगा। इसलिए इस साल भगवान विश्वकर्मा की पूजा जरूर की जानी चाहिए।

विश्वकर्मा पूजा राहु काल (Vishwakarma Puja Rahu Kaal/ Rahu Kaal Ka Samay)
दोपहर 12 बजकर 16 मिनट से लेकर 01 बजकर 48 मिनट तक राहु काल रहेगा। माना जाता है कि राहु काल में पूजा का फल नहीं मिलता है। इसलिए भूलकर भी इस समयावधि भगवान विश्वकर्मा की पूजा न करें। कहते हैं कि राहु काल में पूजा करने से नकारात्मक फलों की प्राप्ति होती है जिससे कारोबार में असफल होने के योग बनने लगते हैं। भगवान विश्वकर्मा की पूजा शुभ मुहूर्त में ही करें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 विश्वकर्मा पूजा बगैर आरती के मानी जाती है अधूरी, सुख-समृद्धि के लिए इस आरती को सुनें-सुनाएं
2 Vishwakarma Puja 2020 Puja Vidhi, Timings : शिल्प और वास्तु कला से जुड़े लोगों के लिए विशेष होता है विश्वकर्मा पूजा, जानिये पूजा विधि
3 Horoscope Today, 16 SEPTEMBER 2020: कर्क और सिंह राशि के जातकों का बढ़ेगा आत्मविश्वास, वृश्चिक वाले खानपान में रखें नियंत्रण
ये पढ़ा क्या?
X