ताज़ा खबर
 

विनायक चतुर्थी 2017: छात्र करें बुद्धि के देवता गणेश की पूजा, मिलेगा वरदान

नियमित रुप से भगवान गणेश का पूजन करने से बुद्धि और विद्या की प्राप्ति होती है।

विनायक चतुर्थी का व्रत जीवन की शांति और सुख के लिए किया जाता है।

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार भगवान गणेश को सभी देवताओं में प्रथम पूजनीय माना जाता है। मान्यता है कि किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत से पहले भगवान गणेश का पूजन करने से सभी परेशानियां खत्म हो जाती हैं इसलिए ही इन्हें संकटमोचन और विघ्नहर्ता माना जाता है। मान्यता है कि चतुर्थी के दिन भगवान गणेश की पूजा और उनका व्रत करना फलदायी होता है। हिंदू पंचाग के अनुसार हर माह में दो बार चतुर्थी का व्रत आता है। जिसमें कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहा जाता है। इस दिन भगवान गणेश की विशेष पूजा से लाभ प्राप्त होता है।

मान्यता है कि जो इस दिन उपवास का पालन करते हैं उन भक्तों को भगवान गणेश ज्ञान और धैर्य के साथ आशीर्वाद देते हैं। बुद्धि और धैर्य दो ऐसे गुण हैं जिनके महत्व को मानव जाति में युगों से पहचान बनाए हुए हैं। जो कोई इन गुणों को पाना चाहता है वो जीवन की प्रगति कर सकता है साथ ही अपनी इच्छाओं की पूर्ति भी कर सकता है। विनायक चतुर्थी का पूजन दिन के मध्य में किया जाता है जिसे हिंदू पंचाग के अनुसार मध्यान्ह कहा जाता है। विनायक चतुर्थी का व्रत जीवन की शांति और सुख के लिए किया जाता है। इस दिन संतान की इच्छा रखने वाली महिलाएं व्रत करती हैं। इसके अलावा घर और परिवार के लिए महिलाएं भगवान गणेश की उपासना करती हैं। माना जाता है कि किसी भी दिन पूजा से पहले भगवान गणेश की पूजा और उनकी आरती करने से ही पूजा सफल होती है।

नियमित रुप से भगवान गणेश का पूजन करने से बुद्धि और विद्या की प्राप्ति होती है। छात्रों को भगवान गणेश का पूजन अवश्य करना चाहिए क्योंकि गणेश को बुद्धि का देवता माना जाता है। भगवान गणेश के आशीर्वाद से छात्र मेधावी बनते हैं। इस विनायक चतुर्थी पर भगवान गणेश का पूजन करके चंद्रमा को अर्घ्य देना शुभ माना जाता है। इस दिन भगवान गणेश पर सिंदूर अर्पित और मोदक का भोग लगाया जाना शुभ माना जाता है। साफ मन से यदि भगवान गणेश की पूजा की जाए तो गणपति सभी विघ्न हर लेते हैं और मानसिक सुख की प्राप्ति होती है। घर में सुख-समृद्धि आती है। आज के दिन भगवान गणेश को प्रसन्न करने के लिए हरा रंग पहना जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App