ताज़ा खबर
 

ज्योतिष शास्त्र: जानिए शुक्र ग्रह का हमारे जीवन पर पड़ता है कितना असर!

शुक्र को जीवन के सौन्दर्य और विलासिता का कारक भी माना गया है। शुक्र के मजबूत होने से ही व्यक्ति के जीवन में ग्लैमर आता है।

सांकेतिक तस्वीर।

ज्योतिष शास्त्र में कुल नौ ग्रहों का अध्ययन किया जाता है। ज्योतिष के मुताबिक इन ग्रहों का हमारे ऊपर काफी प्रभाव पड़ता है। शुक्र इन्हीं ग्रहों में से एक है। शुक्र को शुभ ग्रह कहा गया है। शुक्र को आचार्य की पदवी प्राप्त है। ज्योतिष में कहा गया है कि शुक्र कुंडली में आमतौर पर शुभ दशा में ही रहता है। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, शुक्र ही व्यक्ति के जीवन के सुखों को निर्धारित करता है। शुक्र से ही परिवार में खुशियां आती हैं। साथ ही व्यक्ति को जीवित करने वाली मृत संजीवनी विद्या शुक्र के पास है। आमतौर पर ऐसा कहा जाता है कि शुक्र की कृपा से मरता हुआ व्यक्ति भी जीवित हो जाता है। कहते हैं कि कुंडली में शुक्र की दशा ही व्यक्ति के जीवन की खुशियों को निर्धारित करती है।

ज्योतिष शास्त्र में शुक्र को वैभव, विलास, सुख, प्रेम और धन-संपत्ति का कारक माना गया है। इसका तात्पर्य यह है कि जिस व्यक्ति की कुंडली में शुक्र की दशा मजबूत होती है उसे अपने जीवन में वैभव, विलास, सुख,  प्रेम और धन-संपत्ति की प्राप्ति होती है। कहते हैं कि शुक्र की स्थिति खराब होने से व्यक्ति को पारिवारिक कलह का सामना करना पड़ता है। परिवार में बात-बात पर झगड़े होने लगते हैं।

शुक्र को जीवन के सौन्दर्य और विलासिता का कारक भी माना गया है। शुक्र के मजबूत होने से ही व्यक्ति के जीवन में ग्लैमर आता है। चमकदार सफेद रंग, काम भाव, प्रेम और हीरा को शुक्र का अधिकार क्षेत्र माना गया है। कहते हैं कि मांगलिक कार्य के दौरान शुक्र को जरूर याद करना चाहिए। इससे उस मंगल कार्य में सफलता मिलती है। साथ ही ब्रह्मांड में शुक्र की दशा कमजोर होने पर मंगल कार्य नहीं करने की सलाह दी जाती है। ऐसा करने पर उस काम में शुभ फल प्राप्त नहीं होता।

Next Stories
1 राशि के हिसाब से जानिए पर्स में रखनी चाहिए किसकी तस्वीर!
2 बुरे सपनों का क्या है ज्योतिषीय कनेक्शन, जानिए
3 हिंदू धर्म में नया साल चैत्र महीने से क्यों शुरू होता है, जानिए
ये पढ़ा क्या ?
X