ताज़ा खबर
 

…इसलिए नई गाड़ी खरीदने पर की जाती है वाहन पूजा!

कुछ लोगों का वाहन अक्सर खराब हो जाता है। ज्योतिष की मानें तो ऐसा व्यक्ति की कुंडली में शनि और मंगल की दशा खराब होने की वजह से होता है।

Author नई दिल्ली | December 3, 2018 11:42 AM
वाहन पूजा करते लोग। (Photo: Youtube ScreenShot)

हिंदू धर्म में नई गाड़ी खरीदने पर उसकी पूजा की जाती है। इसे वाहन पूजा कहा जाता है। आपने भी कोई नई गाड़ी खरीदने पर वाहन पूजा की होगी। लेकिन क्या आप जानते हैं कि वाहन पूजा क्यों की जाती है? वाहन पूजा करने के क्या लाभ हैं? यदि नहीं तो हम आपको इस बारे में विस्तार से बता रहे हैं। हिंदू धर्म में वाहन को भगवान गरुड़ का स्वरूप माना गया है। गरुड़ जी की कृपा से ही व्यक्ति यात्राएं करता है। ऐसी मान्यता है कि गरुड़ जी की कृपा होने से व्यक्ति यात्रा का आनंद उठाता है। कहते हैं कि नई गाड़ी खरीदने पर वाहन पूजा जरूर करनी चाहिए। माना जाता है कि इससे व्यक्ति यात्रा के दौरान सुरक्षित रहता है। वाहन पूजा करने से गाड़ी किसी दुर्घटना का शिकार नहीं होती।

ज्योतिष शास्त्र में भी वाहनों का उल्लेख किया गया है। कुछ लोगों का वाहन अक्सर खराब हो जाता है। ज्योतिष की मानें तो ऐसा व्यक्ति की कुंडली में शनि और मंगल की दशा खराब होने की वजह से होता है। माना जाता है कि शनि और मंगल की स्थिति कमजोर होने से व्यक्ति वाहन सुख से दूर हो जाता है। व्यक्ति का वाहन बार-बार खराब होने लगता है। इस दशा में सड़क दुर्घटना होने की भी आशंका रहती है। इसलिए वाहन सुख पाने के लिए कुंडली में शनि और मंंगल को मजबूत रखने के उपाय करने की सलाह दी जाती है।

पूजा विधि: वाहन पूजा के लिए कर्पूर, नारियल, फूलमाला, कलश, गुड़ या मिठाई, कलावा, सिंदूर, घी, इत्यादि सामग्री लें। घर में नए वाहन के प्रवेश से पहले आम के पत्ते से तीन बार गंगा जल छिड़कें। जल छिड़काव करने के बाद वाहन पर सिन्दूर व धी के तेल के मिश्रण से स्वस्तिक का निशान बना दें। इसे वाहन पर लगाना शुभ माना जाता है। यह निशान बनाने के बाद वाहन को फूलमाला पहनाएं और वाहन पर तीन बार कलावा लपेट दें। घर के बाहर वाहन की कर्पूर से आरती करें। इसके बाद कलश में रखे जल को दाएं-बाएं डाले दें। अब अपने वाहन पर मिठाई रख दें और पूजा के बाद इस मिठाई को गाय को खिला दें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App